पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Only 30 Percent Of The Roads Dug Have Been Built So Far, That Too In Such A Way That After A Few Days, It Has Become Worse Than Before.

नमामि गंगे में फंसी राजधानी:खोदी गई 30 फीसदी सड़कों को ही अबतक बनाया, वो भी ऐसे कि कुछ दिन बाद ही पहले से भी ज्यादा हो गईं खराब

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पाटलिपुत्र : जिधर जाइए, उधर सड़क खुदी हुई मिलेगी - Dainik Bhaskar
पाटलिपुत्र : जिधर जाइए, उधर सड़क खुदी हुई मिलेगी
  • मरम्मती के सरकार के दावे पर भड़के वार्ड पार्षद, कहा-गांव से भी बदतर कर दी राजधानी की हालत

शहर में खोदी गई सड़कें लोगों के लिए मुसीबत बन गई हैं। लगातार बारिश ने खोदी गई सड़कों को कीचड़ वाली सड़क में बदल दिया है। अधिकांश इलाकों में खुदाई के बाद मिट्टी से ही सड़क को ढंक दिया गया। लगातार बारिश से ये मिट्टी दलदल में बदल गई है। इसपर भारी वाहन के चलते ही सड़क धंस जाती है। शिकायत करने पर भी नगर निगम के स्तर कार्रवाई नहीं हो रही।

पार्षदों के पास शिकायत कर रहे, तो वे खुद अपनी परेशानी लोगों से बताने लग रहे हैं। सरकार के स्तर पर करीब 94 फीसदी खोदी गई सड़कों को ठीक कर लिए जाने का दावा किया जा रहा है। दैनिक भास्कर की टीम ने खोदी गई सड़कों के मामले में वास्तविक स्थिति की जानकारी स्थानीय वार्ड पार्षद के सहयोग से ली है। उन्हाेंने बताया कि नमामि गंगे के तहत खाेदी गई 70 फीसदी सड़कों की स्थिति अभी ऐसी है कि चलना मुश्किल है।

पाटलिपुत्र : जिधर जाइए, उधर सड़क खुदी हुई मिलेगी

पाटलिपुत्र कॉलोनी में सभी सड़कों को खोद दिया गया है। कॉलोनी एरिया में सीवरेज नेटवर्क बिछाने के लिए खुदाई की गई है। इसको दुरुस्त करने की कार्रवाई नहीं हो पा रही है। पाटलिपुत्र गोलंबर की तरफ से जाएं, सहयोग हॉस्पिटल की तरफ से जाएं या फिर पीएंडएम मॉल की तरफ से कॉलोनी में प्रवेश करें, हर तरफ की सड़क खुदी नजर आएगी। पीएंडएम मॉल के पास निगम की ओर से पंप लगाया गया है। वहां भी सड़क अभी तक रिस्टोर नहीं हो पाई है। गलियों की हालत काफी खराब है। हर गली में काटी गई सड़क पर पानी लगने से मुश्किल बढ़ी हुई है। न्यू पाटलिपुत्र कॉलोनी में भी गलियों में घुसने के साथ ही पानी जमा हुआ दिख रहा है।

पार्षद ने कहा- अधिकारी बताएं कहां ठीक हुई सड़क
वार्ड 22बी की पार्षद सुचित्रा सिन्हा ने कहा कि जो लोग कह रहे हैं कि सड़कों को रिस्टोर किया गया है, उन्हें स्थिति को जमीन पर उतर कर देखना चाहिए। सभी सड़कें खोदी गई हैं। इससे निकलना भी मुश्किल हो रहा है। सरकार के अधिकारी स्थिति को देखकर ही बताएं कि क्या हमारे वार्ड की सड़कें रिस्टोर हुई हैं।

जहां रिस्टोर हुई, वहां भी धंसने लगीं सड़कें
लगातार बारिश ने रिस्टोर हुई सड़कों की भी हालत खराब कर दी है। रोड रेस्टोरशन का अधिकांश कार्य सैदपुर एसटीपी एंड एडज्वाइनिंग नेटवर्क परियोजना के तहत खोदी गई सड़कों पर हुआ है। ये सड़कें एकबार फिर खराब होने लगी हैं। वार्ड 38 में समादार पथ को रीस्टोर किए जाने के बाद फिर गड्‌ढा हो गया है। पार्क रोड में पाइप बिछ गया है, लेकिन गड्‌ढा में केवल मिट्टी डालकर छोड़ दिया गया है।

कदमकुआं मुख्य सड़क रिस्टोर किए जाने के बाद धंस रही है। नाला रोड में दरियापुर मुहाने की तरफ सड़क रिस्टोर होने के बाद धंस गई है। कांग्रेस मैदान रोड को दो दिन पहले रिस्टोर किया गया, अब भी वह जर्जर हो चुकी है। पश्चिमी लोहानीपुर में अभी भी सड़क पर गड्‌ढा बरकरार है। राजेंद्रनगर में प्रेमचंद गोलंबर से मैकडॉवेल गोलंबर के बीच रिस्टोर सड़क फिर से धंस गई है। इससे लोगों को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। बारिश होने के बाद स्थिति और खराब होती है।

पटना सिटी : घरों से निकलने में लगता है डर
न मामि गंगा परियोजना के तहत काटी गई सड़कों की मरम्मत नहीं हाेने से बारिश के बाद घरों से निकलना मुश्किल है। पैदल चलने वाले लोग फिसल कर गिर रहे हैं। हर दिन वाहन चालक दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं। वार्ड संख्या 71 के जमुनापुर, तांती टोला, बुंदेल टोली में सड़क काटने के बाद मिट्टी भर कर छोड़ दिया गया है। बरसात में सड़कें फिर से खराब हाे गई हैं।

खबरें और भी हैं...