पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Oops! Now The Same Picture Of Children's Beds Full Oxygen In Patna, 3 Children In The Grip Of Viral Fever, 3 In Saran, 1 In Gopalganj

तीसरी लहर से पहले... ये हालत:उफ! पटना में अब बच्चों के बेड फुल ऑक्सीजन की फिर वैसी ही तस्वीर, वायरल बुखार की चपेट में बच्चे, सारण में 3, गोपालगंज में 1 की मौत

पटना19 दिन पहले
नालंदा से अपने बच्चे को पीएमसीएच में इलाज कराने के लिए पहुंचा पिता सकरु। मासूम सर्दी, खांसी व बुखार से पीड़ित है। सांस लेने में भी तकलीफ है। बच्चा ऑक्सीजन सर्पोट पर है।
  • राजधानी के 4 बड़े अस्पतालों में नीकू व पीकू बेड अब फुल
  • मुजफ्फरपुर में 24 घंटे में ही 140 नए मरीज आए

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच पटना समेत प्रदेश के कई जिलों में वारयल बुखार का कहर शुरू हो गया है। पीड़ितों में बड़ी संख्या बच्चों की है। परिणाम यह है कि पीएमसीएच, एनएमसीएच, आईजीआईआईएमएस और पटना एम्स में बच्चों के सभी 108 पीकू और नीकू बेड फुल हो गए हैं।

सामान्य बेड भी फुल होने के कगार पर है। इन चारों बड़े अस्पतालों में अभी कुल 467 बेड बच्चों के लिए मौजूद है, जिसमें से 390 पर मरीज भर्ती हैं। अधिकांश बच्चे सर्दी, खांसी, सांस फूलने, बुखार और निमोनिया से पीड़ित होकर इलाज के लिए भर्ती हो रहे हैं। वहीं, मुजफ्फरपुर में पिछले 24 घंटे में 140 नए बच्चे भर्ती हुए हैं।

इनमें 56 की हालत गंभीर हैं। हालांकि यहां के दो प्रमुख अस्पतालों एसकेएमसीएच के पिकू वार्ड के साथ केजरीवाल अस्पताल में 230 से अधिक बच्चे भर्ती हैं। एसकेएमसीएच में एक-एक बेड पर दो-दो बच्चों का इलाज चल रहा है। उधर, भागलपुर के मेडिकल काॅलेज अस्पताल में 70 बेड के शिशु वार्ड में 50 बच्चाें का इलाज चल रहा है।

इनमें 20 बच्चे वायरल फीवर वाले हैं। वहीं, सारण के अमनौर प्रखंड के सिरसा खेमकरण टारापर गांव में 4 दिनों में वायरल फीवर से तीन बच्चियों की मौत हो गई है। गांवावालों का कहना है कि अभी गांव में करीब 60 बच्चे बीमार भी हैं। उनको बुखार है। अब मेडिकल टीम द्वारा गांव में शिविर भी लगाया गया। सिविल सर्जन सुकुमार प्रसाद ने बताया कि चमकी बुखार की कोई पुष्टि नहीं हुई है। वायरल फीवर है। इलाज चल रहा है।

एसकेएमसीएच के पिकू वार्ड में सीवान, , सीतामढ़ी, पूर्वी चंपारण के बच्चे भर्ती हैं। शिशु विशेषज्ञ . शंकर सहनी बोले-ये वायरल बुखार कोरोना ग्रुप के वेरिएंट हो सकते हैं। हालांकि, पांच बच्चों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। छह माह तक के बच्चे चपेट में अधिक हैं।
एसकेएमसीएच के पिकू वार्ड में सीवान, , सीतामढ़ी, पूर्वी चंपारण के बच्चे भर्ती हैं। शिशु विशेषज्ञ . शंकर सहनी बोले-ये वायरल बुखार कोरोना ग्रुप के वेरिएंट हो सकते हैं। हालांकि, पांच बच्चों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। छह माह तक के बच्चे चपेट में अधिक हैं।

मुजफ्फरपुर में 24 घंटे में ही 140 नए मरीज आए

  • 60 बच्चे बीमार हैं सारण के 1 गांव में
  • 50 बच्चे भागलपुर के अस्पताल में भर्ती

गोपालगंज: छुट्‌टी रद्द

  • चमकी बुखार के लक्षण वाले एक बच्चे की मौत के बाद सीएस ने डॉक्टर-कर्मियों की छुट्‌टी रद्द की।

और...बड़ी राहत

  • डॉक्टरों के मुताबिक, बच्चों को न कोरोना और न ही चमकी बुखार, सब ठीक हो रहे हैं। डरें नहीं।

कुल 467 सामान्य बेड भी 83% तक भर गए

  • पीएमसीएच, पीएमसीएच में रोज सर्दी, बुखार, निमोनिया से पीड़ित तीन से छह बच्चे भर्ती हो रहे हैं। यहां 16 बेड का पीकू व 10 बेड का नीकू है। इन सभी पर मरीज हैं। शिशु विभाग में 200 बेड की सुविधा है। पर हर वक्त यहां बेड फुल ही रहता है।
  • आईजीआईएमएस, शिशु विभाग में 71 बेड हैं। बीते 10 से 15 दिन में 45 बच्चे भर्ती हुए हैं। सभी कोरोना निगेटिव हैं। यहां 16 बेड का पीकू और 7 बेड का नीकू है, सभी फुल हैं। बाकी बच्चे वार्ड में भर्ती हैं। हालांकि अभी वार्ड में 26 बेड खाली हैं।
  • पटना एम्स, शिशु विभाग के जनरल वार्ड में 60 बेड हैं। सभी बेड फुल हैं। जबकि पीआईसीयू और एनआईसीयू में कुल 22 बेड है। सभी बेड फुल हैं। विभाग के हेड डॉ. लोकेश तिवारी बोले-दो बच्चे पोस्ट कोविड और एक बच्चा कोरोना संक्रमित भी है।
  • एनएमसीएच, शिशु रोग विभाग में कुल 136 बेड है। इसमें 85 बेड पर मरीज भर्ती हैं। एनएमसीएच के उपाधीक्षक डॉ. सरोज कुमार ने बताया कि अस्पताल में सभी बेडों पर मरीज भर्ती हैं। यहां 22 बेड का नीकू और 15 बेड का पीकू है। सभी पर मरीज भर्ती हैं।

कारण क्या...
एम्स के शिशु रोग विभाग के डॉ. लोकेश तिवारी का कहना है कि यह मौसमी या फिर वायरल भी हो सकता है। इस मौसम में कई तरह के अनजान वायरस से भी बच्चों को परेशानी होती है। वैसे इसका सही कारण पता नहीं है।

सावधानी क्या...साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। घर में यदि किसी बड़े को सर्दी, खांसी है तो बच्चों से दूरी बनाकर रखें। बच्चे यदि पीड़ित हैं तो उन्हें आइसोलेट कर दें।

खबरें और भी हैं...