'अग्निपथ' का साइड इफेक्ट...जहां-तहां रोकी ट्रेनें:बिहार में प्रदर्शन के चलते 5-6 घंटों से फंसी ट्रेनें, दहशत में पैसेंजर्स

पटना4 महीने पहले

केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के विरोध में प्रदर्शन अब रेल यात्रियों को भी भारी पर रहा है। प्रदर्शनकारियों ने छात्रों ने छपरा और कैमूर में पैसेंजर ट्रेन में आग लगा दी। आरा-बक्सर ने भी ट्रेनों को रोक दिया है। इसकी वजह से इस रूट से गुजरने वाली गाड़ियों के आवागमन पर भी फिलहाल रोक लगी है।

ऐसे में पटना से कोटा जाने वाली गाड़ी संख्या 13239 पटना-कोटा एक्सप्रेस को भी पिछले 1 घंटे से पटना जंक्शन पर ही रोका गया है। ये ट्रेन सुबह 11:45 में पटना से खुलती है। वहीं भागलपुर जंक्शन पर ट्रेनें रोक दी गई। इस कारण रेल यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। दैनिक भास्कर ने पटना जंक्शन पर यात्रियों से बातचीत की, आइए जानते हैं...

ट्रेन लेट और गर्मी से यात्री परेशान हो रहे हैं। दैनिक भास्कर ने यात्रियों से बातचीत की तो यात्रियों ने ट्रेन लेट होने से आपत्ति जताई। यात्री आरा निवासी बबलू कुमार ने बताया कि मुझे आरा जाना था। पिछले 1 घंटे से ट्रेन यहां से खुली नहीं है।

एक तो ट्रेन नहीं खुल रही दूसरी गर्मी से परेशान हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि ट्रेन चलती रहती है तो गर्मी कम लगती हैं।

सेना अभ्यर्थियों के प्रदर्शन से कई ट्रेनें लेट चल रही हैं।
सेना अभ्यर्थियों के प्रदर्शन से कई ट्रेनें लेट चल रही हैं।

प्रदर्शन का तरीका गलत है

यात्रियों ने एक स्वर में कहा कि जो भी सेना अभ्यर्थी प्रदर्शन कर रहे हैं ऐसा नहीं करना चाहिए था। अपनी मांग रखने के और भी तरीके हैं। वहीं दूसरी यात्री मीरा कुमारी ने भी बताया कि मुझे आरा जाना है लेकिन ट्रेन खुल ही नहीं रही है। इसकी वजह से काफी परेशानी हो रही है। ऊपर से गर्मी भी उतनी ही तेज है।

तीसरे यात्री रणधीर कुमार ने बताया कि मैं भी मद्रास आईआईटी का छात्र हूं मगर छात्रों द्वारा ये प्रदर्शन करना गलत है। अब हम लोग समय की बर्बादी से परेशान हो रहे हैं। ट्रेन इतनी लेट हो गई है पता नहीं कब खुलेगी। ऊपर से रेलवे प्रशासन की ओर से भी कुछ नही कहा गया है।

बिहार में 'अग्निपथ' का विरोध LIVE