बिहार आए 4600 विदेशी, 50% से ज्यादा लापता:हर विदेशी यात्री से खतरा, इसलिए सभी 38 जिलों में तलाश जारी है

पटना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार में विदेशियों से ओमिक्रॉन का बड़ा खतरा है। एक-दो नहीं, 4600 लोगों ने बिहार से विदेश का कनेक्शन जोड़ा है। 4 से 7 दिसंबर के बीच 3 दिनों के यह आंकड़े चौंकाने वाले हैं। बिहार सरकार के सामने ट्रैकिंग-ट्रेसिंग और टेस्टिंग बड़ी चुनौती बन गई है। विदेश यात्रा से वापस लौटे लोगों में अब तक 50 प्रतिशत की भी ट्रैकिंग नहीं हो पाई है। ऐसे में अब सरकार ने विदेश यात्रा से लौटे लोगों की तलाश तेज कर दी है।

बिहार में विदेश यात्रा से वापस आए लोगों की तलाश में स्वास्थ्य विभाग की टीम लगाई गई है। बिहार के सभी 38 जिलों में अलर्ट जारी किया गया है। कहा गया है कि जब भी विदेश यात्रा से वापस आने वालों की लोकेशन मिले, उसकी ट्रैकिंग कर जांच के लिए सैंपल लिया जाए। ऐसे लोगों की निगरानी बढ़ाने को कहा गया है। राज्य स्वास्थ्य समिति की तरफ से हर दिन संबंधित जिलों को रिपोर्ट भेजी जा रही है। रिपोर्ट के आधार पर ही जांच-पड़ताल कराई जा रही है।

4600 को लेकर बड़ी चुनौती
बिहार में 4600 विदेशी अब तक आए हैं। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक 4600 का आंकड़ा 4 दिसंबर से 7 दिसंबर के बीच पोर्टल पर अपलोड किया गया है। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि ऐसे लोगों में कोरोना के नए स्ट्रेन का खतरा है। 4600 लोगों में अब तक 50 प्रतिशत से कुछ कम ही जांच-पड़ताल की गई है। स्वास्थ्य विभाग से मिले आंकड़ों के मुताबिक बिहार में ऐसे लोगों की तलाश में कई टीमों को लगाया गया और सर्विलांस कराया जा रहा है।

पटना में 680 विदेशी आए, दो की रिपोर्ट पॉजिटिव
पटना में अब तक विदेश यात्रा से 680 लोग आए हैं। इसमें दो लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक लगभग 200 लोगों की जांच हुई है, जिसमें कई रिपोर्ट पेंडिंग है। सुरक्षा को लेकर पूरी तरह से अलर्ट कर दिया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम छापेमारी कर रही है और ऐसे लोगों की तलाश की जा रही है।

पटना में दुबई से वापस लौटे दो लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद से विदेशियों की तलाश तेज कर दी गई है। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि युद्ध स्तर पर सर्च और जांच के लिए अभियान चलाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...