मेट्रो के काम में लगा ट्रक ड्राइवर हुआ था किडनैप:धक्का लगने की वजह से ऑटो ड्राइवर ने साथियों के साथ मिल किया था अपहरण

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपित आटो चालक शशिकांत। - Dainik Bhaskar
आरोपित आटो चालक शशिकांत।

पटना मेट्रो के लिए रॉ मेटेरियल लाने वाले एक ट्रक ड्राइवर का अपहरण कर लिया गया था। उसे एक गैराज में बंधक बनाकर रखा गया था। ट्रक ड्राइवर को छोड़ने के एवज में मेट्रो के अधिकारी से एक लाख रुपए देने की डिमांड की जा रही थी। इस कांड को एक ऑटो ड्राइवर ने अपने साथियों के साथ मिलकर अंजाम दिया था।

यह पूरा मामला पटना के पत्रकार नगर थाना इलाके का है। सूचना मिलने पर पुलिस ने कार्रवाई की और ट्रक ड्राइवर को सकुशल बरामद कर लिया। शातिरों तक पहुंचने के लिए पत्रकार नगर थाना की पुलिस मोबाइल लोकेशन की मदद ली। इस आधार पर ढाई घंटे में ट्रक ड्राइवर सुभाष यादव को मुक्त करा लिया। इस मामले में पुलिस मुख्य आरोपित आटो चालक शशिकांत को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, इसके 8 साथियों की तलाश की जा रही है।

सुभाष यादव मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बलिया के रहने वाले हैं और ट्रक चलाते हैं। हरियाणा नंबर के ट्रक में मेट्रो का सामान लेकर मलाही पकड़ी से न्यू बाइसपास की ओर जा रहे थे। इसी दौरान 90 फीट रोड पर ट्रक की एक आटो से टक्कर हो गई। मामूली रूप ऑटो को नुकसान हुआ। इसके बाद ऑटो ड्राइवर शशिकांत ने अपने 15 साथियों को मौके पर बुला ट्रक चालक की बुरी तरह धुनाई कर दी। हमलावरों के चंगुल से छूटकर सुभाष यादव ट्रक लेकर किसी तरह फोर्ड अस्पताल के समीप मेट्रो कैंप में पहुंचे।

पत्रकार नगर थाना प्रभारी मनोरंजन भारती ने बताया कि पीछे से दो आटो से शशिकांत अपने 8 साथियों के साथ मेट्रो कैंप पहुंच गया और ट्रक ड्राइवर को अपहरण कर आटो में बिठा लिया। बाद में उसे कंकड़बाग के इंदिरा नगर स्थित एक पुराने गैरेज में बंधक बना लिया। उधर शशिकांत ने 11 बार फोन कर मेट्रो के व्यवस्थापक अरविंद सरजेराव से एक लाख रुपये की मांग की। जिसके बाद घटना की सूचना अरविंद ने पुलिस को दी थी। पुलिस ने पीड़ित को मुक्त करा शशिकांत को भी गिरफ्तार कर लिया।