बच्चों की हत्या, मां की खुदकुशी; जानें आंखों देखी:कुएं के पास लोग थे, महिला को देख हट गए; वह बच्चों समेत कूद गई

पटना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पटना के बिक्रम में महिला के दो बच्चों के साथ कुएं में कूदकर आत्महत्या करने के मामले में एक प्रत्यक्षदर्शी ने दैनिक भास्कर से बात की है। उसका नाम राजेश कुमार है, जो उस कुएं के पास अपने कुछ साथियों के साथ बैठे थे। घटना के बारे में उसने जो कुछ भी हमें बताया है, वह हम आपको पढ़ा रहे हैं। इससे पहले VIDEO देखें, बच्चों को कुएं में फेंककर मां भी कूदी

बिक्रम की घटना की आंखों-देखी बताने वाले राजेश कुमार।
बिक्रम की घटना की आंखों-देखी बताने वाले राजेश कुमार।

पढ़िए, कैसे क्या हुआ था कुएं के पास
घटना दोपहर लगभग 12:55 की है, जब राजेश कुमार धर्मकांटे के पास बैठे थे। इसी बीच एक महिला, जिसकी उम्र लगभग 27 वर्ष थी, अपने दो बच्चों को गोद में लिए आई। एक बच्चे की उम्र लगभग डेढ़ वर्ष और हाथ से पकड़े दूसरे बच्चे की उम्र लगभग 3 वर्ष की थी। वह कुएं के पास लगे हैंडपंप के पास पहुंची।

राजेश कुमार समझे कि महिला शौच के लिए एकांत जगह ढूंढ रही है। यह सोचकर राजेश कुमार ने महिला को हिदायत दी कि बच्चे को ठीक से रखिएगा, कुंआ खुला हुआ है। फिर थोड़ी देर के लिए वहां से हट गए ताकि महिला एकांत में शौच कर सके।

राजेश कुमार ने बताया कि जब कुछ देर बाद वहां पहुंचे तो देखा के महिला का कोई अता-पता नहीं है। एक चप्पल कुएं के नजदीक पड़ी थी और दूसरी कुएं के ऊपर रखी थी। जब कुएं के नजदीक पहुंचे और झांककर देखा तो दोनों बच्चे छटपटाते नजर आए। आनन-फानन में उन्होंने इस बात की सूचना बिक्रम थाने को दी और आसपास धर्म कांटा के लिए काम कर रहे स्टाफ को आवाज देकर बुलाया। आवाज देते ही कुछ लोग जमा हो गए और बच्चों को कुएं से निकालने का प्रयास करने लगे। काफी प्रयास के बाद बच्चों को कुएं से निकाला गया, तब तक दोनों की मौत हो चुकी थी।

इस बीच सूचना पाकर बिक्रम थाना प्रभारी धर्मेंद्र कुमार भी पुलिस बल के साथ वहां पहुंचे। महिला के शव को भी निकालने का प्रयास किया जाने लगा। कुछ देर बाद लोगों के प्रयास से महिला के शव को भी बाहर निकाला गया। इस बीच धीरे-धीरे आसपास के लोगों को यह खबर लग गई और फिर हुजूम वहां जमा हो गया। लोग शवों को पहचानने का प्रयास करने लगे, लेकिन काफी प्रयासों के बाद भी नहीं हो सकी।

पुलिस ने जब वहां लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाला तो पता चला कि महिला ने पहले गोद के बच्चे को कुएं में फेंका। उसके बाद तीन वर्ष के बच्चे को कुएं में ढकेला और फिर खुद कूद गई।

(इनपुट; ज्ञान शंकर)