पटना की फैमिली मार्केटिंग करने निकली, बंद फ्लैट उड़े गहने:2 घंटे में लाखों की ज्वेलरी ले गए चोर, कमजोर पेट्रोलिंग का उठाया फायदा

पटनाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
चोरी के बाद इस तरह कमरे में सामान बिखेर कर भागे चोर। - Dainik Bhaskar
चोरी के बाद इस तरह कमरे में सामान बिखेर कर भागे चोर।

फेस्टिवल का मौका है। इस मौके पर अपने घर और फ्लैट को पूरी तरह से खाली मत छोड़िएगा। अगर, आपने ऐसा किया तो घर व फ्लैट में रखी ज्वेलरी और कैश समेत कीमती सामानों की चोरी हो सकती है। फेस्टिवल के इस सीजन में शातिर चोरों का गैंग राजधानी में एक्टिव है। जो बंद घरों और फ्लैट को अपना निशाना बना रहे हैं। पटना के जगनपुरा इलाके में रहने वाला एक परिवार दीपावली की खरीददारी करने निकला था। जब यह परिवार वापस लौटा तो उनके होश ही उड़ गए। फ्लैट के ग्रिल में लगा लोहे का शिकर और उसका लॉक कटा हुआ मिला। मेन गेट का ताला भी टूटा हुआ था। बेड रूम में रखा लकड़ी का आलमीरा टूटा मिला। उसमें रखे 3 से 4 लाख की ज्वेलरी गायब मिली। फ्लैट के अंदर रखा सामान बिखरा पड़ा मिला।

गोपालपुर थाना का है मामला
दरअसल, फ्लैट का लॉक तोड़ चोरी की यह वारदात पटना के गोपालपुर थाना के तहत जगनपुरा इलाके में स्थित शेरा अपार्टमेंट की है। इसके B ब्लॉक के फ्लैट नंबर 304 में विकास चंद्रा अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ रहते हैं। विकास एक बड़ी मेडिसीन कंपनी के अधिकारी हैं और बनारस में पोस्टेड हैं। मंगलवार की शाम 4 बजे के करीब मौसमी चंद्रा अपने बच्चों को लेकर जगनपुरा इलाके में ही दीपावली की मार्केटिंग को लेकर निकली थीं। दो घंटे बाद शाम 6 बजे के करीब जब वापस लौटी, तब तक उनके फ्लैट में चोरी हो चुकी थी।

शातिर अपराधी बेडरूम में रखे आलमीरा से सोन की चेन, सोने का लॉकेट, सोने की अंगूठी, मंगलसूत्र के साथ बना सोने का लॉकेट, सोने का कान का टॉप्स, सोने की इयर रिंग, सोने की बनी 2 पीस जिउतिया का लॉकेट और डायमंड रिंग पर चोरों ने अपना हाथ साफ कर दिया।

अपार्टमेंट में नहीं है सिक्योरिटी की व्यवस्था
शेरा अपार्टमेंट में कई परिवार फ्लैट लेकर रह रहे हैं। मगर, सिक्योरिटी के नाम पर कुछ भी नहीं है। मेंटनेंस के नाम पर हर महीने 500 रुपए हर फ्लैट वालों से लिया जाता है। लेकिन, अपार्टमेंट के कैंपस में एक भी CCTV कैमरा नहीं लगा हुआ है। कोई सिक्योरिटी गार्ड भी नहीं है।

चोरी की वारदात के बाद से परेशान परिवार लगातार बिल्डर को कॉल कर रहा है। मगर, उसने एक बार भी कॉल रिसीव नहीं किया। वारदात के 24 घंटे बीतने के बाद भी पीड़ित परिवार से मिलना तो दूर, बिल्डर ने फोन पर भी बात नहीं की।

बिल्डिंग के बाहर बड़ी बहन को दिखे थे 4 संदिग्ध
इसी अपार्टमेंट के B ब्लॉक में सेकेंड फ्लोर पर मौसमी चंद्रा की बड़ी बहन और उनका परिवार रहता है। अपार्टमेंट से जिस वक्त विकास और मौसमी चंद्रा मार्केटिंग के लिए निकले थे, उनसे ठीक 10 मिनट पहले उनकी बड़ी बहन भी मार्केटिंग के लिए निकली थीं। जब उन्हें छोटी बहन के फ्लैट में चोरी होने की बात पता चली तो वो वहां पहुंची। फिर उनके जरिए पता चला कि मार्केट के लिए निकलते वक्त बिल्डिंग के बाहर घूम रहे 4 संदिग्ध लोगों पर उनकी नजर पड़ी थी। उसमें से एक संदिग्ध काफी देर तक उन्हें देख रहा था।

जांच के नाम पर पुलिस ने की खानापूर्ति
चोरी की जानकारी कॉल कर गोपालपुर थाना की पुलिस को दी गई थी। रात में ही आकर पुलिस ने छानबीन की। कुछ देर की छानबीन के बाद पुलिस चली गई। बुधवार को विकास चंद्रा ने थाना में लिखित कंप्लेन किया। इसके बाद भी पुलिस ने ठोस तरीके से इस केस की पड़ताल नहीं की। अपार्टमेंट के पास CCTV कैमरा लगा है, जो रास्ते को कवर करता है। पुलिस चाहती तो उसके फुटेज को खंगाल कर चोरों तक पहुंच सकती थी। मगर, लापरवाह पुलिस ने ऐसा नहीं किया।

जगनपुरा के इलाके में पुलिस की पेट्रोलिंग भी काफी कमजोर है। शातिर चोर इसी का फायदा उठा रहे हैं। कुछ दिनों पहले भी इस इलाके के एक दुकान में चोरी की बड़ी वारदात को अपराधियों ने अंजाम दिया था।

खबरें और भी हैं...