होली पर कंफ्यूजन, आज भी पटना में सड़कों पर सन्नाटा:दो दिनों में बंट गया रंगों का त्योहार, कहीं आज तो कहीं कल खेली जाएगी होली

पटना10 महीने पहले
पटना के अटल पथ से जुड़े इलाके पूरी तरह से सन्नाटे में हैं।

होली के त्योहार को लेकर पूरा बिहार कंफ्यूजन में है। होली कब है, यह कोई नहीं बता पा रहा है। कोई आज तो कोई कल की बात कर रहा है। गुरुवार का शाम तक बिहार में होली को लेकर शनिवार का दिन तय था। लेकिन पड़ोसी राज्यों के साथ देश के अन्य कई राज्यों में शुक्रवार की होली ने लोगों को कंफ्यूजन में डाल दिया है। शुक्रवार की सुबह सड़कों पर थोड़ी चहल-पहल थी, लेकिन 12 बजे तक सन्नाटा पसर गया। हर कोई इसी कंफ्यूजन में दिखाई पड़ा कि होली आज मनाएं या कल।

कोरोना काल में पहली बार वायरस फ्री होली

कोरोना काल में पहली बार वायरस फ्री होली है। कोरोना का केस पूरी तरह से कम है और प्रतिबंध की कोई गाइडलाइन नहीं है। ऐसे में लोगों को होली का त्योहार मनाने का अच्छा मौका रहा। कंफ्यूजन के कारण से होली का त्योहार दो दिनों में बंट गया है। पटना के अटल पथ से जुड़े इलाके पूरी तरह से सन्नाटे में हैं। राजीवनगर, दीघा, इंद्रपुरी, पटेल नगर, बाबा चौक, शिवपुरी् में पूरी तरह से सन्नाटा पसरा रहा। पहले होली में दो दिनों का कंफ्यूजन नहीं होता था। एक दिन की होली में समस्या नहीं होती थी।

रात में होलिका दहन से हुआ भ्रम

रात में होलिका दहन हो गया और दूसरे ही दिन कई राज्यों में हेाली मनाई जाने लगी। बिहार में पटना सहित अन्य जिलों में भी ऐसा ही हाल है। किसी भी जिले में होली को लेकर लोगों की एक दिन पर राय नहीं बन पा रही है। कोई शुक्रवार तो कोई शनिवार को होली मनाने की बात कर रहा है। अन्य प्रदेशों में भी लोग फोन कर होली का कंफ्यूजन दूर करने का प्रयास किए लेकिन हर जगह होली को लेकर भ्रम की स्थति है। पड़ोसी राज्यों में भी ऐसा ही है।

उत्तर प्रदेश और झारखंड के साथ दिल्ली व अन्य राज्यों में भी दो दिनों की होली है। इस कारण से बिहार में लोगों को भ्रम हुआ है। पटना के प्रमुख ज्योतिष विद्वान डॉ श्रीपति त्रिपाठी का कहना है कि होली पर भद्रा का साया होने के कारण कंफ्यूजन की स्थिति है। होलिका दहन भी इस कारण से देर रात के बाद हुआ है। ज्योतिष विद्वानों का कहना है कि शनिवार को होली खेलना शुभ होगा।

खबरें और भी हैं...