थाने के सामने वाले घर से बुलेट चोरी का मामला:झारखंड पुलिस का ASI चला रहा था बुलेट, पटना पुलिस के लिए ट्रेसलेस बना अखलाक खान

पटना9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी ASI अखलाक खान। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
आरोपी ASI अखलाक खान। (फाइल फोटो)

बुलेट चोरी के मामले में झारखंड पुलिस का एक ASI पटना पुलिस के लिए ट्रेस लेस बना हुआ है। केस के इंवेस्टिगेशन ऑफिसर और ASI प्रमोद कुमार सिंह को वाहन चोरी के केस का मुख्य आरोपी पुलिस वाला मिल नहीं रहा है। इनके पास आरोपी के बारे में कहीं कोई जानकारी ही नहीं है।

आरोपी पुलिस वाले की गिरफ्तारी के लिए बुलेट के मालिक लगातार पटना पुलिस के अफसरों से मिल रहे हैं। एप्लीकेशन लिख रहे हैं। केस के इंवेस्टिगेशन ऑफिसर से बात कर रहे हैं। मगर, मजाल है कि कोई कार्रवाई हो। बुलेट के मालिक खुद पता करके बता रहे हैं कि आरोपी पुलिस वाला वर्तमान में कहां है? वो किस जगह पर नौकरी कर रहा हैं? इसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। इसी चक्कर में 6 साल बीत गए।

बुलेट पर लिखी पुलिस।
बुलेट पर लिखी पुलिस।

2015 में चोरी हुई थी बुलेट
दरअसल, यह मामला पटना के श्रीकृष्णा पुरी थाना का है। थाने के ही सामने में ही बोरिंग रोड में कारोबारी दीवाकर कुमार रहते हैं। इनका अपना घर है। इनके घर के नीचे से ही ब्लैक कलर की बुलेट (BR01/BF-4884) चोरी हो गई थी। 28 मई 2015 को इस मामले में श्रीकृष्णा पुरी थाना में FIR नंबर 187/15 दर्ज किया गया था। केस दर्ज होने के बाद पुलिस पटना आसपास के इलाके में चोरी किए गए बुलेट की तलाश कर रही थी। लेकिन, लाख कोशिशों के बाद भी उस वक्त मिली नहीं थी।

अचानक आया था एक SMS
दीवाकर कुमार के मोबाइल पर अचानक से एक SMS आया। वो SMS जिस कंपनी की बुलेट थी, उसके सर्विस सेंटर का था। जो झारखंड के दुमका के सर्विस सेंटर से आया था। तब पता चला कि बुलेट वहां है। फिर पटना से दीवाकर और पुलिस की टीम वहां गई थी। पता करने के बाद वहां के मुफस्सिल थाना में बुलेट खड़ी मिली। जिस पर पुलिस भी लिखा हुआ था। पूरी पड़ताल के बाद पता चला कि पटना से चोरी हुई उस बुलेट को उसी थाना में पोस्टेड ASI अखलाक खान चला रहा है। उस वक्त पटना पुलिस की टीम ने बुलेट को जब्त कर लिया था।

लेकिन, चोरी का बुलेट चला रहा ASI नहीं पकड़ाया। वो भाग गया था। अब इस केस को 6 साल हो गए हैं। अब तक चोरी का बुलेट चलाने वाला झारखंड पुलिस का ASI अखलाक खान नहीं पकड़ा गया। पटना पुलिस के लिए वो अब भी फरार है। वो मूल रूप से पटना जिले के बाढ़ का रहने वाला है। रविवार को बुलेट के मालिक दीवाकर ने दावा किया है कि दुमका के राणेश्वर थाना के चेकपोस्ट पर वो अब भी नौकरी कर रहा है।