• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Patna Ranchi Jan Shatabdi; It Is Dark When It Stops, The Passengers Are Climbing In It, The Light Is On When Walking

लाइव पड़ताल:पटना-रांची जनशताब्दी; रुकने पर अंधेरा, इसी में चढ़ रहे यात्री, चलने पर जल रही बत्ती

पटनाएक वर्ष पहलेलेखक: आलोक कुमार
  • कॉपी लिंक
प्लेटफॉर्म की रोशनी सहारा- जनशताब्दी की बोगी में इस तरह पसरा हुआ रहता है अंधेरा। - Dainik Bhaskar
प्लेटफॉर्म की रोशनी सहारा- जनशताब्दी की बोगी में इस तरह पसरा हुआ रहता है अंधेरा।

12365 पटना-रांची जनशताब्दी पटरी पर तो फर्राटा भरती है, लेकिन यात्री सुविधाओं के मामले में पिछड़ती जा रही है। दानापुर मंडल की इस ट्रेन की रफ्तार इतनी है कि अपने निर्धारित समय दिन के 1:55 बजे से पहले ही रांची पहुंच जाती है। बुधवार को यह ट्रेन राजेंद्रनगर कोचिंग कॉम्प्लेक्स से अहले सुबह 5:40 बजे पटना जंक्शन के 10 नंबर प्लेटफॉर्म पर पहुंची।

प्लेटफॉर्म पर इंतजार कर रहे यात्री यह देख हैरान रह गए कि किसी बोगी में लाइट नहीं जल रही थी। ट्रेन रुकने के बाद अंधेरे में ही यात्री अपनी बोगी में सवार हुए। मोबाइल की रोशनी में जैसे-जैसे सामान एडजस्ट किया और सीट नंबर ढूंढ़ कर बैठ गए। जब कुछ यात्रियों ने हंगामा किया तो ट्रेन खुलने से करीब 10 मिनट पहले लाइट जली।

मोबाइल की रोशनी में पढ़ाई करते दिखे कई

ट्रेन खुलती है सुबह के 6:10 बजे, लेकिन ज्यादातर यात्री 5:50 बजे तक अपनी सीट पर बैठ गए थे। डी 2 बोगी में गया जाने वाले एक युवक को मोबाइल की रोशनी में ही पढ़ाई करते देखा गया। पता चला कि परीक्षा है। यात्रियों के हंगामे के बाद एक रेलकर्मी आया, तब लाइट जली। लाइट जलने के कुछ ही देर बाद ट्रेन रवाना हो गई। पता चला कि हर दिन इस ट्रेन के यात्रियों को बोगी के अंदर अंधेरे से सामना होता है। ट्रेन जब प्लेटफॉर्म पर आती है तो बोगियों में अंधेरा होता है और रवाना होने के करीब पांच मिनट पहले लाइट जलती है। लाइट नहीं रहने के कारण सामान रखने में काफी परेशानी हुई।