एक्सप्रेस-वे से निकला एक्स्ट्रा-वे:पटना से दिल्ली अब 12 घंटे में; 150 किमी दूरी और 6 घंटा समय घटा

पटनाएक वर्ष पहलेलेखक: डीडी वैष्णव
  • कॉपी लिंक
पूर्वांचल एक्सप्रेसवे। - Dainik Bhaskar
पूर्वांचल एक्सप्रेसवे।

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे ने पटना और दिल्ली की दूरी तकरीबन 150 किमी घटा दी है। अभी प्रदेश की राजधानी से देश की राजधानी पहुंचने का सबसे छोटा रूट गोपालगंज-लखनऊ-आगरा होते हुए है। 1088 किमी की यह दूरी तय करने में न्यूनतम 17 से 18 घंटे लगते हैं। बक्सर जिले की सीमा से महज 18 किमी दूर यूपी के गाजीपुर का हैदरिया पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का आखिरी छोर है।

पटना से वाया बक्सर होते हुए पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के रास्ते दिल्ली की दूरी अब घटकर 946 किमी रह गई है। पटना से दिल्ली पहुंचने में अब अधिकतम 12 घंटे लगेंगे। उतना ही समय जितना पटना-दिल्ली राजधानी तेजस ट्रेन लेती है। भविष्य में ट्रैवल टाइम और घटेगा जब पटना-बक्सर फोर लेन बन जाएगा। अभी कोइलवर से पटना का स्ट्रेच का काम अटका है। भविष्य में पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को भागलपुर से भी जोड़ने की योजना है।

दिल्ली अब दूर नहीं

  • सबसे छोटा रूट पटना-दिल्ली वाया गोपालगंज-लखनऊ : 1088 किमी (ट्रैवल टाइम- 17-18 घंटे)
  • नया छोटा रूट पटना-बक्सर (139 किमी)+ पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे (341 किमी)+ लखनऊ-आगरा (302 किमी)+ आगरा से दिल्ली (165किमी )= 946 किमी
  • इसमें 804 किमी एक्सप्रेस-वे जिस पर मानक गति सीमा 100 किमी प्रति घंटा है। इस हिसाब से ट्रैवल टाइम मात्र 8.04 घंटे ही होगा।

चीन-पाक से साथ निपट सकेंगे हमारे लड़ाकू विमान, उत्तरी-पूर्वी बॉर्डर पर पहुंच आसान
वायुसेना के विमानों ने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर लैंडिंग और टेकऑफ कर अपनी ताकत दिखाई। पीएम के सुपर हरक्युलिस से सीधे एक्सप्रेस-वे पर लैंड करने के बाद 30 विमान वहां पहुंचे। मोदी ने यहां एयर शो भी देखा। 3.2 किमी लंबी एयर स्ट्रिप पर सुखोई 30 व मिराज 2000 जैसे विमानों का टच एंड गो ऑपरेशन करीब एक घंटे चला। सबसे खास बात ये कि पूर्वी फ्रंट पर चीन से युद्ध के दौरान इमरजेंसी उपयोग में आने वाला यह पहला एक्सप्रेस-वे होगा।

चीन के 14 हजार फीट ऊंचाई पर बने एयरबेस से हमारे शहर जद में
डोकलाम विवाद के बाद चीन ने 14 हजार फीट ऊंचाई पर 16 एयरबेस बनाए हैं। यूपी, उत्तराखंड व बिहार के 5 एयरबेस व कई शहर चीन की लॉन्ग रेंज मिसाइलों की जद में आते हैं।

प्लान बी...क्योंकि एयरबेस तबाह हुए तो ये काम आएंगे
एयरफोर्स के प्लान बी के तहत युद्ध में एयरबेस तबाह होने पर एक्सप्रेसवे का उपयोग होगा। चीन व पाक को अपनी ताकत का अहसास कराने के लिए टच एंड गो जैसे ऑपरेशन जारी रखे जाएंगे।