पटना में मिल रहे मंजूषा, मधुबनी आर्ट से सजे कैंडिल:45 घंटे तक जलकर देंगे खुशबू, लॉकडाउन में शुरू किया था हर्बल कैंडिल का प्रोडक्शन

पटनाएक वर्ष पहले

रीतिका अपने पति के कोचिंग सेंटर में मैनेजमेंट का काम देखती थीं। लेकिन लॉकडाउन में जब सब कुछ प्रभावित हुआ तो उन्होंने तय किया कि कुछ अलग करना चाहिए। उन्होंने 'क्राफ्ट एज' नाम से प्रोडक्शन शुरू किया। इस दीपावली वो पैराफिन मोम की जगह हर्बल कैंडिल बाजार में लेकर आई हैं। यह हर्बल कैंडिल सोया वैक्स से बनाया गया है।

रीतिका बताती हैं कि यह मोम वेजीटेबल से बनाया जाता है, इसलिए हानिकारक नहीं है। बड़ोदरा से इसे मंगाया जाता है और फिर अलग-अलग 22 फ्लेवर के कैंडिल बनाए जाते हैं।

कुछ कैंडिल तो इतने सुंदर हैं कि चॉकलेट जैसे लगते हैं।
कुछ कैंडिल तो इतने सुंदर हैं कि चॉकलेट जैसे लगते हैं।

मंजूषा, मधुबनी, मंडला, बर्ली पेटिंग में डाला वैक्स
रीतिका रोज पीलर, क्रिसमस ट्री, पर्ल, कप केस, लोटस सहित कई तरह के फ्लेवर वाले कैंडिल इस दीपावली पर बाजार में लेकर आईं हैं। कुछ कैंडिल तो इतने सुंदर हैं कि चॉकलेट जैसे लगते हैं। इनका फ्लेवर भी चॉकलेटी है।

रीतिका ने एक अच्छा प्रयोग यह भी किया है कि मिट्टी के कुल्हड़ को मंजूषा, मधुबनी, मंडला, बर्ली पेटिंग से सजाकर उसमें वैक्स डाला जा रहा है। इससे बिहारी लोक कला को भी प्रसार मिल रहा है। 'क्राफ्ट एज' द्वारा बनाए गए कैंडिल ऑनलाइन तो बिक ही रहे हैं, पटना के खादी मॉल में भी इनके प्रोडक्ट दिख रहे हैं।

बेली रोड पर लगे कैंडल्स के स्टॉल पर अच्छी संख्या में खरीददार आ रहे हैं।
बेली रोड पर लगे कैंडल्स के स्टॉल पर अच्छी संख्या में खरीददार आ रहे हैं।

पहली कोशिश में ही मिल रहा बेहतर रिस्पॉन्स
पटना के बेली रोड पर माउंट कार्मेल स्कूल के पास लगे दीपावली मार्केट में रीतिका ने अपने कैंडल्स का स्टॉल लगाया है। यहां भी अच्छी संख्या में कैंडिल के खरीददार आ रहे हैं। अपनी पहली कोशिश में मिल रहे बेहतर रिस्पॉन्स से वह बहुत उत्साहित हैं।

भास्कर से बातचीत में उन्होंने कहा कि हमारे कैंडिल पोल्यूशन फ्री हैं। ऐसे कैंडिल हैं जो खुशबू देते रहेंगे और ज्यादा देर तक जलेंगे भी। ऐसे कैंडल हैं जो 45 घंटे तक जलते हैं। हमारे यहां 20 रुपए से लेकर 250 रुपए तक के कैंडिल हैं। सभी हैंडमेड प्रोडक्ट हैं। दो दर्जन महिलाओं को वह रोजगार से जोड़ भी रही हैं। पटना यूनिवर्सिटी से मैनेजमेंट का कोर्स कर चुकी रीतिका कहती हैं, पटनाइट्स अब अवेयर हो गए हैं इसलिए पोल्यूशन फ्री दीपावली मनाना चाहते हैं। रीतिका दीपावली के बाद क्रिसमस के लिए खूबसूरत और पॉल्यूशन फ्री कैंडिल बनाने की तैयारी में अभी से ही लग गई हैं। बर्थ डे के लिए भी सोया वैक्स से बने कैंडिल तैयार कर रही हैं।