सावधान...पतंजलि योगपीठ के नाम पर फर्जी वेबसाइट:महाराष्ट्र, उत्तराखंड और हरियाणा के लोगों से ठगी, पटना में पकड़ा गया शातिर, 9 मोबाइल बरामद

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गिरफ्तार शातिर और बरामद मोबाइल व ATM कार्ड। - Dainik Bhaskar
गिरफ्तार शातिर और बरामद मोबाइल व ATM कार्ड।

अगर आप हरिद्वार में स्थित बाबा रामदेव के पतंजलि योग पीठ में रहकर अपना इलाज कराने और योग सीखने की प्लानिंग कर रहे हैं। इसके लिए वहां कॉटेज (कमरा) बुक करने की सोच रहे हैं। वेबसाइट के जरिए बुकिंग करना चाहते हैं तो सावधान हो जाएं।

पहले अच्छी तरह से जान लें। समझ लें कि जिस वेबसाइट के जरिए आप कॉटेज बुक कराने जा रहे हैं। उस पर दिए मोबाइल नंबर सही है या फर्जी। क्योंकि, पटना पुलिस ने एक ऐसे शातिर को पकड़ा है, जो पतंजलि योगपीठ में कॉटेज बुक कराने के नाम पर लोगों के साथ ठगी कर रहा था।

पुलिस ने किया खुलासा

रविवार को पत्रकार नगर थाना की पुलिस ने इसका खुलासा किया है। पकड़े गए शातिर का नाम मुकेश कुमार है। इसकी उम्र 25 साल है। नवादा जिले में पकड़ीवरावां थाने के तहत हथियारी गांव का रहने वाला है। इस शातिर के पास से पुलिस ने 9 मोबाइल, 9 ATM कार्ड और अलग-अलग बैंक अकाउंट के चेकबुक व पासबुक को बरामद किया है।

आरोपी के पास से बरामद मोबाइल और एटीएम।
आरोपी के पास से बरामद मोबाइल और एटीएम।

इन लोगों से रुपए ठगने के मिले सबूत
थानेदार मनोरंजन भारती के अनुसार उनकी टीम 90 फीट इलाके के पास पेट्रोलिंग पर थी। उसी बीच मुकेश पुलिस टीम को देख भागने लगा था। तभी उसे पकड़ा गया। इसके पास से एक बैग मिला, जिसमें ठगी से जुड़े काफी सारे सबूत मिले। मोबाइल, ATM कार्ड मिला। बरामद मोबाइल के व्हाट्सएप को जब खंगाला गया तो उससे काफी डिटेल्स मिले। मुंबई में जुहू के रहने वाले विश्वास आप्टे से पतंजलि योगपीठ में कॉटेज बुक कराने के नाम पर 44 हजार की ठगी की।

फिर उत्तराखंड की रहने वाली डॉ जया गांधी से 35, 600 और हरियाणा में कुरुक्षेत्र के रहने वाले शिव कुमार वर्मा से 25, 100 रुपए की ठगी किए जाने के सबूत मिले। पूछताछ में शातिर ने बताया कि अकाउंट में ट्रांसफर होते ही कॉटेज बुक करवाने वालों के नंबर ब्लॉक कर देते थे।

नवादा का रहने वाला है मेन सरगना
गिरफ्तार मुकेश से पूछताछ में इस गैंग के सरगना का नाम सामने आ गया है। थानेदार के अनुसार गौतम उर्फ संजीव, मेन सरगना है। वह नवादा जिले के चकवई का रहने वाला है। इसने अपने घर पर ही मुकेश को ट्रेनिंग दी थी। साथ ही फर्जी नाम, पते पर सीमकार्ड खरीद कर दिया था। जो भी चेकबुक, पासबुक और ATM कार्ड बरामद हुए हैं।

सभी का बैंक अकाउंट फर्जी नाम पते पर खुलवाए गए हैं। इस गैंग में सरगना के अलावा करीब 12 लड़के काम करते हैं। इस प्रकरण में पत्रकार नगर थाने की पुलिस ने केस दर्ज किया है। अब सरगना समेत पूरे गैंग की कुंडली खंगाली जा रही है।