ग्रामीण बोले-AK-47 से बरसाईं थी गोलियां...16 की मौत:पुलिस ने बताई 1 मौत, बिहटा में बालू माफिया में हुई थी सैकड़ों राउंड फायरिंग

पटना4 महीने पहलेलेखक: मो. सिकन्दर
  • कॉपी लिंक

बिहटा के अमनाबाद में पीला सोना (बालू) के अवैध खनन के बर्चस्व में दो गिरोहों के बीच अंधाधुंध फायरिंग में गोलियों के खोखे रेत की तरह उड़ते रहे और बालू खून से सनता गया लेकिन पुलिस करीब 11 घंटे तक नेटवर्क से बाहर रही।

अत्याधुनिक हथियारों से हुई फायरिंग में कई लोगों के मारे जाने की बात कही जा रही है। घटनास्थल पर मिले खोखे इसकी गवाही दे रहे हैं। पूरे घटनाक्रम में पुलिस का रिस्पांस टाइम सवालों के घेरे में है। सिटी एसपी पश्चिम राजेश कुमार, शुक्रवार को एएसपी दानापुर अभिनव धीमान, बिहटा व मनरे थाना की पुलिस के साथ नाव से सोन पार कर अमनाबाद दियारा पहुंचे और करीब एक घंटे के बाद ही लौट आए।

इतनी बड़ी वारदात के बाद भी एसएसपी डॉ मानवजीत सिंह ढिल्लों दूसरे दिन भी मौके पर नहीं गए। पुलिस मुख्यालय का आदेश है कि बड़ी घटना होने पर एसपी, एसएसपी भी घटनास्थल पर जाएंगे।

पुलिस जहां जाने से कतराती है भास्कर टीम वहां तक पहुंची, पड़ताल में 6 बड़े खुलासे...

1 छिपाई जा रही मौतें :

गांव बोला-16 मौत, पुलिस की गिनती 1... दो घर तो हमारी टीम ही हो आई। एक गौरैयास्थान के शत्रुघ्न राय हैं और दूसरे ब्यापुर भूधर टोला के लालदेव राय।

2 तीन माह से गोलीबारी : 3 माह से रोज गोली चल रही थी। लगातार आवेदन दिया गया पर किसी ने कोई नोटिस नहीं ली। ऐसे दर्जनभर आवेदन की प्रतियां हमारे (भास्कर) पास हैं।

3 रात में ही फायरिंग की पुलिस को सूचना :

बुधवार की रात को गांववालों ने पुलिस को फोन किया पर नहीं पहुंची। चौकीदार को सब पता था उसने पुलिस को क्यों नहीं बताया?

4 डॉग स्क्वायड लगे तो मिलेंगी बालू में दबी लाशें : माफिया जेसीबी से गड्ढा खोददकर उसी में बॉडी गाड़ देते हैं। पुलिस मौके पर डॉग स्क्वॉयड लाए तो दियारा से और शव मिलेंगे।

5 गोलीबारी के लिए बदनाम इलाके में आउटपोस्ट तक नहीं : अमनाबाद में बालू खनन को लेकर 2017 में भी ऐसा ही गैंगवार हुआ था। बावजूद कोई ओपी तक नहीं बना।

6 पुलिस बोली-150 कारतूस मिला, ग्रामीण बोले- 500 से अधिक चुनकर हमने दिए: गांववालों ने 25 किलो की बोरी में खोखे चुनकर दिए है। छह स्थानों पर खून के निशान भी थे।

सोन नदी से अवैध तरीके से बालू निकालने का काम लंबे अर्से से चल रहा है। यहां दर्जनों गैंग सक्रिय हैं।
सोन नदी से अवैध तरीके से बालू निकालने का काम लंबे अर्से से चल रहा है। यहां दर्जनों गैंग सक्रिय हैं।

कारबाइन से लेकर एके-47 तक से ताबड़तोड़ फायरिंग

बालू माफियाओं के पास कारबाइन से लेकर एके-47 जैसे अत्याधुनिक हथियार हैं। इन्हीं हाथियारों का इस्तेमाल दाेनों गुटों ने किया।

दियारा से मारी गई गोली अमनाबाद घाट तक पहुंची

बुधवार की रात जिन हथियारों से गोली चली उसका रेंज इतना था कि उस पार से चली गोली अमनाबाद घाट से भी दूर तक पहुंच गई।

दुस्साहस : बालू माफियाओं ने एसपी पर चलाई गोलियां

अमनाबाद में बालू के अवैध खनन को लेकर हुई गोलीबारी के बाद शुक्रवार को पटना पश्चिम के एसपी और दानापुर के एएसपी के नेतृत्व में चलाए जा रहे कांबिंग ऑपरेशन के दौरान अपराधियों ने पुलिस पार्टी पर ही फायरिंग शुरू कर दी। एसपी के नेतृत्व में पुलिस गुरुवार को अमनाबाद में हुई फायरिंग मामले में श्रीराय नाम के एक व्यक्ति के घर छापेमारी करने गई थी। इसी बीच श्री राय , उसके दो बेटों प्रवीण कुमार, नवीन कुमार, उसके चचेरे भाई गोपाल राय और उसके सहयोगियों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस पर गोली चलाते हुए वे भाग निकले।

माफिया पुलिस पर फायरिंग करते हुए भाग निकले थे।
माफिया पुलिस पर फायरिंग करते हुए भाग निकले थे।

पिछले डेढ़ साल में 4780 मामले दर्ज

बिहार में बालू के अवैध खनन, परिवहन और भंडारण को लेकर डेढ़ साल में बिहार पुलिस ने 4780 मामले दर्ज किए हैं। पुलिस मुख्यालय की रिपोर्ट के अनुसार जनवरी 2021 से 30 जून 2022 तक पटना, भोजपुर, सारण समेत 13 जिलों में 9475 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। बालू के अवैध खनन में लगे आठ हजार से अधिक वाहनों को जब्त किया गया है। इसमें 5880 ट्रैक्टर, 2139 ट्रक, 149 हाइवा, 97 पोकलेन और 45 जेसीबी व लोडर शामिल हैं। इसके अलावा बालू की अवैध ढुलाई कर रहे 3417 नाव व अन्य वाहनों को भी पुलिस ने जब्त किया है।

माफिया को नेताओं का संरक्षण

अकेले पटना और भोजपुर में बालू के अवैध उत्खनन में कई माफिया लिप्त हैं। इन गैंग्स को सफेदपोशों का भी संरक्षण प्राप्त है। कहीं संरक्षण तो कहीं बंदूक के बल पर बालू से नोट छापने का खेल कई वर्षों से चल रहा है। प्रशासन की तमाम कोशिशों के बाद भी खूनी खेल थमने का नाम नहीं ले रहा है।

बालू माफिया के 2 गुटों में फायरिंग, 5 की मौत:पटना के बिहटा की घटना, 9 लोग घायल; मृतकों के शव छुपाने की कोशिश

पटना और भोजपुर जिले के बॉर्डर पर बिहटा में गुरुवार को सोन नदी से अवैध तरीके से बालू निकालने को लेकर माफिया के दो गुटों में सैकड़ों राउंड फायरिंग हुई। इस गोलीबारी में 5 लोगों की मौत हो गई, जबकि 9 लोग घायल हुए हैं। फिलहाल एक शव मिला है, बाकी शवों की तलाश की जा रही है।

बताया जा रहा है कि बालू पर वर्चस्व को लेकर बालू माफिया के गुट बिहटा के अमनाबाद गांव में आपस में भिड़ गए। बात बढ़ती गई और दोनों पक्षों में फायरिंग शुरू हो गई। घटना के बाद माफिया गुटों ने सभी शवों को छुपाने की भी कोशिश की। दोनों जिलों की पुलिस मौके पर जांच कर रही है। मौके से 150 से ज्यादा कारतूस के खोखे मिले हैं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करिए...