पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तैयारी:भीड़ व यातायात नियंत्रण को लेकर पुलिस सख्त

हाजीपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले के छह सीटों पर द्वितीय चरण में चुनाव को लेकर पार्टी के कई दिग्गज नेताओं ने किया नामांकन

जिले के छह सीटों पर द्वितीय चरण में चुनाव को लेकर पार्टी के कई दिग्गज नेताओं द्वारा नामांकन किए जाने की जानकारी मिलते ही बुधवार को सुबह से ही कलेक्ट्रेट परिसर एवं आस पास के क्षेत्रों को छावनी में तब्दील किया गया था। नामांकन प्रकिया शुरू होने से पहले पुलिस प्रशासन के बंदोबस्त चाक चौबंद दिखे। बैरियरों पर पुलिस के अलावा अर्द्ध-सैनिक बलों का पहरा रहा। प्रशासन ने यातायात बाधित न हो इसको लेकर अर्द्ध-सैनिक बलों से कलेक्ट्रेट के मुख्य गेट व गांधी चौक तक छावनी में तब्दील कर दिया।

कलेक्ट्रेट मुख्य गेट पर सख्त पहरे के बीच लोगों ने घुसने की नाकाम कोशिश की। प्रतिनियुक्त मजिस्ट्रेट व पुलिस पदाधिकारी एवं आईटीबीपी जवानों का सुरक्षा चक्र कोई भेद नहीं पाया। पुलिस अधीक्षक मनीष कुमार सुरक्षा व्यवस्था की पल पल जानकारी लेते रहे। जबकि सदर एसडीपीओ राघव दयाल ने व्यवस्था को संभाले रहे। कलेक्ट्रेट सहित कचहरी को छावनी में तब्दील कर देने से कोर्ट-कचहरी आने वालों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। कचहरी गेट से पैदल वालों के लिए रोक नहीं रही लेकिन वाहनों से आए लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

गलियों के रास्ते अपनाकर लोगों ने काम निपटाया। चक्कर लगाने के साथ उनका काम पूरा हो पाया।दिग्गज प्रत्याशी के नामांकन में भीड़ अधिक जुटने की संभावना से सदर सीओ केके सिंह एवं सदर एडीपीओ राघव दयाल ने कचहरी रोड में माइकिंग कर फुटपाथ दुकानदारों को दुकान बंद रखने का निर्देश दिया। साथ ही गांधी चौक, अस्पताल रोड, डाक बंगला रोड, जौहरी बाजार, त्रिमूर्ति चौक पर माईकिंग कर फुटकर दुकानदार को यहां से अलग दुकान को कहां।

वही यातायात में लगे जवानों को जाम को लेकर विशेष निर्देश दिए और दर्जनों अर्द्ध सैनिक जवानों को जाम से निजात को लेकर ड्यूटी पर लगाया। कई बार एसडीपीओ ने खुद ही भीड़ नियंत्रण को लेकर डंडा चलाते दिखे। चुनाव जैसे संवेदनशील मौके पर जिला प्रशासन का खुफिया तंत्र सजग दिखा। स्टेटिक सर्विलांस की टीम पूरी कचहरी व गांधी चौक के आस पास में फैले रहे एवं राजनैतिक दलों के चुनाव कार्यालय में जाकर कार्यक्रमों की जानकारी लेते रहे। भीड़ भाड़ वाले इलाकों में खड़े होकर प्रत्याशी के प्रतिनिधि पर नजर बनाएं रखें जो समर्थकों के ऊपर धन का प्रयोग होने की जानकारी लेते रहे।

खबरें और भी हैं...