पहली नो ब्रेकर, नो रेडलाइट रोड:7.6 km लंबे R ब्लॉक-दीघा रोड के कारण कितनी राहें आसान...समझिए यहां, खतरा भी जान लीजिए

पटना2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
यह नई सड़क आज से गुलजार हो जाएगी। - Dainik Bhaskar
यह नई सड़क आज से गुलजार हो जाएगी।
  • आज से R ब्लॉक-दीघा रोड शुरू हो जाएगा, CM नीतीश कुमार करेंगे उद्घाटन
  • नई सड़क का नाम पूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर 'अटल पथ' रखा गया है

खरमास खत्म होते ही आज पटनावासियों को एक नई सड़क की सौगात मिलने वाली है। आज R ब्लॉक दीघा 4/6 लेन सड़क का उद्घाटन हो जाएगा। दैनिक भास्कर आपको बता रहा है कि यह नई सड़क पटना के किन-किन इलाकों में जाने के लिए आपकी राह आसान करेगी। 7.6 किलोमीटर लंबी इस 4/6 लेन सड़क का इंतजार पटनावासियों को लंबे समय से था। अब कई इलाकों में जाने के दौरान हो रहीं परेशानियों के खत्म होने का वक्त आ गया है। इस सड़क पर एक भी स्पीड ब्रेकर नहीं है। आपको कहीं रेडलाइट भी नहीं मिलेगी।

आइए जानते हैं आपके पैसों से बनी यह सड़क कैसे आपके सफर को छोटा करेगी और आपका कीमती समय बचाएगी।

  • यदि आप पटना जंक्शन से निकले हैं और आपको दीघा जाना है तो आप न्यू मार्केट, GPO होते हुए आर-ब्लॉक आ जाइए। यहां से फोरलेन पकड़कर आप 10 मिनट में दीघा जा सकते हैं।
  • आप गांधी मैदान तरफ से आ रहे हैं तो डाकबंगला, इनकम टैक्स गोलंबर और बिहार म्यूजियम होते हुए सचिवालय के पास हड़ताली मोड़ पहुंच जाइए। वहां से इस सड़क पर जाने की व्यवस्था है।
  • पटना के सेंट माइकल, नोट्रेडम, लोयला हाई स्कूल के बच्चों को भी काफी सहूलियत होगी। बोरिंग रोड या फिर राजापुर पुल के पास लगने वाले जाम से छुटकारा मिलेगा, सीधा इस सड़क से इन स्कूलों में जा सकते हैं।
  • आर-ब्लॉक और दीघा के बीच में दर्जनों कॉलोनियां है जिनमें लाखों लोग रहते हैं। उन सभी को डाकबंगला, सचिवालय, बेली रोड आने में सुविधा हो जाएगी।
  • बोरिंग रोड के समानांतर इस सड़क के बनने से बोरिंग रोड पर दबाव कम होगा। आर-ब्लॉक से दीघा के बीच मिनटों में सफर पूरा होगा। सड़क के दोनों तरफ सर्विस रोड बनने से इसके किनारे बसे मोहल्लों के लोगों को आने-जाने में सुविधा होगी।
इस सड़क पर कई तरह की आधुनिक सुविधाएं दी गई हैं।
इस सड़क पर कई तरह की आधुनिक सुविधाएं दी गई हैं।

340.51 करोड़ की लागत से बनी है
तीन साल में बनाई गई इस सड़क से मुहल्ले जुड़ जाएंगे। इन मुहल्लों में रहने वाले हजारों लोगों को इसका लाभ मिलेगा। 7.6 किलोमीटर लंबे आर ब्लॉक-दीघा पथ के निर्माण पर लगभग 340.51 करोड़ की लागत आई है। 15 जनवरी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस पथ का उद्घाटन करेंगे। आर-ब्लॉक और दीघा को जोड़ने वाले इस सड़क का नाम पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर अटल पथ रखा गया है। कोरोनाकाल के बावजूद इस सड़क को रिकॉर्ड 21 महीने में तैयार किया गया है।

आधुनिक सुविधाओं से लैस है सड़क
चार लेन की इस सड़क को काफी खूबसूरती के साथ बनाया गया है। आर-ब्लॉक के शुरुआत में ही काफी पौधे लगाए गए हैं। इस सड़क को बनाने के लिए उन बड़े पेड़ों को भी आधुनिक तकनीक से एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट किया गया। वहीं, जो पेड़ सूख गए है उनपर आधुनिक पेंटिंग की गई है। इस पथ पर बस स्टॉप, पार्क, आकर्षक पेंडिंग, डिस्प्ले, पाथ-वे, टॉयलेट ब्लॉक का निर्माण भी किया गया है। यातायात की निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं। इसकी मॉनिटरिंग सचिवालय थाना स्थित कंट्रोल रूम से होगी।

नई तकनीक का उपयोग
इस सड़क पर तीन जगहों पर फ्लाईओवर बनाया गया है। एक बेली रोड पर, दूसरा शिवपुरी चौराहे और तीसरा राजीव नगर चौराहे पर बनाया गया है। सभी ओवरब्रिज पर न्वॉइज बैरियर लगाया गया है। इससे मोटी ग्लास लगे वाहनों के हॉर्न की आवाज दूर तक नहीं जाएगी। इससे दूसरी तरफ आने वाले वाहनों की लाइट आंख पर नहीं पड़ेगी। सड़क के दूसरी तरफ जाने के लिए फ्लाईओवर के नीचे से गुजरने की व्यवस्था है। सड़क के दोनों तरफ नाला निर्माण होने से कहीं भी जलजमाव नहीं होगा। पटना में पहली बार इतनी लंबी सड़क पर सोलर स्ट्रीट लगाई गई है। इसके सभी ओवरब्रिज पर एंटी सुसाइड बैरियर लगाए गए हैं।

एक युवक और पुलिसकर्मी की जान जा चुकी है अबतक
बिना ब्रेकर, बिना रेडलाइट वाली इस सड़क पर गाड़ियों की रफ्तार बहुत तेज रह रही है। उद्घाटन के पहले रांग साइड भी गाड़ियां दौड़ती दिखी हैं। इस सड़क पर रोजाना कई हादसे हो रहे हैं और अबतक दो लोगों की जान भी जा चुकी है। करीब 5 महीने पहले SK पुरी थाने में तैनात पुलिसकर्मी सुजीत कुमार की बाइक को ट्रैक्टर ने टक्कर मार दी थी। उन्हें बचाया नहीं जा सका था। मुंगेर निवासी सुजीत इसी रोड पर राजीवनगर में रहते थे। 10 दिन पहले इसी रोड पर पुनाईचक-शिवपुरी के बीच 25 साल के युवक दीपक की भी हादसे में मौत हो गई थी। डेढ़ साल के बच्चे को लेकर जा रहे दीपक की बाइक किसी दूसरी बाइक से टकरा गई थी। टक्कर से गिरे बच्चे को उठाने के लिए दीपक के उतरते ही दूसरी बाइक ने इतनी जोरदार टक्कर मारी कि जान बचाना मुश्किल हो गया।
इसलिए, सलाह मानिए-

  • गाड़ी इतनी ही तेज चलाइए कि संभाल सकें
  • दोपहिया वाहनों को बाएं किनारे ही रखें
  • मोबाइल पर बात नहीं करें, हेलमेट लगाएं
  • सड़क पर अचानक गाड़ी कहीं नहीं रोकें
  • बाएं से कई रास्ते जुड़ते हैं, ध्यान रखें
  • कुहासा हो तो पार्किंग लाइट जलाकर चलें
खबरें और भी हैं...