बेउर जेल में रेड, कैदियों के मददगार 2 सिपाही हटे:एक महिला सिपाही भी कर रही थी कैदियों की मदद, छापेमारी में गांजा और मेमोरी कार्ड बरामद

पटना21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पटना के बेउर जेल में अचानक से छापेमारी हो गई। गुप्त तरीके से अचानक हुई यह छापेमारी करीब ढ़ाई घंटे तक चली। जेल के अंदर कई वार्डों को खंगाला गया। बंदियों के पास से ज्यादा कुछ इस कार्रवाई में बरामद नहीं हुई। सिर्फ दो पुड़िया गांजा व मोबाइल में लगाए जाने वाला एक मेमोरी कार्ड बरामद हुआ। इसके बाद सवाल उठा कि जेल कैद होने के बाद भी बंदियों के पास गांजा और मेमोरी कार्ड आया कहां से? जैसे ही सवाल सामने खड़ा हुआ, उसके बाद जवाब की खोज शुरू हो गई।

बेउर जेल से दोनों का ट्रांसफर कर

सूत्र बताते हैं कि कई बंदियों से इस बारे में छापेमारी के दौरान पूछताछ की गई। तब जाकर बंदियों के मददगार के बारे में पता चला। इसमें दो सिपाहियों का नाम सामने आया। इसमें एक महिला सिपाही भी शामिल है। जेल प्रशासन ने भी इसकी पुष्टि की है। बंदियों की मदद करने वालों में जेल में तैनात सिपाही राम शंकर राम और महिला सिपाही पुष्पा कुमारी का नाम सामने आया। जिसके बाद इन दोनों के खिलाफ कार्रवाई की गई। तत्काल प्रभाव से दोनों का पटना के बेउर जेल से ट्रांसफर कर दिया गया। सिपाही रामशंकर राम को हाजीपुर तो पुष्पा कुमारी को बिहार शरीफ जेल भेज दिया गया।

सुबह 4 बजे ही स्पेशल टीम ने की छापेमारी

दरअसल, जेल में छापेमारी करने के लिए सीनियर अधिकारियों की तरफ से निर्देश दिया गया था। पटना सदर के SDM और फुलवारी शरीफ ASP की अगुवाई में 4 डीएसपी और BSAP 121 बटालियन के जवानों की एक स्पेशल टीम बनाई गई थी। बिना किसी सूचना के सुबह 4 बजे के करीब यह टीम बेउर जेल में दाखिल हुई। इसके बाद करीब ढ़ाई घंटे तक अंदर रही। कई वार्ड को खंगाला। कई बंदियों की तलाशी ली। संदेहास्पद जगहों को भी चेक किया। इसी कार्रवाई के दरम्यान दोनों सिपाहियों की असलियत सामने आ गई। जिसके बाद जेल IG व बेउर के सुपरिटेंडेंट को भी इनके बारे में बताया गया।