पुलिस की मनमानी:फर्जी कंपनी के साथ दो दुकानों में मारा छापा, गांधी मैदान थाने के थानेदार को शोकॉज

पटना9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फर्जी कंपनी के अधिकारियों के साथ कीटनाशक दुकान में छापा मारने पहुंची पुलिस टीम। - Dainik Bhaskar
फर्जी कंपनी के अधिकारियों के साथ कीटनाशक दुकान में छापा मारने पहुंची पुलिस टीम।
  • कीटनाशक जब्त किया, कर्मियों को पकड़ा, सिटी एसपी के हस्तक्षेप पर छोड़ा

पटना पुलिस फर्जी कंपनी के साथ छापा मारती है। कुछ माह से यह बंद था। शनिवार को अचानक जमाल रोड स्थित दो कीटनाशक दुकानों में छापा मारा गया। गांधी मैदान पुलिस फर्जी कंपनी के अधिकारियों के साथ छापा मारने गई और दावा किया कि लाखों का नकली कीटनाशक बरामद हुआ है।

दुकान के कर्मियों को उठाकर पुलिस थाने ले आई। इस बात की भनक सिटी एसपी मध्य विनय तिवारी को लग गई। सिटी एसपी ने एफआईआर नहीं करने का आदेश दिया। सिटी एसपी ने कहा कि गांधी मैदान थानेदार से स्पष्टीकरण मांगा गया है। जो भी पकड़े गए थे उन्हें जब्त सामान के साथ छोड़ दिया गया है।

उन्होंने कहा कि इस तरह की रेड पुलिस नहीं कर सकती है। पुलिस रेड तभी करेगी जब संबंधित विभाग के अधिकारी होंगे। हर्ष बीज भंडार और हीरा बीज भंडार में छापेमारी की गई। फर्जी कंपनी के अधिकारी अंजनी कुमार ने बयान दिया कि दोनों दुकानों में नकली कीटनाशक की बिक्री हो रही थी।

दोनों दुकान से सैंपल लिया तब पता चला कि वह नकली है। इसके बाद पुलिस की मदद से छापेमारी की। अब पुलिस के साथ छापेमारी करने वाली कंपनी के अधिकारियों की तलाश हो रही है। सिटी एसपी ने कहा कि जिस कंपनी ने पुलिस के साथ मिलकर छापेमारी की उसके बारे में भी जानकारी जुटाई जा रही है। कार्रवाई की जाएगी।

बिना कृषि पदाधिकारी की टीम के कैसे हुई रेड

नियम यह है कि दवाओं के मामले में ड्रग विभाग की टीम ही रेड कर सकती है। वे अपने सहयोग के लिए पुलिस की मदद ले सकती है। इसी तरह कीटनाशक आदि से जुड़ी छापेमारी के लिए कृषि पदाधिकारी की टीम का होना जरूरी होता है। लेकिन इस रेड के बारे में कृषि पदाधिकारी को कोई जानकारी नहीं थी।

जिला कृषि पदाधिकारी राकेश रंजन ने कहा कि रेड के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है। कोई निजी कंपनी रेड नहीं कर सकती है। बड़ा सवाल यह है कि आखिर बिना संबंधित पदाधिकारी के किसी निजी कंपनी के साथ पटना पुलिस रेड कैसे कर देती है।

सिटी एसपी का आदेश आते ही भागे
पुलिस जब्त कीटनाशक और दुकानदारों को लेकर थाने पहुंची। कंपनी के अधिकारी एफआईआर करने के फिराक में थे ही कि सिटी एसपी का आदेश थाने को प्राप्त हुआ। जैसे ही इस बात की जानकारी कंपनी के कथित अधिकारियों को मिला वे थाने से फरार हो गए। जब्त कीटनाशक और दुकानदारों को सरिस्ता में ही वे छोड़ दिए। सिटी एसपी के आदेश के बाद दोनों दुकानदारों को कीटनाशक के साथ छोड़ दिया गया।

खबरें और भी हैं...