• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Raids Are Going On At Three Places Including The Police Station After Registering A Case On Corruption Charges

थानेदार ने 1 करोड़ में खरीदे 8 प्लॉट:मनेर के बालू माफिया से पैसा वसूल मां और पत्नी के नाम से बनाई अकूत संपत्ति

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पटना में रूपसपुर के थानेदार और 2009 बैच के सब इंस्पेक्टर मधुसूदन ने काली कमाई के जरिए 1 करोड़ में खरीदे 8 प्लॉट खरीदे। बुधवार को आर्थिक अपराध इकाई (EOU) की तीन टीम ने इनके तीन ठिकानों को खंगाला। कई घंटों की जांच में जो कुछ सामने आया, वो हैरान करने वाला है।

दरअसल, करीब 13 साल की पुलिस की नौकरी में मधुसूदन संपत्ति पत्नी और अपनी मां के नाम खरीदी। पटना के आनंद विहार कॉलोनी में जिस जमीन पर मधुसूदन ने घर बनवाया है, उसे अपनी पत्नी के नाम पर 49.81 लाख रुपए में खरीदा था। बोधगया के मटिहानी में पत्नी और मां के नाम पर 18 लाख रुपए में जमीन के दो अलग-अलग प्लॉट खरीदा।

वहीं 2.82 लाख रुपए में मां के नाम पर औरंगाबाद के चौरम में जमीन लिया। मां के नाम पर ही गया के शेरघाटी में 8.10 लाख रुपए में जमीन के 2 प्लॉट खरीदे। गया में ही एक प्लॉट 1.90 लाख तो दूसरा प्लॉट हिरयो में 17 लाख 58 हजार 400 में खरीद रखा है। खरीदे गए सभी जमीन की कुल कीमत 98 लाख 21 हजार 400 रुपए है। इनके रजिस्ट्रेशन पर 8 लाख 73 हजार 415 रुपए खर्च किए गए हैं।

अकाउंट्स में कई बार जमा हुआ बड़ा कैश

मधुसूदन के ठिकानों से अब तक 8.93 लाख रुपया कैश, SBI के 2, PNB के 2 और केनरा बैंक के एक अकाउंट का पासबुक मिला है। ये अकाउंट मधुसूदन और उसकी पत्नी के नाम पर है। इन अकाउंट्स में कुल 47 लाख 41 हजार 400 रुपए जमा मिले हैं। इसके साथ ही LIC में लाखों रुपए इनवेस्ट किए जाने के सबूत EOU के हाथ लगे हैं। साढ़े 14 लाख रुपए की चल संपत्ति का भी पता चला है। इनकी संपत्ति सरकारी आमदनी से 87 लाख 34 हजार 109 रुपए अधिक मिली है। इनकी पत्नी और मां, पूरी तरह से हाउस वाइफ हैं।

ADG नैयर हसनैन खान के अनुसार सब इंस्पेक्टर और उनकी पत्नी के अकाउंट में कई बार बड़े स्तर पर कैश रुपए जमा कराए गए हैं। कई बार दूसरे के अकाउंट में भी मोटी रकम जमा कराने के भी सबूत मिले हैं।

मनेर में जमकर दिया था बालू माफियाओं का साथ

दरअसल, रूपसपुर से पहले मधुसूदन पटना में ही मनेर थाना का थानेदार था। आरोप है कि मनेर में थानेदारी करते वक्त जमकर बालू माफियाओं का साथ दिया। भ्रष्टाचार की गुप्त सूचना मिलने के बाद जांच कराई गई, जिसमें आरोप सही मिले। इस कारण भ्रष्टाचार और आय से अधिक की संपत्ति के मामले में 24 मई को ही पटना स्थित EOU थाना में FIR नंबर 22/2022 दर्ज किया गया। फिर कोर्ट से इनके ठिकानों पर छापेमारी के लिए सर्च वारंट लिया गया। इसके बाद आगे की कार्रवाई हुई।

बुधवार को तीन अलग-अलग टीमों ने इनके ठिकानों पर धावा बोला। एक टीम ने पटना में आनंद विहार कॉलोनी स्थित इनके घर को खंगाला। दूसरी टीम ने रूपसपुर थाना में छापेमारी की। जबकि, तीसरी टीम ने औरंगाबाद जिला में दाउदनगर थाना के तहत चौराम गांव स्थित पुश्तैनी घर को सर्च किया। EOU की जांच में काली कमाई के जरिए अर्जित की गई संपत्ति और बढ़ सकती है।

खबरें और भी हैं...