खुलासा:कॉस्मेटिक दुकान से 20 लाख ज्वेलरी व कैश लूट मामले में रिश्तेदार ही निकला सरगना

हाजीपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर थाना क्षेत्र के बागमली मुहल्ला अवस्थित हिंद कॉस्मेटिक आर्टिफिशियल गिफ्ट सेन्टर के दुकान-सह-आवास से लूट मामले का पुलिस ने उद्भेदन कर दिया है। इस लूट कांड में कुल 9 की संख्या में अपराधी थे जहां 5 लोग दुकान के अंदर घुसे थे। लूट का मुख्‍य सरगना अभय सिंह निकला जो कॉस्मेटिक संचालक का ग्रामीण एवं रिश्तेदार बताया गया है। इस घटना में सीसीटीवी कैमरा में दिख रहे पांच लुटेरों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है जबकि चार की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी चल रही है। पकड़े गए सभी अपराधी ने लूट कांड में अपनी संलिप्तता स्‍वीकार कर ली है।

इस संबंध में एसडीपीओ राघव दयाल व नगर थाना प्रभारी ने बताया कि उन्‍हें 30 नवंबर को गुप्त सूचना प्राप्त हुई की जमुनी लाल कॉलेज के पास बांध पर कुछ अपराधकर्मी किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए इक्ट्ठा हुए है। सूचना मिलते ही पुलिस वैशाली एसपी के निर्देश पर थानाध्यक्ष के नेतृत्व में एक टीम गठित किया गया। जिसमें नगर थाना के पुलिस पदाधिकारी/कर्मी/ जिला आसूचना के पुलिस पदाधिकारी को शामिल किया गया। सत्यापन के क्रम में 05 अपराधकर्मियों को अवैध आग्नेयास्त्र, गोली, वादी के घर से लूटा गया डीपीआर, लूटा गए रुपए में से 1,00,000 रूपया, घटना में प्रयुक्त बाइक बरामद किया गया है।

पकड़े गए सभी अपराधियों ने घटना में स्वीकार की अपनी संलिप्तता
ज्ञात हो कि नगर थाना के हाजीपुर क्षेत्र के बागमली मुहल्ला में अवस्थित हिंद कॉस्मेटिक आर्टिफिशियल गिफ्ट सेन्टर के दुकान-सह-अवास में 05 अज्ञात अपराधकर्मियों द्वारा हथियार के बल पर लूट की घटना को अंजाम दिया गया था। इस घटना की प्राथमिकी नगर थाना कांड संख्या-940/2021, दिनांक-23.11.2021, धारा-395 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई। इन लोगों द्वारा घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार कर ली है। पकड़े गए अपराधियों के निशानदेही पर इनके ठिकाने से वादी के घर से लूटा गया डीपीआर, लूटा गए रुपए में से 1,00,000 रूपया, घटना में प्रयुक्त बाइक बरामद किया गया है। घटना में संलिप्त अन्य अपराधकर्मियों की गिरफ्तारी एवं लूटे गए अन्य सामान की बरामदगी के लिए छापामारी की जा रही है।

अपराधियों के पास इन सामान की हुई बरामदगी
पकड़े गए अपराधियों के पास से पुलिस ने देशी कट्टा, पिस्टल, कारतुस, घटना में प्रयुक्त मोटरसाईकिल, लूटे गए रूपया एक लाख रूपए, सीसीटीवी कैमरा का डीवीआर एवं एक हीरो स्प्लेंडर बाइक बरामद की है।

इन अपराधियों की हुई गिरफ्तारी
इस मामले में पुलिस ने सदर थाना क्षेत्र के पानापुर गौराही निवासी चंदेश्‍वर राय के पुत्र मुकेश कुमार उर्फ रूपेश कुमार, मनुआ के नागमणि सिंह के पुत्र लक्ष्मण सिंह, चंद्रालय के मनोज तिवारी के पुत्र ऋषि कुमार, श्रीरामपुर के रामजिनिस राम के पुत्र विक्‍की कुमार उर्फ धनंजय कुमार एवं इस्माइलपुर के गणेश ठाकुर के पुत्र दीपक कुमार का नाम शामिल है। पकड़ा गया सभी अपराधी सदर थाना क्षेत्र के है।

सदर एसडीपीओ का है कहना
इस कांड के संबंध में नगर थाना में सदर एसडीपीओ राघव दयाल एवं थानाध्यक्ष सुबोध कुमार सिंह घटना की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि पकड़े गए अपराधी विक्की के पास से 35 हजार, मुकेश के पास से 30,000, नागमणि के पास से 15000, ऋषि के पास से 10000 एवं दीपक के पास से 10000 बरामद किए गए। उन्‍होंने बताया कि इस घटना में कुल 9 लोग शामिल थे जिसमें से 5 लोग दुकान के अंदर घुसे थे। वहीं चार लोग बाहर खड़े होकर रेकी कर रहे थे। इस लूट कांड का मेन सरगना अभय कुमार सिंह इस्माइलपुर का रहने वाला है। अभय सिंह का भाई अभी हाल में ही जिला परिषद का चुनाव लड़ा था जिसमें वह हार गया है। उसी पंचायत के इस चुनाव में खड़े एक मुखिया प्रत्याशी का भी नाम इस लूट कांड में आ रहा है। पकड़े गए अपराधियों से पुलिस ने जब पूछताछ की तो सारे घटनाक्रम की विस्तृत जानकारी अपराधियों ने दी।

मुख्य सरगना ने घर वालों के साथ बदसलूकी नहीं करने की दी थी हिदायत
पकड़े गए अपराधियों ने बताया कि उन्‍हें सिर्फ बोला गया था कि अपने ही लोग हैं उनके घर में जाकर किसी के साथ बदसलूकी नहीं करनी है। पैसे एवं जेवरात की लूट करनी है। लूट की घटना को अंजाम देने के बाद सभी अपराधी मुख्‍य सरगना अभय सिंह के घर इस्माइलपुर पर पहुंचे। जहां लूटे गए 4.5 लाख में से सभी अपराधियों को कुछ हिस्से दिए गए थे और उन्हें यह भी बताया गया कि जेवरात मिलने के बाद और पैसे मिलेंगे। इस कारण पुलिस के हाथ सिर्फ 100000 ही मिले, जबकि सारे जेवरात लेकर अभय सिंह फरार है। फरार अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है। सदर एसडीपीओ ने यह भी बताया कि लूट लगभग 20 लाख के ज्वेलरी एवं 4.5 लाख कैस की हुई थी। लूट के दौरान अपराधी अपने साथ हार्ड डिस्क ले गए थे परंतु डीवीआर दुकान में ही छूट गया था। डीवीआर खंगालने एवं मैनुअल जांच के आधार पर अपराधियों को पकड़ा गया है।

खबरें और भी हैं...