• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Rings Ringing In Jharkhand's Bureaucracy, Machines Had To Be Ordered To Count The Cash Found In The House

अफसरों को नाइट पार्टी देकर बनाई संपत्ति:विशाल का झारखंड के ब्यूरोक्रेसी में बजता है डंका, रोज रात में अफसर लगाते हैं हाजिरी

रांची3 महीने पहले

झारखंड के मनरेगा और खनन घोटाले की जांच की आंच अब IAS पूजा सिंघल के बाद दूसरे अफसरों तक भी पहुंचने लगी है। निलंबित सिंघल की निशानदेही पर मंगलवार को ED की टीम ने झारखंड के 6 ठिकानों पर कार्रवाई की है। इसमें विशाल चौधरी के घर से 5 करोड़ रुपए कैश मिलने की सूचना है। हालांकि, इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। नोट गिनने के लिए दो मशीनें लानी पड़ी। बताया जा रहा है कि चौधरी के कूड़ेदान से आईफोन मिला है।

खबर है कि ED की टीम ने विशाल चौधरी को मंगलवार शाम हिरासत में ले लिया।

पत्नी के साथ एक पार्टी में विशाल चौधरी। (फाइल फोटो)
पत्नी के साथ एक पार्टी में विशाल चौधरी। (फाइल फोटो)

चौधरी को झारखंड के ब्यूरोक्रेट्स का सबसे भरोसेमंद कैंडिडेट्स कहा जाता है। छोटे से लेकर बड़े पदाधिकारी तक हर जगह उसकी अपनी धमक है। इसकी पहुंच का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि अधिकारियों के ट्रांसफर-पोस्टिंग में इसकी पसंद का ख्याल रखा जाता है।

मुजफ्फरपुर से रांची तक तय किया सफर

विशाल चौधरी मूल रूप से बिहार के मुजफ्फरपुर का रहने वाला है। रांची में फ्रंटलाइन ग्लोबल जैसी कई कंपनियां बनाकर इसने झारखंड में सरकारी टेंडर हासिल किया। स्किल इंडिया के कई प्रोजेक्ट पर भी यह काम कर रहा है।

मैनेजेरिल स्किल का माहिर खिलाड़ी

मैनेजेरियल स्किल में माहिर विशाल के अशोक नगर का घर अधिकारियों का ठिकाना होता था। यहीं से बैठकर प्लानिंग तय की जाती थी। यहां हमेशा अधिकारियों का आना-जाना लगा रहता था। विशाल उनके हर सुख का ध्यान रखता था। बदले में उसे भी रिटर्न गिफ्ट मिलता था।

रांची के अशोक नगर स्थित विशाल के इसी घर में ED की छापेमारी चल रही है।
रांची के अशोक नगर स्थित विशाल के इसी घर में ED की छापेमारी चल रही है।

रात में सजती है महफिल, अधिकारी लगाते हैं हाजिरी

अशोक नगर इलाके के रोड नंबर 6 स्थित विशाल का घर देखने में सामान्य सा लगता है, लेकिन आसपास के लोगों की माने तो यहां रातें रंगीन हुआ करती हैं। प्रदेश के कई नौकरशाह यहां हाजिरी लगाते हैं। विशाल विदेश में घूमने और महंगी गाड़ियों का भी शौकीन बताया जाता है।

समुद्र किनारे स्थिति होटल में अपनी पत्नी के साथ विशाल। (फाइल फोटो)
समुद्र किनारे स्थिति होटल में अपनी पत्नी के साथ विशाल। (फाइल फोटो)

अवैध माइनिंग से जुड़ा है मामला

सूत्रों की मानें तो छापेमारी का मामला अवैध माइनिंग से जुड़ा है। इसमें विशाल चौधरी भी आरोपी है। त्रिवेणी चौधरी उसके पिता हैं। हालांकि, इसकी आधिकारिक पुष्टि अभी नहीं नहीं है। त्रिवणी चौधरी कौशल विकास विभाग में सीनियर अफसर हैं। इन्हें सत्ता और पूजा का करीबी बताया जाता है।

कूड़ेदान से मिला आई फोन

छापेमारी के दौरान ED ने कूड़ेदान से उसका आई फोन बरामद किया है। वहीं इस कचरे से कई अहम कागजात भी मिले हैं। इसमें राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों का डिटेल है। इस कार्रवाई के बाद अब ऐसा समझा जा रहा है कि कुछ IAS अधिकारियों से भी पूछताछ की जा सकती है। उनमें से कुछ ऐसे अधिकारी हैं, जो राज्य सरकार की गुडबुक में हैं।

2 साल में 6 से ज्यादा देश घूमा

विशाल चौधरी विदेश यात्राओं का भी काफी शौकीन है। पिछले दो वर्षों में चौधरी ने तुर्की, श्रीलंका, स्विट्जरलैंड, इंडोनेशिया, यूएई समेत कई देशों का भ्रमण किया है। इन विदेश यात्राओं पर उसने करोड़ों रुपए खर्च किए हैं। रांची के अशोक नगर स्थित उसके घर के इंटीरियर पर लाखों रुपउ खर्च का अनुमान है।

पिता मुजफ्फरपुर में संभालते हैं फर्नीचर का शोरूम, बेटे पर लाखों खर्च

विशाल अपने बेटे के एजुकेशन पर बड़ा अमाउंट खर्च करता है। जिस स्कूल में उसका बेटा पढ़ता है, उसकी सालाना फीस लाखों में है, जबकि पिता त्रिवेणी चौधरी मुजफ्फरपुर में फर्नीचर का शोरूम संभालते हैं।

महंगी गाड़ियों का है शौक

विशाल को महंगी गाड़ियों का भी शौक है। बताते हैं कि दिल्ली में रहने के दौरान वह हैमर गाड़ी इस्तेमाल करता है। वहीं, रांची के अशोक नगर स्थित उसके घर में एसयूवी अमावट समेत आधा दर्जन गाड़ियां लगी हैं।

ये भी पढ़ें-

IAS पूजा के करीबियों के घर ED का छापा:CM सोरेन के PS के करीबी पर भी दबिश; रांची और मुजफ्फरपुर में भी रेड