पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Risk Of Serious Disease Like Skin Disease, Cancer, Kidney, Lungs, Reproductive System Using Adulterated Sanitizer

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भास्कर खास:मिलावटी सेनेटाइजर के इस्तेमाल से त्वचा रोग, कैंसर, किडनी, फेफड़े, प्रजनन तंत्र जैसी गंभीर बीमारी होने का खतरा

पटना10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सेनेटाइजर के अधिक इस्तेमाल से होने वाली बीमारियों की वजह से पीएमसीएच में हर दिन पहुंच रहे हैं लगभग 20 मरीज

(आलोक द्विवेदी) कोरोना के संक्रमण की वजह से सेनेटाइजर की खपत बढ़ गई है। ब्रांडेड के साथ ही लोकल कंपनियां भी सेनेटाइजर बना रही है। ऐसे में मानको की अनदेखी  हो रही है। मिलावटी सेनेटाइजर के लगातार इस्तेमाल से खुजली, खुश्क त्वचा, लाल दाग, त्वचा रोग, कैंसर, किडनी, फेफड़े, प्रजनन तंत्र जैसी बीमारियां होने का खतरा है। सेनेटाइजर के इस्तेमाल से होने वाली बीमारियों की वजह से पीएमसीएच में हर दिन लगभग 20 मरीज पहुंच रहे हैं।

डॉक्टरों का कहना है कि लाल, पीला, हरा, नारंगी से कई कलर में बने सेनेटाइजर लोगों को फायदे की जगह नुकसान पहुंचा रहा है। पीएमसीएच के डॉक्टर विकास शंकर के मुताबिक सेनेटाइजर में 60 से 75 फीसदी तक अल्कोहल होना जरुरी है। लोकल स्तर पर बनाए जाने वाले सेनेटाइजर में मानकों की अनदेखी की जाती है। सेनेटाइजर में ट्रॉइक्लोसान नामक केमिकल होता है, जिसे हाथ की स्किन सोख लेती है।  बार-बार इस्तेमाल से जलन और खुजली जैसी समस्याएं होती है। सेनेटाइजर में अधिक मात्रा में फैथलेट्स मिलाने से लीवर, किडनी, फेफड़े तथा प्रजनन तंत्र को नुकसान पहुंचता है।

सेनेटाइजर में ट्रॉइक्लोसान नामक केमिकल होता है, जिसे हाथ की स्किन सोख लेती है

केस 1 : पटना सिटी के पश्चिमी दरवाजे के पास रहने वाले रहमान दिन में 20 से अधिक बार सेनेटाइजर का इस्तेमाल करते थे। हाथों के साथ ही वे पैर पर सेनेटाइजर लगाते थे। रंगबिरंगे और सस्से सेनेटाइजर के इस्तेमाल से उनके हाथों पर लगातार खुजली होने लगी। दवा खाने के बाद उसके असर तक खुजली बंद रहती थी, असर खत्म होने के बाद फिर से शुरु हो जाता था. पीएमसीएच में दिखाने के बाद डॉक्टरों ने अच्छे क्वालिटी के सेने टाइजर के साथ ही घर में रहने के दौरान साबुन इस्तेमाल की सलाह दी। 

केस 2 : कंकड़बाग के रहने वाली अंकिता कुमारी स्टूडेंट हैं। वह सुगंधित सेनेटाइजर का इस्तेमाल कर रही है। इसकी वजह से उनके हाथ की त्वचा खुश्क हो गई है और हथेली की त्वचा कई जगहों से फट गई है।

केस 3 : अनीसाबाद के रहने वाले अरविंद कुमार अपने बच्चों के हाथ पर भी  बार-बार सेनेटाइजर लगाते हैं। नतीजा यह है कि बच्चे की त्वचा शरीर के अन्य हिस्से की अपेक्षा हल्का काला पड़ गया है। डॉक्टर ने क्वालिटी वाले सेनेटाइजर इस्तेमाल की सलाह देते हुए घर में रहने के दौरान साबुन से हाथ धोने की सलाह दी।

कोविड-19 से बचाव के लिए मास्क, सेनेटाइजर का इस्तेमाल करना बेहद जरुरी है। लेकिन, दोनों की क्वालिटी अच्छी होनी चाहिए। यदि मानकों की अनदेखी कर बनाए गए सेनेटाइजर का लगातार इस्तेमाल किया जाता है। तो गंभीर परिणाम हो सकते हैं। खुजली, खुश्क के साथ ही त्वचा सहित अन्य बीमारियां हो सकती है। विकास शंकर, प्रोफेसर, चर्म रोग विभाग, पीएमसीएच 

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

    और पढ़ें