PMCH में जूनियर डॉक्टर की हड़ताल का दूसरा दिन:सुरक्षा बढ़ाने की मांग को लेकर कहा - आए दिन हमारे साथ होती है मारपीट

पटना2 महीने पहले

बिहार के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच के जूनियर डॉक्टर एक बार फिर से हड़ताल पर चले गये हैं। आज उनके हड़ताल का दुसरा दिन है। छात्रों ने बड़ी संख्या में आकर ओपीडी का रजिस्ट्रेशन काउंटर बंद करा दिया।आज भी पूरी तरीके से ओपीडी सेवा ठप रही। जिससे मरीज को काफी परेशानी का सामना करना पर रहा है।

जाने क्या है पूरा मामला

जूनियर डॉक्टर ने आरोप लगाया है कि बुधवार की रात पीएमसीएच की इमरजेंसी में एक मरीज की मौत के बाद उसके परिजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर जूनियर डॉक्टरों के साथ मारपीट की। गुरुवार की सुबह 4 बजे बड़ी संख्या में पहुंचे मरीज के परिजनों ने जूनियर डॉक्टरों के साथ मारपीट की और हॉस्टल में ईंट-पत्थर फेंके। इसके बाद जूनियर डॉक्टरों ने कार्य बहिष्कार कर दिया।

मरीजों को हो रही परेशानी

वही लगातार दो दिनों से पीएमसीएच में हड़ताल होने से मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बिहटा से आए एक मरीज नंदकिशोर ने बताया कि वह सुबह से ही इंतजार कर रहे हैं, अभी तक उनका रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है जिसके कारण वह इलाज नहीं करवा सके है। इनके जैसे हजारों की संख्या में पीएमसीएच में मरीज अपना इलाज करवाने के लिए इंतजार कर रहे है।

सुरक्षा के नाम पर हो रही खानापूर्ति - डॉक्टर संदीपन, जूनियर डॉक्टर

उन्होंने कहा कि आए दिन हमारे साथ मारपीट होते रहती है, हमने बस एक ही मांग की हमारी सिक्योरिटी। इस महीने में करीब से ऐसी 6 घटना हुई है जिसमें जूनियर डॉक्टरों के साथ मारपीट की गई है। इस माहौल में हम मरीज को और उनके गुस्से को साथ-साथ हैंडल नहीं कर पा रहे हैं। आगे कहा है कि जबतक इस मामले में अस्पताल प्रशासन कोई सख्त कदम नहीं उठाएगा छात्र हड़ताल पर ही बैठे रहेंगे। ओपीडी की सुविधा को भी संचालित नहीं किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...