बहन के लिए श्रीकृष्ण बने तेजप्रताप:कहा- राखी की लाज बचाने के लिए मांझी की पार्टी पर सुदर्शन चलाना होगा; जानिए, क्यों ऐसा बोले

पटना5 महीने पहले

RJD सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव फिर से श्रीकृष्ण बने हैं। इस बार राखी की लाज रखने के लिए सुदर्शन चक्र चलाने की बात कर रहे हैं। बहन पर बयानबाजी से नाराज तेज प्रताप ने कहा है कि ऐसे लोगों पर एक बार फिर से सुदर्शन चलाना होगा। उन्होंने कहा कि अगर राखी की लाज बचानी है तो ये करना होगा।

दरअसल, HAM के प्रधान महासचिव ने मीसा भारती पर हमला करते हुए कहा था कि उनका कोई जनाधार नहीं है फिर भी RJD सुप्रीमो उन्हें राज्यसभा बार-बार भेजते हैं। इसी पर नाराज होते हुए जन शक्ति यात्रा के लिए गया निकलने से पहले तेजप्रताप ने कहा कि हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा महिलाओं का अपमान कर रही है। उन्होंने कहा, 'मेरी बहन ने मुझे राखी बांधती है तो गलत बोलने वाले लोगों पर सुदर्शन चक्र भी चलेगा। ये महिलाओं का अपमान कर रहे हैं। अब ये हमारी बहन पर बयानबाजी कर रहे हैं। इन्हें महिलाओं से माफी मांगना चाहिए। महिलाएं चाहे किसी दल या पार्टी में हो उन्हें आगे बढ़ाना चाहिए।'

नीतीश कुमार को कमंडल लेकर हरिद्वार चले जाना चाहिए

इस दौरान तेजप्रताप यादव ने CM नीतीश कुमार पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार को दोबारा से जिंदा करने वाले उनके पिता लालू प्रसाद यादव हैं। अब जब एक बार फिर से नीतीश कुमार को BJP परेशान कर रही है तो उन्हें कमंडल लेकर हरिद्वार चले जाना चाहिए। भगवद् गीता मैं अपनी तरफ से नीतीश कुमार को भिजवा देंगे।

सभी समाजवादियों को एक प्लेटफॉर्म पर आना होगा

तेजप्रताप यादव ने कहा कि बिहार में बेरोजगारी से युवा परेशान हैं। शिक्षा और स्वास्थ्य व्यवस्था का बुरा हाल है। राज्य में कोई बड़ा निवेश करने को तैयार नहीं हो रहा है। अगर BJP को रोकना है तो सभी समाजवादी दलों को एक प्लेटफॉर्म पर आना होगा। सत्ताधारी शासक को रोकना है तो समाजवाद में विश्वास रखते हैं तो एक होना होगा।

HAM के प्रवक्ता ने मीसा पर दिए थे बयान

बीते दिनों मांझी की पार्टी (HAM) के प्रधान महासचिव दानिश रिजवान ने बयान जारी कर कहा था कि लालू यादव को मीसा भारती की जगह शहाबुद्दीन की पत्नी हिना शहाब को राज्यसभा भेजना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि कोई जनाधार नहीं होने के बावजूद RJD सुप्रीमो उन्हें राज्यसभा भेजते हैं।

खबरें और भी हैं...