पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मैनेजमेंट के छात्रों को सौगात:पटना जिले के सिकंदरा में खुलेगा आईआईएम बोधगया का सेटेलाइट कैंपस व कंसल्टेंसी सेंटर

पटना15 दिन पहलेलेखक: कैलाशपति मिश्र
  • कॉपी लिंक
बियाडा की प्रोजेक्ट क्लियरेंस कमेटी ने 5 एकड़ जमीन देने की दी अनुमति। - Dainik Bhaskar
बियाडा की प्रोजेक्ट क्लियरेंस कमेटी ने 5 एकड़ जमीन देने की दी अनुमति।

पटना जिले के बिहटा के सिकंदरा औद्योगिक क्षेत्र में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम) बोधगया का सेटेलाइट कैंपस खुलेगा। इस कैंपस में एमबीए इन एक्जीक्यूटिव मैनेजमेंट की पढ़ाई के साथ-साथ पीएचडी भी करने की व्यवस्था होगी। कैंपस में इंस्टीट्यूट अपना कंसल्टेंसी सेंटर भी खोलेगा।

आईआईएम ने कैंपस के लिए पटना के इर्द-गिर्द जमीन उपलब्ध करवाने के लिए राज्य सरकार से अनुरोध किया था। इसके लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बैठक हुई और मुख्य सचिव शिक्षा विभाग को जमीन की व्यवस्था करने का निर्देश दिया।

एनआईटी-डीएमआई के प्रस्तावित कैंपस के बीच है जमीन
अगस्त में हुई बिहार औद्योगिक विकास प्राधिकार (बियाडा) की प्रोजेक्ट क्लियरेंस कमेटी की बैठक में आईआईएम बोधगया को बिहटा के सिकंदरा औद्योगिक क्षेत्र में पांच एकड़ जमीन देने की अनुमति दे दी है। यह जमीन एनआईटी और डीएमआई के प्रस्तावित कैंपस के बीच में है। आईआईएम को सेटेलाइट कैंपस के लिए जमीन देने का आग्रह शिक्षा विभाग द्वारा बियाडा से किया गया था।

एग्जीक्यूटिव के लिए कम अवधि का होगा कोर्स
सिंकदरा औद्योगिक क्षेत्र का मुआयना आईआईएम बोधगया की टीम कर चुकी है। टीम ने शिक्षण संस्थानों के लिए आरक्षित जमीन के बीच में कैंपस के लिए स्थान देने का आग्रह बिहार सरकार से किया है।आईआईएम बोधगया की निदेशक डॉ. विनीता सहाय ने बताया कि सेटेलाइट कैंपस में मुख्य रूप से सीनियर और मिडिल स्तर के एक्जीक्यूटिव के लिए मैनेजमेंट की पढ़ाई होगी।

जिसमें एक्जीक्यूटिव के लिए लघु अवधि की मैनेजमेंट प्रोग्राम के साथ-साथ एक वर्षीय और दो वर्षीय मैनेजमेंट कोर्स होगा। इसका फायदा राज्य सरकार के अधिकारियों को भी मिलेगा। कई ऐसे अधिकारी हैं जो आईआईएम का सेंटर नजदीक में नहीं होने के कारण एक्जीक्यूटिव मैनेजमेंट का कोर्स नहीं कर पाते हैं।

खबरें और भी हैं...