पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बड़ी घटनाओं में शार्प शूटर का नाम:पुलिस के लिए 4 साल से फरार चल रहा सिपुल संगीन कांडों काे दे रहा है अंजाम

पटना14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतिकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
प्रतिकात्मक फोटो
  • तीन साल पहले हुए दीना गोप हत्याकांड में भी आया था नाम

दुजरा के विकास की हत्या के मामले में नामजद सिपुल महतो अबतक फरार चल रहा है। वह शार्प शूटर है। उसके खिलाफ कई संगीन मामले दर्ज हैं। मोकामा के हथिदह का रहने वाला है। पुलिस के मुताबिक, वह शंकर गोप के लिए काम करता है और पटना में ही रहता है। चार साल से फरार है।

इस बीच उसने कई बड़ी घटनाओं को अंजाम दिया है। वह साल 2013 में गिरफ्तार हुआ था और साल 2017 में छूटकर बाहर आ गया। उसके बाद से ही फरार है। एएसपी विधि व्यवस्था स्वर्ण प्रभात ने कहा कि कुछ लोग हिरासत में हैं। जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

12 से अधिक हत्याकांडों में शामिल
सिपुल एक दर्जन से अधिक हत्याकांडों में शामिल रहा है। साल 2012 में दुजरा में राजेश कुमार की हत्या हुई थी, जिसमें का भी सिपुल का नाम आया था। साल 2013 में राजापुल के पास बिरजु गोप की हत्या में भी वह आरोपी रहा है। 2013 में ही बोरिंग रोड में विनय सिंह की हत्या में भी वह शामिल बताया जाता है।

साल 2018 में अनीसाबाद में हुए दीना गोप हत्याकांड में भी उसका नाम आया था। इसके अलावा फुलवारीशरीफ में हुए रौशन हत्याकांड, मंदिरी में रवि गोप हत्याकांड और बुद्धा काॅलोनी में विकास हत्याकांड में भी वह वांछित है। उसपर आरा में भी हत्या के कई मामले दर्ज हैं।

साल 2013 में सिपुल ने विकास के भाई रणधीर पर भी गाेली चलाई थी। तब रणधीर बाल-बाल बच गया था। इस मामले में रणधीर के बयान पर बुद्धा काॅलोनी में थाने सिपुल पर केस दर्ज हुआ था। रणधीर ने कहा कि अगर पुलिस ने सिपुल को गिरफ्तार कर लिया हाेता तो आज उसका भाई नहीं मरा होता। विकास की हत्या अपराधियों ने बुद्धा काॅलोनी थाने के मोड़ पर 29 मार्च की रात कर दी थी।

दवा व्यवसायी हत्याकांड में दो संदिग्ध हिरासत में

पटना. दवा व्यवसायी वीरेंद्र यादव की हत्या के मामले में पुलिस ने रविवार की देर रात नौबतपुर और फुलवारीशरीफ के कई इलाकों में छापेमारी कर दो संदिग्धों को हिरासत में लिया। ये दवा एजेंट हैं और गिरफ्तार संदीप के करीबी हैं। पुलिस हत्याकांड में दोनों की भूमिका भी जांच कर रही है। व्यवसायी हत्याकांड में अबतक तीन लाेगाें संदीप, पिंटू यादव और रविश सिंह को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है।

वीरेंद्र यादव की हत्या आईजीआईएमएस के गेट नंबर तीन के पास 31 मार्च की रात हुई थी। गोलीबारी के दौरान नौ साल के बच्चे अरबाज को भी गोली लगी थी जिसका इलाज अभी आईजीआईएमएस में चल रहा है। वीरेंद्र के बेटे हिमांशु के बयान पर जय कुमार, धीरज, नीतीश, संदीप, गुड्‌डू उर्फ गुंडा, राहुल उर्फ भक्कू, नीतीश उर्फ कल्लू को नामजद किया गया था। नामजद आराेपियाें में से संदीप को ही पुलिस गिरफ्तार कर पाई है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें