• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Special Provision For Womens In The Hospitals Of Bihar On The Occasion Of Womens Day, Womens Will Got Test And Scanning Facilities In Government Hospitals Free Of Cost

महिला दिवस पर महिलाओं की जांच:बिहार के सरकारी अस्पतालों में करा सकती हैं कैंसर की स्क्रीनिंग, विशेष तैयारी के साथ लगाए गए विशेषज्ञ

पटना10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पटना के गर्दनीबाग अस्पताल विशेष रूप से तैयारी की गई है। - Dainik Bhaskar
पटना के गर्दनीबाग अस्पताल विशेष रूप से तैयारी की गई है।
  • ब्रेस्ट और सर्वाइकल कैंसर की स्क्रिनिंग से हो जाएगी कैंसर की जानकारी
  • पटना के सभी सरकारी अस्पतालों को निर्देश, गर्दनीबाग को बनाया स्पेशल

महिला दिवस पर महिलाओं के लिए विशेष हेल्थ स्क्रीनिंग की व्यवस्था बनाई गई है। कोई भी महिला ब्रेस्ट और सर्वाइकल कैंसर की स्क्रीनिंग नि:शुल्क करा सकती है। विशेष जांच शिविर पटना के सभी सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में आयोजित किया जाए जिसके लिए आदेश जारी किया गया है। इसमें पटना के गर्दनीबाग हॉस्पिटल को विशेष रूप से तैयार किया गया है।

स्क्रीनिंग में कैंसर का पता लगाना आसान

सिविल सर्जन डॉ. विभा कुमारी सिंह का कहना है कि महिलाओं में ब्रेस्ट और सर्वाइकल कैंसर का खतरा बढ़ा है। इस बड़ी समस्या को लेकर महिला दिवस पर जिले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर सुबह 8 बजे से महिलाओं के लिए विशेष हेल्थ कैंप लगाया जा रहा है। इसमें एक्सपर्ट डॉक्टर महिलाओं में सर्वाइकल और ब्रेस्ट कैंसर की स्क्रीनिंग करेंगे। स्क्रीनिंग में यह पता चल जाता है कि बीमारी कैंसर से जुड़ी है या फिर सामान्य हैं। इसमें लक्षण मिलने वालों को संबंधित अस्पतालों में रेफर किया जाएगा, जहां उनकी आगे की जांच कराई जाएगी। अगर सामान्य मामला है तो स्वास्थ्य केंद्रों से दवाएं देकर घर भेज दिया जाएगा।

कोई भी महिला करा सकती है स्क्रीनिंग

सिविल सर्जन का कहना है कि ब्रेस्ट और सर्वाइकल कैंसर बढ़ रहा है। इस कारण से ऐसी व्यवस्था बनाई जा रही है कि कोई भी महिला स्क्रीनिंग करा सकती है। पटना के गर्दनीबाग हॉस्पिटल में इसे लेकर विशेष रूप से तैयारी की गई है। यहां एक्सपर्ट डॉक्टरों को लगाया गया है। स्वास्थ्य केंद्र पर कोई भी महिला स्क्रीनिंग कराने के लिए सुबह 8 बजे से 11 बजे तक आ सकती है।

जीवनशैली बढ़ा रही बीमारी का खतरा

आधुनिक जीवनशैली महिलाओं में कैंसर का खतरा बढ़ा रही है। जंक फूड, देर से शादी, मोटापा, स्तनपान न कराना, बार-बार गर्भपात, मेनोपॉज जैसे कई कारणों से महिलाएं कैंसर की चपेट में आ रही है। डॉ विभा कुमारी का कहना है कि इसके अलावा अनुवांशिक कारण से भी कैंसर हो रहा है।

50 प्रतिशत से अधिक महिलाएं पीड़ित

महावीर कैंसर संस्थान के मुताबिक महिलाओं में कैंसर के मामले बढ़ रहे हैं। इसमें स्तन कैंसर और सर्वाइकल कैंसर के मामले अधिक हैं। इसमें सबसे बड़ा कारण बीमारी या उसके लक्षण का नजरअंदाज करना है। कुल कैंसर मरीजों में 50 प्रतिशत से अधिक महिलाएं हैं, इसमें सबसे अधिक सर्वाइकल और स्तन कैंसर के मामले हैं। आंकड़ों की बात करें तो महावीर कैंसर संस्थान में 54 प्रतिशत महिलाएं कैंसर की शिकार हैं।

महिलाएं जागरूक होकर दे सकती हैं कैंसर को मात

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक बिहार में वैशाली, औरंगाबाद, जमुई, पूर्णिया और पटना में कैंसर के मामले बढ़ रहे हैं। इन जिलों में सबसे अधिक सर्वाइकल और स्तन कैंसर के मामले सामने आ रहे हैं। पूरे बिहार भर में प्रतिवर्ष 35 हजार महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर की पहचान होती है और इनमें 25 हजार महिलाओं की मौत हो जाती है। वहीं, पूरे बिहार से 80 हजार कैंसर के नए मरीज आते हैं। महावीर कैंसर संस्थान की सह निदेशक, कीमोथेरेपी डॉ. मनीषा सिंह का कहना है कि जागरुकता से ही इस बीमारी को मात दी जा सकती है। इसके लिए समय-समय पर जांच कराना आवश्यक है। महिलाओं में मामले बढ़ने के पीछे बड़ा कारण उनमें जागरुकता नहीं होना और अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह होना है।