ऐसे कैसे खेलेगा इंडिया:1987 में बना 35 लाख रुपए की लागत का स्टेडियम बना तालाब

पटनाएक महीने पहलेलेखक: राजेश कुमार सिंह
  • कॉपी लिंक
आसपास के घरों से निकले गंदे पानी से स्टेडियम के ये हाल, ड्रोन से ली गई स्टेडियम की तस्वीर। - Dainik Bhaskar
आसपास के घरों से निकले गंदे पानी से स्टेडियम के ये हाल, ड्रोन से ली गई स्टेडियम की तस्वीर।

बिहार के मधुबनी जिले के बीचोबीच बनाए गए इस स्टेडियम में घरों से निकला गंदा पानी जमा है। उस पानी में जलकुंभी उग आई है। जो सूखी जगह बची है, उसे शराब के साथ जब्त गाड़ियों का डंप यार्ड बना दिया गया है। करीब 35 लाख रुपए की लागत से 1987 में इसका निर्माण पूरा हुआ था। 4.18 एकड़ में फैले इस स्टेडियम की स्थिति साल 1999 तक बेहतर थी।

जिला स्तरीय खेल भी होते रहे। इसके बाद स्टेडियम के आसपास बसाहट शुरू हुई। प्रशासन ने भी सड़कें बनवाईं। सड़कों की ऊंचाई स्टेडियम के लेवल से अधिक होने के कारण आसपास के घरों का पानी स्टेडियम में भरने लगा। इसके बाद यह स्टेडियम गंदे पानी का तालाब बनता चला गया। स्टेडियम में एक साथ 25 हजार दर्शक बैठ सकते हैं।

10 किमी दूर करने पड़ते हैं बड़े खेल आयोजन

स्टेडियम की ऐसी दुर्दशा के चलते खेलों के आयोजन मधुबनी से 10 किमी दूर पंडौल उच्च विद्यालय के मैदान में करने पड़ते हैं।