पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हड़कंप:गोरौल स्टेशन से सटे मोहल्ला में एक पखवारे के भीतर 11 मौतों से हड़कंप

गोरौल5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गोरौल स्टेशन के बाजार में करीब एक पखवारे से मौत का तांडव है। इस कारण उक्त बाजार में जाने से लोग गुरेज कर रहे हैं, जिससे बाजार में सन्नाटा पसरा है। इस बाजार से ताल्लुक वाले ग्यारह लोगों की अर्थी निकली है। इनमें से 8 की संदेहास्पद मौत हुई और 3 को मात्र कोरोना संक्रमित माना गया। लेकिन उक्त बाजार के निकट लगातार हो रही अधिकांश मौत को कोरोना संक्रमित मानकर लोग सहम चुके हैं। फिर भी प्रशासनिक स्तर पर यहां न कम्युनिटी जांच करायी गई और न कोरोना रोकथाम के कोई उपाय किये गये।

इस कारण क्षेत्र के लोग इस बाजार को कोरोना पीड़ित मानकर बाजार आने से भयवश गुरेज कर रहे हैं। इस हालत में भी प्रशासन ने आम लोगों के बीच संतुष्टि के लिए मरने वालों में कितने कोरोना संक्रमित हैं, इनमें से कोरोना पीड़ित कितने थे या किन बीमारियों से ये लोग मरे हैं यह समझाने का न प्रयास किया और न अबतक प्रशासनिक स्तर आम लोगों के बीच आकर कोई सरकारी प्रक्रिया ही अपनायी है। लोगों के मरने का सिलसिला जारी है, लोग सहमे हैं और प्रशासन मौन है।

प्रशासनिक लापरवाही तो यह है कि इसी बाजार में संचालित एलआईसी के तीन कर्मी इसी दौरान कोरोना से मरें। फिर भी मोहल्ले को न सेनेटाइज किया गया और न कंटेनमेंट जोन ही बनाये गए। जानकारी अनुसार इस एक पखवारे के भीतर इस मोहल्ले में स्थित एलआईसी कार्यालय के 3 कर्मचारी की मौत कोरोना संक्रमण से हुई। फिर भी इस क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन नहीं बनाया गया। इस क्रम में बाजार के बिनोद साह, रामलला साह की पत्नी, उसी परिवार से अशोक साह, पारस राय की पत्नी, हरिशंकर साह, केदार साह, गोपाल कहनानी की बेटी एवं पुत्र की मौत संदेहास्पद बताई गई है। ये संदेहास्पद मौत कैसे हुई इसे प्रशासन ने जानने की भी कोशिश नहीं की।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज दिन भर व्यस्तता बनी रहेगी। पिछले कुछ समय से आप जिस कार्य को लेकर प्रयासरत थे, उससे संबंधित लाभ प्राप्त होगा। फाइनेंस से संबंधित लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय के सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे। न...

    और पढ़ें