पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परेशानी पर परेशानी:पटना में ब्लैक फंगस की दवा का स्टॉक हुआ खत्म, जरूरत हुई तो दो दिन करना होगा इंतजार

पटना20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 21 नए मरीज मिले, दो की हुई मौत, पीड़ितों की संख्या 400 के पार

पटना में ब्लैक फंगस की दवा का स्टाॅक खत्म हो गया है। ब्लैक फंगस के इलाज में काम आने वाले लाइपोसोमल एम्फेटेरेसिम बी इंजेक्शन के लिए अब अस्पतालों को इंतजार करना होगा। शनिवार को स्टॉक में 500 वायल बची थी, जिसे सिविल सर्जन और 3 हॉस्पिटल को अलॉट कर दिया गया।

औषधि नियंत्रण विभाग का कहना है कि इंजेक्शन के लिए डिमांड भेज दी गई है। सोमवार तक आने की उम्मीद है। गौरतलब है कि राज्य में ब्लैक फंगस का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है। अब तक 400 से अिधक मरीज मिल चुके हैं जिसमें 39 की मौत हाे चुकी है। ऐसे में दवा के खत्म होने से संकट और बढ़ेगा। शनिवार को 21 और नए मरीज मिले हैं। दो मरीजों की मौत हुई है।

पटना में रोज 1000 से अधिक की डिमांड

पटना में लाइपोसोमल एम्फेटेरेसिम बी इंजेक्शन की हर दिन एक हजार से अधिक की डिमांड है। पटना एम्स में हर दिन 400 से 500 वायल की खपत है। वहीं आईजीआईएमएस में लगभग 500 वायल की खपत है। पीएमसीएच में भी 50 वायल तक का खर्च है, जबकि, एनएमसीएच में यह संख्या 50 से कम है। औषधि नियंत्रण विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, शनिवार को पटना सिविल सर्जन को 75 वायल, एम्स को 150 वायल, आईजीआईएमएस को 200 वायल और पीएमसीएच को 75 वायल अलाॅट किया गया है। किसी भी प्राइवेट हॉस्पिटल को दवा अलाॅट नहीं किया गया है। ऐसे में प्राइवेट हॉस्पिटल से लाइपोसोमल एम्फेटेरेसिम बी इंजेक्शन की डिमांड आई तो उसे नहीं मिल पाएगी।

जो हमारे पास था अलॉट कर दिया

शनिवार तक 500 इंजेक्शन बचा था, जिसे अलॉट कर दिया गया है। अब डिमांड की गई है। सोमवार से पहले इंजेक्शन के आने की उम्मीद नहीं है। बीएमएसआईसीएल को इसकी जानकारी दे दी गई है। -कमला, सहायक औषधि नियंत्रक, पटना

रोज आ रही सूई,उसी हिसाब से आवंटन

ब्लैक फंगस के इंजेक्शन हर दिन आ रहे हैं । हमारे पास सप्लाई लिमिटेड आ रही है। हमलोग प्रयास कर रहे हैं, 2-3 दिन में सप्लाई नॉर्मल हो जाएगी। केंद्र से भी बात हो रही है। -मनीष रंजन, असिस्टेंट डायरेक्टर ड्रग्स, राज्य स्वास्थ्य समिति

खबरें और भी हैं...