• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Students' Great Agitation Against BSSC, Thousands Of Students Will Be On The Road In Patna For Agitation On November 15

BSSC के खिलाफ छात्रों का महा आंदोलन:अबतक घोषित नहीं हुई काउंसिलिंग की डेट, 15 नवंबर को पटना में सड़क पर उतरेंगे छात्र

पटना20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार स्टेट स्टाफ कमीशन (BSSC) के खिलाफ छात्रों में भारी आक्रोश है। अब वह 15 नवंबर को पटना में महा आंदोलन की तैयारी कर रहे हैं। काउंसलिंग की डेट घोषित करने और काउंसलिंग में दो गुना ज्यादा अभ्यर्थियों को बुलाने की मांग को लेकर छात्रों का आंदोलन होगा। इसे लेकर प्रदर्शन की तैयारी चल रही है। छात्रों का बढ़ता आक्रोश बड़े आंदोलन का रूप ले रहा है।

छात्रों का कहना है कि 13120 पदों के लिए 2014 मे निकली प्रथम इंटर स्तरीय बहाली साढ़े 7 साल बाद भी पूरी नहीं हो पाई है। इससे परीक्षार्थी निराश हैं और वह काफी आक्रोशित हैं। BSSC के खिलाफ अब एक बार फिर 15 नवंबर को पटना मे छात्रों का आंदोलन बड़ा रूप लेगा।

राष्ट्रीय छात्र एकता मंच के अध्यक्ष छात्र नेता दिलीप कुमार ने बताया कि BSSC ने खुद 19 सितंबर को नोटिस जारी कर बताया था कि नवंबर के प्रथम सप्ताह मे प्रथम इंटर स्तरीय बहाली का काउंसलिंग शुरू होगी, लेकिन नवंबर प्रथम सप्ताह समाप्त होने के बाद भी काउंसलिंग की डेट तक घोषित नहीं की गई है। इसलिए अब छात्र आंदोलन करने के लिए मजबूर हैं।

छात्रों की मांग जल्द डेट घोषित की जाए
छात्र नेता दिलीप कुमार का कहना है कि छात्रों की मांग है कि काउंसिलिंग की तिथि जल्द से जल्द घोषित हो। काउंसिलिंग में सीट से दो से ढाई गुना अधिक अभ्यर्थियों को बुलाने और फर्जीवाड़ा रोकने और पारदर्शिता के साथ बहाली जल्द पूरी करने की मांग को लेकर 15 नवंबर को गर्दनीबाग धरनास्थल, पटना मे छात्र महा आंदोलन होगा।

छात्रों का कहना है कि यह बहाली साढ़े सात साल पहले की है और 53 हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स काउंसिलिंग का इंतजार कर रहे हैं। इन साढ़े सात सालों मे इन अभ्यर्थियों ने काफी दुःख-दर्द झेला है। इसलिए मानवीय रुख अपनाते हुए जल्द काउंसिलिंग करवाकर फाइनल रिजल्ट जारी होनी चाहिए।

साढ़े 7 साल में हजारों अभ्यर्थी पा गए दूसरी नौकरी
छात्रों का कहना है कि साढ़े 7 साल में हजारों अभ्यर्थी ऐसे हैं जो कहीं नौकरी में भी चले गए हैं। ऐसी परिस्थिति में काफी संख्या मे सीट खाली रहने की संभावना है। अगर सीट खाली रह जाती है और दूसरी तरफ साढ़े सात साल से नौकरी के लिए दिन-रात लगे अभ्यर्थियों को नौकरीं नही मिलती है तो ये बहुत बड़ा अन्याय होगा। इसलिए काउंसिलिंग मे सीट से दो से ढाई गुना अधिक अभ्यर्थियों को बुलाना आवश्यक है। ताकि सीटें खाली ना रहे।

छात्रों का कहना है कि अगर BSSC काउंसिलिंग की तिथि जल्द घोषित नही करती है तो राज्य मानवाधिकार आयोग (बिहार), राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग और UNO तक पत्र, ईमेल और ट्विटर के माध्यम से इन मांगों को पहुंचाया जाएगा। इसके साथ ही बिहार के सभी जिलों मे आंदोलन किया जाएगा और बिहार बंद कराया जाएगा।