रोसड़ा में सफाईकर्मी की मौत का मामला:भाकपा- माले की मांग- मौत की उच्चस्तरीय जांच हो, दोषी को भी बर्खास्त करने को कहा

पटना21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक रामसेवक राम, सफाईकर्मी। - Dainik Bhaskar
मृतक रामसेवक राम, सफाईकर्मी।

भाकपा-माले के पोलित ब्यूरो सदस्य धीरेन्द्र झा ने रोसड़ा थाने में हुई पुलिस पिटाई से सफाईकर्मी रामसेवक राम की मौत को हत्या बताया है। साथ ही कहा है कि बिहार में पुलिस राज कायम हो गया है। उन्होंने थाना प्रभारी और रोसड़ा नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी पर अविलम्ब कार्रवाई की मांग की।

भाकपा माले का विरोध मार्च

रोसड़ा नगर परिषद के सफाईकर्मी रामसेवक राम की मौत की उच्च स्तरीय जांच कराने, दोषी पुलिस- पदाधिकारी को बर्खास्त करने, परिजन को 10 लाख रुपए मुआवजा और नौकरी देने, पत्रकार, पार्षद व मजदूर पर दर्ज रोसड़ा थाना झूठा कांड संख्या-343/21 तत्काल समाप्त करने की मांग को लेकर भाकपा- माले के कार्यकर्ताओं ने नगर परिषद क्षेत्र के मोतीपुर काली स्थान से विरोध मार्च निकाला। अपने-अपने हाथों में झंडे, बैनर और मांगों से संबंधित नारे लिखे कार्ड बोर्ड लेकर माले कार्यकर्ताओं ने आक्रोशपूर्ण नारे लगाए और लगाते हुए नेशनल हाईवे-28 से गुजरते हुए बाजार क्षेत्र गांधी चौक पर सभा की, जिसकी अध्यक्षता प्रखंड सचिव सुरेन्द्र प्रसाद सिंह ने की।

आंदोलन की चेतावनी

किसान नेता ब्रहमदेव प्रसाद सिंह, बासुदेव राय, बखेरी सिंह, हरिदेव प्रसाद सिंह, ललन दास, श्याम चंद्र दास, रामसेवक राय, रामबाबू सिंह, मंजीत कुमार, महेंद्र दास, अनिल सिंह आदि ने सभा को संबोधित करते हुए हत्यारे को बर्खास्त कर सफाईकर्मी रामसेवक राम को न्याय देने अन्यथा आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी। अपने अध्यक्षीय भाषण में प्रखण्ड सचिव ने कहा कि हाजत लोगों को सुरक्षा देने के लिए होता है, न की पिटाई कर मार देने के लिए। हाजत में हत्या जघन्य अपराध है और इसके दोषियों को दंड मिलना ही चाहिए। भाकपा माले इस संघर्ष को सड़क से विधानसभा तक ले जाएगी।