पटना विवि में सिंडिकेट ने CBCS को दी मंजूरी:अब सीनेट में जाएगा प्रस्ताव, कुलाधिपति की मंजूरी के बाद होगा लागू

पटना6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पटना विवि की सिंडिकेट बैठक में यह निर्णय लिया गया। - Dainik Bhaskar
पटना विवि की सिंडिकेट बैठक में यह निर्णय लिया गया।

पटना विश्वविद्यालय के स्नातक स्तर के पाठ्यक्रमों में च्वाइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम (सीबीसीएस) लागू करने को अब सिंडिकेट ने भी मंजूरी दे दी है। मंगलवार को कुलपति प्रो. गिरीश कुमार चौधरी की अध्यक्षता में हुई पटना विवि सिंडिकेट की बैठक में स्नातक स्तर के सामान्य पाठ्यक्रमों में भी सीबीसीएस लागू करने की मंजूरी दे दी गई। यह प्रस्ताव पहले ही एकेडमिक काउंसिल द्वारा पारित किया जा चुका है। सत्र 2022-23 से लागू करने के लिए इसे अब सीनेट की बैठक में भेजा जाएगा और उसके बाद कुलाधिपति की मंजूरी के बाद लागू किया जा सकेगा।

पटना विवि प्रशासन ने सत्र 2018-19 से ही स्नातकोत्तर स्तर पर सीबीसीएस लागू किया था, लेकिन यह स्नातक स्तर पर इसे लागू नहीं कर सका क्योंकि अधिकांश कॉलेज इसके लिए तैयार नहीं थे। हालांकि, कुछ वोकेशनल पाठ्यक्रमों में 2019-20 सत्र से सीबीसीएस की शुरुआत पहले ही कर दी गई है।

तीन दर्जन शिक्षकों की प्रोन्नति का मामला भी मंजूर

मंगलवार को हुई सिंडिकेट की बैठक में लगभग तीन दर्जन शिक्षकों की प्रोन्नति का मामला भी आया, जिसे मंजूर कर लिया गया है। वहीं पटना मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत विवि परिसर के अलग-अलग हिस्सों की जमीन के अधिग्रहण के मुद्दे पर भी चर्चा हुई। इस प्रोजेक्ट में पटना कॉलेज व साइंस कॉलेज के साथ सीनेट हॉल की बाउंड्री भी टूटेगी। इसमें पटना विवि का शताब्दी द्वार भी टूटेगा। इसके लिए राज्य सरकार द्वारा अनापत्ति प्रमाण पत्र की मांग की गई थी।
13 जनवरी को बैठक में की जाएगी बजट पर चर्चा

पटना विवि की इस ऑनलाइन सिंडिकेट बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि 18 जनवरी को होने वाली सीनेट की बैठक से पहले बजट पर चर्चा के लिए 13 जनवरी को सिंडिकेट की बैठक आयोजित की जाएगी। मंगलवार की बैठक में प्रतिकुलपति प्रो. अजय कुमार सिंह, छात्र कल्याण संकायाध्यक्ष प्रो. अनिल कुमार, सिंडिकेट सदस्य पप्पू वर्मा, नीतीश कुमार टनटन और नवीन कुमार भी शामिल रहे।