पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जलजमाव से निजात की तैयरी:राजधानी के 17 लाख फीट नालों की उड़ाही का लक्ष्य, माह के अंततक काम पूरा करने का टास्क

पटना16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तेजी से कार्य पूरा कराने के लिए बनाई गई योजना - Dainik Bhaskar
तेजी से कार्य पूरा कराने के लिए बनाई गई योजना
  • अबतक शहर के 3.5 लाख फीट नाला की ही हो पाई है उड़ाही, मैनहोल की सफाई का काम भी धीमा

शहर में बारिश के मौसम में लोगों को जलजमाव की समस्या से न जूझना पड़े, इसके लिए नालों की उड़ाही का कार्य पूरा कराना जरूरी है। इस कार्य में अभी तक उस स्तर पर तेजी लाने में कामयाबी नहीं मिल सकी है।

नगर निगम की ओर से एक फरवरी से ही आगामी मॉनसून की तैयारियों को ध्यान में रखते हुए नालों की उड़ाही का अभियान शुरू करने की घोषणा की गई। काम भी शुरू कराए गए। लेकिन, फरवरी व मार्च में काम की गति काफी धीमी रही। नगर विकास विभाग के स्तर पर मॉनसून तैयारियों की समीक्षा के क्रम में यह मामला सामने आया है।

पटना नगर निगम की ओर से शहर के सभी नाला और मैनहोल व कैचपिट की सफाई कराने का लक्ष्य रखा गया है। इस कार्य को 30 अप्रैल तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है ताकि ओपन ड्रेन या मैनहोल व कैचपिट में टूट-फूट की मरम्मत कराने के लिए पर्याप्त समय मिल सके। बाद में समय-समय पर नालों की सफाई का कार्य कराने से पानी के बहाव को तेज रखने में कामयाबी मिल सकती है।

वर्ष 2019 में बारिश के बाद भीषण जलजमाव ने वर्ष 2020 में नगर निगम को नए सिरे से नालों की सफाई की योजना को तैयार करने को विवश किया। पिछले वर्ष एक बार संपूर्ण उड़ाही के बाद करीब तीन बार बारिश के मौसम में नालों की सफाई कराई गई। इससे अधिकांश जलजमाव प्रभावित रहने वाले इलाकों से तेजी से पानी निकालने में कामयाबी मिली। सरकार की ओर से पिछले वर्ष की तैयारियों को मानक मानते हुए नालों की सफाई को उस स्तर से आगे ले जाने का निर्देश दिया गया है।

लेकिन, नाला उड़ाही का अभियान अभी तक जोर नहीं पकड़ पाया है। पिछले दो माह में करीब 20 फीसदी नालों की ही सफाई हो सकी है। ऐसे में 25 दिनों में 80 फीसदी नालों की उड़ाही का कार्य पूरा कराने में कैसे कामयाबी मिलेगी, यह सवाल खड़ा हो रहा है। नगर निगम प्रशासन का दावा है कि अधिक कर्मियों को लगाकर इस कार्य को पूरा कराया जाएगा।

नगर निगम क्षेत्र में 17 लाख तीन हजार 568 फीट ओपन व सर्विस नाला हैं। नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा की ओर से नगर विकास विभाग के स्तर पर समीक्षा बैठक में जानकारी दी गई है कि अब तक तीन लाख 49 हजार 443 फीट नालों की उड़ाही का कार्य पूरा करा लिया गया है।

इस प्रकार इस माह में 13 लाख 54 हजार 125 फीट नालों की उड़ाही का कार्य नगर निगम की ओर से पूरा कराया जाना है। निगम प्रशासन की ओर से दो शिफ्ट में उड़ाही का कार्य कराकर समय पर कार्य पूरा करने का दावा किया गया है।

तेजी से कार्य पूरा कराने के लिए बनाई गई योजना
नगर निगम की ओर से अब नाला उड़ाही के कार्य को तेज करने की योजना बनाई जा रही है। अंचलों के स्तर पर टीम का गठन कर इस कार्य को पूरा कराया जाएगा। नाला उड़ाही अभियान की मुख्यालय स्तर पर भी विशेष रूप से निगरानी की जाएगी, ताकि कार्य को तेजी से पूरा कराने में कामयाबी मिले। सरकार के स्तर पर भी नियमित समीक्षा का निर्णय लिया गया है। ऐसे में कार्य में तेजी लाना ही होगा। कोरोना संक्रमण के बढ़ते स्तर के बाद भी इस कार्य की गति को बढ़ाने के लिए निगम के स्तर पर रणनीति तैयार की जा रही है।

मैनहोल और कैचपिट की उड़ाही का कार्य भी है धीमा
स्वच्छता सर्वेक्षण के कारण बड़े नालों की उड़ाही पर नगर निगम की ओर से जोर नहीं दिया जा सका। हालांकि, निगम प्रशासन की ओर से मैनहोल व कैचपिट की सफाई का कार्य कराए जाने का दावा किया गया। समीक्षा के क्रम में इसकी भी हकीकत सामने आई है। नगर निगम प्रशासन का कहना है कि अब तक 46,837 मैनहॉल में से 10,001 मैनहोल की सफाई का कार्य कराया गया है। वहीं, शहर में स्थित 36,241 कैचपिट में से 8,289 की उड़ाही का कार्य पूरा गया है। निगम का कहना है कि इस वर्ष अन्य मशीनों के साथ-साथ 12 नए जेटिंग मशीन और बैंडीकूट मशीन से भी नाला उड़ाही का कार्य किया जा रहा है। नाला उड़ाही कार्य में लगी सभी मशीनें जीपीएस युक्त हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें