3 अरब 60 कराेड़ का बजट मिला:मदरसों में साइंस साेशल साइंस और लैंग्वेज के टीचर की हाेगी बहाली

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार मदरसा बाेर्ड से मान्यता प्राप्त करीब 400 मदरसाें में साइंस, साेशल साइंस अाैर लैंग्वेज के एक-एक टीचर की बहाली हाेगी। यानी कुल 12 हजार टीचराें की बहाली हाेनी है। बिहार मदरसा बाेर्ड के चेयरमैन अब्दल कैय्यूम अंसारी ने दिल्ली में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय की सचिव रेणुका कुमारी, सहायक सचिव निगार फातिमा हसन से यूनिसेफ की राष्ट्रीय शिक्षाविद प्रमीला मनोहरण की माैजूदी में भेंट की। इस दाैरान टीचर की बहाली करने और इसपर सालाना 3 अरब 60 कराेड़ का बजट दिया। चेयरमैन ने कहा कि अगर मंजूरी मिल जाती है कि बहाल हाेने पर शिक्षकाें काे 6 हजार की बजाय 25 हजार महीना मानदेय मिलेगा।

केंद्र सरकार ने बिहार के मदरसाें काे राेल माॅडल माना है। यह सब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की काेशिशाें का नतीजा है। केंद्र सरकार ने कहा है कि सितंबर में देश के विभिन्न राज्याें के 8 मदरसा बाेर्ड के चेयरमैन व अधिकारियाें के साथ बैठक हाेगी और उन्हें बिहार माॅडल के बारे में बतासा जाएगा। केंद्र सरकार के इन अधिकारियाें ने कहा कि वैसे प्राइवेट मदरसे जाे संबंधित मदरसा बाेर्ड से रजिस्टर्ड नहीं हैं वे रजिस्ट्रेशन करा लें।

तब इनके छात्राें काे भी साइकिल, पाेशाक और मिड डे मील की सुविधा मिलेगी। रजिस्टर कराने वाले मदरसाें काे आरटीई से दूर रखा जाएगा। चेयरमैन ने केंद्र सरकार के अधिकारियाें की टीम काे बताया कि बाेर्ड पूरी तरह अाॅनलाइन हाे गया है। परीक्षाएं और परिणाम समय पर हाे रहे हैं। एनसीईआरटी की तर्ज पर छात्राें के लिए पुस्तकें छपवाई गईं और छात्राें काे उपलब्ध कराई गई है। फाैकानिया की परीक्षा में प्रथम श्रेणी से पास छात्र-छात्रअाें काे 10 हजार और माैलवी में प्रथम श्रेणी से पास छात्र-छात्राओं काे 25 हजार की राशि प्रोत्साहन के रूप में दी जाती है।

खबरें और भी हैं...