पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शिक्षा में अब गुणवत्ता बढ़ाने पर जोर:शिक्षकों को 1 अप्रैल से बढ़ा वेतन मिलेगा, सभी स्कूलों में अब फुलटाइम हेडमास्टर

पटना11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।
  • 2020-21 से नई शिक्षा नीति लागू की जाएगी, विदेश में पढ़ने के इच्छुक छात्रों के लिए डिजिटल काउंसिलिंग

सरकार ने बजट के माध्यम से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की उपब्धता पर जोर दिया है। एक अप्रैल से शिक्षकों के वेतन में 15 प्रतिशत की वृद्धि का लाभ मिलेगा। सभी मध्य और हाईस्कूलों में पूर्णकालिक प्रधानाध्यापक की नियुक्ति की जाएगी। 2021-22 से नई शिक्षा नीति को लागू कर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा बच्चों को देने की कोशिश होगी डिजिटल बिहार कार्यक्रम के तहत कक्षा 6 से आगे के बच्चों को कप्यूटर शिक्षा और प्रशिक्षण इस साल से शुरू होगी।

विदेश में अध्ययन के लिए इच्छुक छात्र-छात्राओं के लिए डिजिटल काउंसिलिंग की प्रणाली विकसित होगी। नई शिक्षा नीति 2020 और आत्मनिर्भर हार के लिए सात निश्चत 2 में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पर जोर है। प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक तक राज्य में 82 हजार स्कूल हैं। प्रारंभिक स्कलों में 3,69,105 शिक्षक हैं। हाईस्कूलों में शिक्षकों की संख्या लगभग एक लाख है।

दिल्ली-हिमाचल जैसी व्यवस्था के लिए अभी लगाना होगा और जोर
बिहार की शिक्षा व्यवस्था दुरूस्त करना बड़ी चुनौती है। सभी पंचायतों में हाईस्कूल खोला गया है। हाईस्कूलों में शिक्षकों की बहाली प्रक्रिया चल रही है। दिल्ली और हिमाचल जैसे सरकारी स्कूल कैसे बनेंगे, इस दिशा में कोई ठोस पहल नहीं दिख रही है। उच्च कक्षाओं में सत्र नियमित करने के लिए शैक्षणिक और परीक्षा कैलेंडर निर्धारित की गई है।

प्रत्येक विवि को शैक्षणिक और परीक्षा कैलेंडर के अनुसार सत्र और परीक्षा को नियमित रखने की जिम्मेीदारी है। इस मामले पर राजभवन और उच्च शिक्षा निदेशालय समय-समय पर समीक्षा भी करता है। 2035 तक उच्च शिक्षा के लिए 50 प्रतिशत सकल नामांकन अनुपात (जीईआर) करने की कार्रवाई की जा रही है।

तारकिशोर ने 54 मिनट में पढ़ा बजट भाषण, दर्शक दीर्घा में रहा परिवार

उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने 54 मिनट में अपना बजट भाषण पढ़ा। हालांकि वे 80 पेज पूरा नहीं पढ़ सके। भोजनावकाश के बाद उन्हाेंने 2:01 बजे अपना बजट भाषण शुरू किया और 2:55 तक पढ़ते रहे। इस बीच उन्हें विपक्ष की ओर से कई बार विरोध के स्वर का भी सामना करना पड़ा। भाई वीरेंद्र ने उनके भाषण पर कई बार आपत्ति की और कहा कि वे सिर्फ सपने परोस रहे हैं।

उधर, सत्ता पक्ष बार-बार मेज थपथपाकर उनके भाषण के अंशों का स्वागत करता रहा। उपमुख्यमंत्री के बजट भाषण के दौरान उनका पूरा परिवार दर्शक दीर्घा में मौजूद था। उनकी पत्नी, लड़का, दोनों बहुएं और पोता-पोती। खासकर उनकी पोती ने दादा के बजट भाषण का खूब लुत्फ उठाया। वह बार-बार अपनी दादी, मां और चाची से मुखातिब थी। उनसे लगातार चर्चा कर रही थी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें