• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • The Family Of One Girl Built A Wall In The Way Of Marriage, A Case Of Kidnapping Was Filed On The Other

पटना में दो सहेलियों को आपस में हुआ प्यार:शादी की राह में दीवार बने एक लड़की के परिजन, दूसरी पर दर्ज कराया किडनैपिंग का केस

पटना2 महीने पहले

एक कॉमन दोस्त के जरिए दो लड़कियों की आपस में मुलाकात हुई थी। बहुत कम समय में दोनों की दोस्ती हुई। एक-दूसरे के घर दोनों आने-जाने लगे। इन्हें एक-दूसरे का साथ इस कदर भाने लगा कि प्यार हो गया। सामाजिक बंधनों को तोड़ समलैंगिकता के रिश्तों को मजबूत करने में ये दोनों लड़कियां जुट गईं। अब ये दोनों आपस शादी करना चाहती हैं। दोनों के घर वाले इसमें दीवार बने हुए हैं।

लड़कियां देश में बने समलैंगिकता कानून का उदाहरण दे रही हैं। मगर, एक लड़की के परिवार ने दूसरी लड़की और उसके परिवार के ऊपर तो कानूनी शिकंजा ही कस दिया। उसके ऊपर पटना के पाटलिपुत्रा थाना में किडनैपिंग का FIR दर्ज करा दी।

खबर आगे पढ़ने से पहले पोल में हिस्सा लेकर अपने विचार दीजिए।

4 दिन से गायब हुईं थीं दोनों

एक लड़की का नाम तनिष्क श्री (19) है और यह दानापुर की रहने वाली है। दूसरी लड़की का नाम श्रेया घोष (22) है और पटना में पाटलिपुत्रा थाना इलाके की रहने वाली है। पाटलिपुत्रा के थानेदार एसके शाही के अनुसार, 4 दिन पहले दोनों लड़कियां पाटलिपुत्रा के एक मॉल मिली और वहां से दोनों गायब हो गईं। इसके बाद ही तनिष्क के परिवार वालों ने किडनैपिंग का मामला दर्ज कराया था। इसके बाद से पुलिस टीम केस की पड़ताल कर रही थी। इन्हें खोजने में लगी थी। भागने के बाद दोनों दिल्ली चली गई थीं।

मगर, गुरुवार को अचानक से दोनों पटना आईं। फिर शाम के वक्त महिला थाना पहुंची। वहां एक-दूसरे से शादी करने की बात कही। हालांकि, महिला थाना से दोनों को मदद नहीं मिली। इसके बाद गुहार लगाने के लिए SSP मानवजीत सिंह ढिल्लों से मिलने की कवायद में जुट गईं।

मामा और चाचा से जान को खतरा

महिला थाना में मिली तनिष्क श्री बेहद घबराई हुई थी। वो बताती हैं कि मेरे चाचा विशाल वर्मा और मामा अंबर कश्यप ने केस किया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि श्रेया घोष ने मुझे किडनैप किया है। जबकि, ऐसा नहीं है। हम अपनी मर्जी से गए हैं। चाचा और मामा की तरफ से हमें लगातार धमकी दी जा रही है कि अगर हम मिल गए तो वो जान से मार देंगे। साथ ही श्रेया के फैमिली को भी गंदे तरीके से टॉर्चर किया जाएगा। हम दोनों लड़की हैं और हमेशा साथ रहना चाहते हैं। हम लोग शादी करना चाहते हैं। परिवार वाले इसका विरोध कर रहे हैं। वो कहते हैं कि तुम लोगों को साथ नहीं रहने देंगे। जब इस बात के बारे में हमारे परिवार को पता चला तब से टॉर्चर किया जा रहा था।

मोबाइल फोन छीन लिया गया था। घर से बाहर निकलने पर पाबंदी लगा दी गई थी। एक दिन परिवार के लोग मूवी देखने जा रहे थे। तब हम अपनी मर्जी से एक स्टाफ के मोबाइल से श्रेया को कॉल किए। उसे मॉल बुलाया। वो मुझे जबरदस्ती लेकर नहीं गई थी। मुझे श्रेया के साथ जाना ही था। चाहे कुछ भी हो जाए, मुझे श्रेया के साथ ही रहना है। अगर घर गए तो परिवार के लोग मुझे और इसके परिवार के लोगों को मार देंगे।

हमें साथ रहने से कोई रोक नहीं सकता

श्रेया घोष ने बताया कि पहले से हम एक-दूसरे को जानते हैं। कॉमन फ्रेंड के जरिए हमलोग मिले थे। अच्छी दोस्ती हो गई थी। हमारा एक-दूसरे के घर आना-जाना भी होता था। इसी दरम्यान हम दोनों एक-दूसरे के काफी क्लोज आ गए। तनिष्क की मां नहीं है। इसे सपोर्ट चाहिए था। वो सपोर्ट मैंने दिया। इस तरह से हम दोनों के बीच रिश्ता बना। समलैंगिकता को लेकर कानून भी बन चुका है। हमें साथ रहने से कोई रोक नहीं सकता है। हम दोनों के घर वालों को हमारे रिश्ते से एतराज है। जब तनिष्क ने स्टाफ के मोबाइल से कॉल कर बुलाया तो बतौर पार्टनर वो मेरी ड्यूटी थी इसलिए मुझे जाना पड़ा। वहां गई तो इसने मुझे कहा कि अभी के अभी हमें निकलना है। तब लेकर निकल गई। अब बात आ रही है कि तनिष्क के घर वालों ने मेरे और मेरे परिवार के ऊपर इसके किडनैपिंग का केस किया। जबकि, हम दोनों की उम्र 18 साल से अधिक है। साथ रहने का हमें कानूनी अधिकार है।