पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लोजपा दफ्तर के पास हुई घटना:नशे में धुत्त बाइक सवार की टक्कर से राजमिस्त्री की गई जान, थाने का घेराव

पटना5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घटना के बाद सचिवालय थाना का घेराव करते आक्रोशित लोग। - Dainik Bhaskar
घटना के बाद सचिवालय थाना का घेराव करते आक्रोशित लोग।
  • बाइक सवार गिरफ्तार, सिपारा का है रहने वाला

तेज रफ्तार से जा रहे नशे में धुत्त बाइक सवार ने काम कर घर लौट रहे राजमिस्त्री को टक्कर मार दी। घटना बुधवार की देर शाम सचिवालय थाना के लोजपा दफ्तर के पास हुई। घटना के बाद स्थानीय लोगों ने घायल चितकोहरा के रहने वाले घायल राजमिस्त्री रंजीत कुमार को इलाज के लिए पीएमसीएच भेजा। जहां इलाज के दौरान देर रात उनकी मौत हो गई। इधर, लोगों ने खदेड़कर बाइक सवार को पकड़ लिया।

वह शराब के नशे में धुत्त था। लोगों ने युवक को पुलिस के हवाले कर दिया। गुरुवार को रंजीत के आक्रोशित परिजन सचिवालय थाना पहुंचे गए। आक्रोशित परिजनों ने थाने का घेराव कर दिया और हंगामा करने लगे। लगभग एक घंटे तक शव के साथ आक्रोशित लोगों ने प्रदर्शन किया। इसके बाद जिला प्रशासन के अधिकारी और थाने की पुलिस मिलकर लोगों को समझाया, तब जाकर मामला शांत हुआ। आक्रोशित लोग उचित मुआवजे की मांग कर रहे थे।

आरोपित को छोड़ देने की अफवाह पर लोगों ने किया हंगामा

रंजीत की मौत के बाद शव को चितकोहरा के कौशल नगर स्थित उसके घर लाया गया। इस बीच परिजनों को किसी ने कह दिया कि जिस युवक ने धक्का मारा था, उसे पुलिस ने छोड़ दिया है। इसके बाद स्थानीय लोग ने हंगामा किया और उनलोगों ने थाने का घेराव कर लिया। हालांकि, तब पुलिस ने उन्हें बताया कि आरोपित युवक सिपारा का रहने वाला था और उसे जेल भेज दिया गया है। इसके बाद परिजन मुआवजे की मांग पर अड़ गए और घंटे पर शव को रखकर हंगामा करते रहे। थानेदार चंद्रशेखर गुप्ता ने कहा कि आरोपित युवक शराब के नशे में था। उसकी बाइक जब्त कर ली गई है और उसे जेल भेज दिया गया है।

घर का इकलौता कमाने वाला था, मचा कोहराम

40 वर्षीय रंजीत घर में इकलौते कमाने वाले थे। वे बुधवार की शाम भी काम कर ही साइकिल से घर लौट रहे थे तभी घटना हुई। रंजीत को दो बेटी और एक बेटा है। परिजनों ने कहा कि रंजीत के अलावा उनके परिवार में कोई नहीं है। अब तो भरण पोषण में भी दिक्कत आ जाएगी। बच्चे भी छोटे हैं। हालांकि मौके पर पहुंचे जिला प्रशासन के अधिकारी ने उचित मुआवजे का भरोसा दिया और तब जाकर आक्रोशित लोग शांत हुए।

खबरें और भी हैं...