मुख्य सड़क से घाट करीब तीन किमी दूर:गंगा घाट के उबड़-खाबड़ पहुंच पथ किए जा रहे समतल ताकि गाड़ी से पहुंच सकें छठव्रती

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पाटलिपुत्रा अंचल ने सात एजेंसियों को सौंपा काम, 10 घाटों पर बनने लगी अस्थायी सड़क। - Dainik Bhaskar
पाटलिपुत्रा अंचल ने सात एजेंसियों को सौंपा काम, 10 घाटों पर बनने लगी अस्थायी सड़क।

गंगा घाट पर छठ व्रतियों के आने-जाने के लिए अस्थायी सड़क बनाने का काम शुरू हो गया है। मुख्य सड़क से घाट करीब तीन किमी दूर है। घाट तक पहुंचने वाले रास्ते खराब हैं। कहीं-कहीं दो-तीन फीट तक गड्ढा है। रास्ता समतल नहीं होने के कारण जेसीबी से मिट्टी को बराबर किया जा रहा है। जहां अधिक गड्ढा है, वहां गंगा बालू भरा जा रहा है। दीघा घाट से कलेक्ट्रेट घाट के बीच लंबी दूरी वाले घाटों पर अस्थायी सड़क और पार्किंग निर्माण का काम तेजी से चल रहा है। सूत्रों की मानें तो पाटलिपुत्र अंचल में आठ एजेंसियाें का टेंडर फाइनल हो गया है।

एग्रीमेंट करके एजेंसी को वर्क ऑर्डर दे दिया गया है। जिन एजेंसियाें को वर्क ऑर्डर मिला है, वे सड़क और घाट का निर्माण शुरू कर चुकी हैं। छठव्रती वाहन से सीधे घाट तक पहुंच सकेंगे। अभी राजापुर पुल और कुर्जी घाट पर अस्थायी सड़क का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। दोनों जगहों पर दो किमी से अधिक दूरी पर गंगा घाट है। अभी करीब एक किमी तक सड़क बनाने के लिए मिट्टी और बालू को समतल किया गया है।

वाच टावर, नियंत्रण कक्ष व चेंजिंग रूम के लिए जगह का हो रहा चयन

जहां-तहां उबड़-खाबड़ है। जरूरत के अनुसार मिट्टी को गड्ढे में डाला जा रहा है। जहां-जहां पर गिली मिट्टी है उस जगहों पर गंगा बालू डाला जा रहा है। सड़क बनाने के लिए दोनों घाट पर एक-एक जेसीबी लगाया गया है। इसके साथ ही वाच टावर, नियंत्रण कक्ष और चेंजिंग रूम बनाने के लिए घाटों के आसपास जगह का चयन किया जाएगा। घाट के 300 मीटर के दायरे में इन सुविधाओं को बहाल किया जाएगा। वाच टावर की ऊंचाई, नियंत्रण कक्ष के एरिया आदि पर मंथन करके कार्य करने का निर्देश दिया जाएगा।

गड्ढे में भरी जा रही मिट्टी, जहां गीली मिट्टी वहां डाला जा रहा गंगा बालू
गड्ढे में भरी जा रही मिट्टी, जहां गीली मिट्टी वहां डाला जा रहा गंगा बालू

घाट से 300 मीटर की दूरी पर होगी पार्किंग
घाटों से करीब 600 मीटर के दायरे में पार्किंग स्थल बनाया जाएगा। करीब 500-600 वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था रहेगी। सड़क के दोनों मुहाने पर क्रेन की व्यवस्था रहेगी ताकि अगर कोई वाहन खराब हो जाता है या फंस जाता है तो उसे तत्काल हटाया जा सके।

खबरें और भी हैं...