पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • The Situation In The Waterlogged Areas Of The City Is Hellish, The Residents Are Plagued By The Foul Smell Of The Water.

जलजमाव की समस्या:शहर के जलजमाव वाले क्षेत्रों में बनी स्थिति नारकीय, पानी के दुर्गंध से नगरवासी त्रस्त

हाजीपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नखास चौक स्थित मोहल्ला में लगा बारिश का पानी। - Dainik Bhaskar
नखास चौक स्थित मोहल्ला में लगा बारिश का पानी।

नगर परिषद की क्षेत्र के आधे से अधिक वार्डों के निचले इलाकों में लगभग 70 फीसदी आबादी पिछले एक महीनों से जलजमाव की समस्या से गंभीर रुप से त्रस्त है। इन मुहल्लों में बरसात के बाद हुए जमा हुए पानी सड़ने लगा है। पानी से दुर्गंध फैल रहा है। मूल निवासियों का जीना दूभर हो रहा है। नगर के कई रिहायशी इलाकों के कॉलोनियों और निचले इलाकों के ज्यादातर घरों में पिछले कई हफ्तों से पानी घुस हुआ है। जलजमाव से घिरे लोग लोग माल- मवेशी लेकर ऊंचे स्थान को चले गए हैं। नगर परिषद जलजमाव वाले क्षेत्रों में पंप लगाकर पानी निकासी के काम में जुटा है।

बारिश से कॉलोनियों में बढ़ रहा जलजमाव
ड्रेनेज सिस्टम ठीक नहीं रहने और जगह जगह जल निकासी में अवरोध रहने के कारण पानी नहीं निकल पा रहा है। हर दो-तीन दिनों के अंतराल में तेज बारिश हो जाने के कारण जल जमाव का लेबल और अधिक बढ़ता जा रहा है। जल निकासी की समस्या दूर होने के बजाय हर दिन बढ़ती जा रही है।नकासी की सिस्टम दुरूस्त नहीं रहने और लगातार बारिश होने के कारण जल निकासी की व्यवस्था कारगर साबित नहीं वो पा रही है।

प्रशासनिक कवायाद के बाद भी जलजमाव की स्थिति जस की तस
जल निकासी की गति तेज करने के लिए नगर परिषद क्षेत्र को 4 जोन में बांट कर प्रशासनिक अधिकारियों के टीम की तैनाती भी की गई है। जिसका कोई खास असर नहीं दिख रहा है जलजमाव की स्थिति जस की तस बनी हुई है। ज्यादातर क्षेत्रों में लोगों को जलजमाव वाले अन्य क्षेत्रों में लोगों को पानी में हो- कर का आना-जाना पड़ रहा है। कई रिहायशी इलाकों के मुख्य सड़कों का भी बुरा हाल बना हुआ है। वहीं जहां घरों में पानी घुस गया है। वहां के लोग चौकी, पलंग और छत या ऊंचे स्थान पर जाकर पर खाना बनाना पड़ रहा है। आम जनजीवन अस्त व्यस्त हो कर रह गया है।

ड्रेनेज सिस्टम ध्वस्त
नगर विभिन्न वार्डों से जल निकासी के लिए ड्रेनेज सिस्टम दुरुस्त नहीं है। जिससे मुहल्लों का पानी वहीं का वहीं रुका पड़ा है। नतीजतन पिछले कई हफ्तों से भारी जलजमाव की स्थिति बनी हुई है। नगर परिषद की जल निकासी की अव्यवहारिक व्यवस्था के कारण पानी नहीं निकल पा रहा है। बल्कि सड़कों और घरों में फैल रहा है। रामजीवन चौक, आरएन कॉलेज रोड ,नगर के राम प्रसाद चौक ,बाघ दुल्हन, मड़ई चौक के आसपास, युसुफपुर ,चिकनौटा, कटरा चौहट्टा, राजेंद्र मोड़ ,पोखरा मोहल्ला, बाबा पातालेश्वरनाथ मंदिर के आसपास का क्षेत्र, पटवाटोली गुदरी बाजार के का पिछला इलाका मेदनी नगर, नगर के अस्पताल रोड, सांची पट्टी , गांधी आश्रम, अंदर किला बागमाली आदि मोहल्लों में लगातार हो रही वर्षा के पानी से भयंकर जलजमाव कायम है। यहां के लोग जलजमाव की समस्या से त्रस्त हैं। परिषद के द्वारा इन क्षेत्रों में पंप लगाकर पानी निकालने की कोशिश की जा रही है, परंतु नतीजा कुछ नहीं निकल पा रहा। समस्या जस की तस बनी हुई है ।अब जगह- जगह नए मकान व्यवसायिक प्रतिष्ठान और सरकारी व गैर सरकारी कार्यालय आदि बन जाने के कारण मरबला चंवर में जल निकासी की रास्ता बंद हो गए हैं। निकासी के संसाधन वही पुराने अब तक हैं। पहले के लिए एक मुख्य नाले बने थे। शहर का पानी मुख्य नालों से मरबला चंवर में गिराया जाता था। निकासी अवरुद्ध हो जाने के कारण शहर का पानी निकल नहीं पा रहा है।

क्षेत्र का नाला जगह-जगह जाम, जिससे भयंकर जलजमाव
शहर के रामजीवन चौक सहित अलग-अलग स्थानों पर पंप लगाकर पानी निकालने की कोशिश की जा रही है, जो विफल साबित हो रही है। नाले जगह जगह पर जाम व अवरुद्ध है। स्थानीय लोग बताते हैं कि रामजीवन चौक में हुए जलजमाव को दूर करने के लिए चौक से लेकर सुभाष चौक तक बने नाले की फिर से उड़ाही करनी होगी, तब जाकर इस क्षेत्र का पानी मुख्य नालों में जाकर गिरेगा। क्षेत्र का नाला जगह जगह पर जाम है, जिससे भयंकर जलजमाव हो गया है। पंप से निकाला जा रहा पानी नाले से ओवरफ्लो कर मुख्य सड़कों पर और लोगों के घरों में घुस रहा है। नगर परिषद के अव्यावहारिक सोच और कार्य के कारण पंप के जरिए मोहल्लों से निकाला जा रहा पानी वापस आ जा रहा है। नाले के जाम रहने के कारण पंप से फेंका गया पानी एक जगह से दूसरे मोहल्ले की सड़कों और घरों में फैल जा रहा है या फिर पानी उसी मोहल्ले में लौट जा रहा है। लोगों का कहना है कि मोहल्ले के पानी की निकासी मरमला चंवर की बजाय सड़कों और घरों में पानी अनावश्यक रूप से पानी पहुंचाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...