पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Theft In The Residence Of Former Minister Prem Kumar, Just Adjacent To The Official Residence Of DGP

हमारी सुरक्षा को लेकर चिंता की 2 खबरें:डीजीपी के सरकारी आवास से सटे पूर्व मंत्री के आवास में चोरी, चेक क्लोन कर पटना कॉलेज के बैंक खाते से 62 लाख निकाले

पटना5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पूर्व मंत्री और विधानसभा की याचिका समिति के सभापति डॉ. प्रेम कुमार के घर चोरी हो गई। प्रेम कुमार का सरकारी आवास 3, सर्कुलर रोड है। इसके ठीक बगल में 2, सर्कुलर रोड डीजीपी एसके सिंघल का आवास है। और 1 किमी की परिधि में मुख्यमंत्री, हाईकोर्ट के जज, विधानसभा अध्यक्ष, विधान परिषद सभापति, उपमुख्यमंत्री जैसे वीवीआईपी के आवास हैं।

चोर ने पूर्व मंत्री के बेटे प्रेम सागर के कमरे की आलमारी में रखे लॉकर को ही चुरा लिया। लॉकर में 2.25 लाख नगद और चांदी का एक कटोरा था। चोरी की जानकारी 17 जुलाई को हुई। उसी दिन प्रेम सागर ने सचिवालय थाने को मामले की जानकारी दी थी। प्रेम कुमार ने बताया कि पुलिस ने चोरों को पकड़ने के लिए हमसे दो दिन का समय मांगा था। वह समय सीमा बीत गई ,तो हमने लोगों को मामले की जानकारी दी।

सर्कुलर रोड में वारदात: इसी इलाके में सीएम, जज व स्पीकर, डिप्टी सीएम जैसे वीवीआईपी का भी आवास
सचिवालय थाने के थानेदार सीपी गुप्ता ने कहा कि छानबीन चल रही है। जल्द ही चोरों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। प्रेम कुमार ने बताया कि वे 10 जुलाई को पत्नी के साथ अपने विधानसभा क्षेत्र गया चले गए थे। उनका स्काॅर्ट भी साथ ही गया था। 11 जुलाई को उनका बेटा प्रेम सागर कोलकाता चला गया। इधर ,13 जुलाई को उनके सरकारी आवास पर तैनात गार्ड को गया एसएसपी के आदेश पर हटा दिया गया।

17 जुलाई की रात बेटा पटना पहुंचा और तौलिया निकालने के लिए आलमारी खोला तो चौंक गया। आलमारी में लॉकर नहीं था। तब पता चला कि घर में चोरी हो गई है। पूर्व मंत्री के घर के बाहर से ही सीढ़ी है जिसका इस्तेमाल सफाई कर्मी करते हैं। आशंका है कि चोर शौचालय के वेंटिलेशन से अंदर घुसे। घर में कहीं तोड़-फोड़ नहीं की।

चेक क्लोन कर पटना कॉलेज के बैंक खाते से 62.80 लाख रु. निकाल लिए

शातिराें ने एक चेक क्लोन कर पटना काॅलेज के खाते से 62.80 लाख रुपए उड़ा लिए। घटना करीब तीन माह पहले हुई है पर काॅलेज प्रशासन काे इसकी जानकारी 17 जुलाई को मिली। खाते में केवल 13 हजार बचा हुआ है। काॅलेज का खाता इलाहाबाद बैंक पटना विवि शाखा में है। प्राचार्य अशाेक कुमार ने बताया कि ओरिजिनल चेक काॅलेज के लाॅकर में बंद है।

20 जुलाई काे पीरबहाेर थाना में इलाहबाद बैंक के पटना विवि शाखा के मैनेजर और कर्मियाें के खिलाफ भूगाेल विभाग के प्राेफेसर माे. नाजिम के बयान पर केस दर्ज किया गया। इन्हीं दाेनाें के ज्वाइंट साइन से काॅलेज के खाते से रकम की निकासी हाेती है। इधर, पीरबहाेर थानेदार सबीह उल हक ने बताया कि पुलिस छानबीन करने में जुटी है।

अहमदाबाद से निकासी: एक टीचर काे दिया 16 हजार का चेक, तो खुला राज, बैंक मैनेजर व कर्मियाें पर केस

प्राचार्य ने बताया कि 17 जुलाई काे एक टीचर काे 16 हजार का चेक दिया गया था। वह चेक बाउंस कर गया। पता चला कि काॅलेज के खाते में रकम मात्र 13 हजार बची हुई है। उसके बाद पता चला कि खाते से 62.80 लाख अवैध रूप से निकासी हाे गई है। अहमदाबाद स्थित एक बैंक के ग्राहक के खाते में गई है। वह खाता सब्जी की एक कंपनी एराॅन के नाम से है।

प्राचार्य ने कहा-इतनी माेटी रकम निकल गई पर जिस बैंक में काॅलेज का खाता है, उसने कंफर्म तक नहीं किया कि चेक किसी काे दिया गया है या नहीं? अब सवाल उठता है कि आखिर कैसे काॅलेज के चेक का क्लाेन हाे गया। कहीं किसी काॅलेज के स्टाफ की मिलीभगत ताे नहीं? यहीं नहीं जिन दाे लाेगाें के साइन से रकम निकलती है ताे उन दाेनाें का हूबहू साइन किसने कैसे कर दिया? क्या स्थानीय बैंक की भी इसमें काेई मिलीभगत है?