• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • There Is A Risk Of Floods In The State Even In September, So You Have To Be Alert, The State Is Helping The Flood Victims In Every Way, If The Central Government Needs It, It Will Also Help.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा:सितंबर में भी राज्य में बाढ़ का खतरा रहता है, इसलिए सचेत रहना ही है, बाढ़ पीड़िताें की राज्य हर मदद कर रहा, केंद्र सरकार को जरूरत लगी तो वह भी मदद करेगी

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में लोगों की समस्याएं सुनते सीएम नीतीश कुमार। - Dainik Bhaskar
जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में लोगों की समस्याएं सुनते सीएम नीतीश कुमार।
  • बाढ़ से नुकसान को देखने के लिए केंद्र से पहले से कहा जा रहा था, टीम तो लेट से आई है, राज्य में कहीं भी सूखा नहीं है

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हम अपने स्तर से बाढ़ पीड़िताें की हर मदद कर रहे हैं। केंद्रीय टीम को भी मदद की दरकार लगेगी, तो केंद्र से भी मदद मिलेगी। वे सोमवार को ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम के बाद मीडिया से मुखातिब थे। उनसे बाढ़ से हुए नुकसान का आकलन करने आई केंद्रीय टीम के बारे में सवाल पूछा गया था।

उन्होंने कहा-अभी कैसे कहा जा सकता है कि अब नदियों का पानी नहीं बढ़ेगा? सितंबर महीने में भी बाढ़ का खतरा रहता है, इसलिए सचेत रहना ही है। राज्य सरकार की तरफ से केंद्र को बाढ़ की रिपोर्ट भेजी जाती है। हर साल केंद्र से आग्रह किया जाता है कि आकर देख लीजिए कि कितना ज्यादा इलाका प्रभावित हुआ है?

बाढ़ से नुकसान को देखने को केंद्र से पहले ही से कहा जा रहा, टीम तो लेट से आई है। दक्षिण बिहार में भी अनेक जगहों पर नुकसान हुआ है। सभी जगहों पर पीड़िताें की मदद की जा रही है। हफ्ते भर पहले करीब 57 लाख लोग बाढ़ से पीड़ित थे। सूखे की स्थिति पर नजर है। जो सूखा से पीड़ित होंगे, उन्हें भी सहायता मिलेगी।

हालांकि, अभी ऐसी कोई सूचना नहीं है। मुख्यमंत्री के अनुसार, छोटी नदियों को जोड़ने से पानी का बचाव होगा, यह आगे के लिए अच्छा होगा। जल संसाधन विभाग इस पर काम कर रहा है। जातीय जनगणना से जुड़े सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के साथ प्रधानमंत्री को सारी बातें बता दी हैं। निर्णय लेना केंद्र सरकार का काम है। अभी जनगणना शुरू नहीं हुई है। विभिन्न राज्यों से इसकी मांग उठ रही है। यह देश के हित में है।

कोरोना के बाद हालात सुधरेंगे
कोरोना काल में बेरोजगारी के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले डेढ़ साल से ज्यादा समय से पूरी दुनिया कोरोना से प्रभावित है। कई चीजों में रुकावट आने से स्वाभाविक रूप से आर्थिक स्थिति पर इसका प्रभाव पड़ा है। अभी सबसे जरूरी यह है कि कैसे हम जल्द से जल्द कोरोना से मुक्ति पाएं। इसको लेकर केंद्र और राज्य सरकार ने मिलकर तेजी से काम किया है। बड़े पैमाने पर टीकाकरण हुआ है।

किसानों के लिए बहुत काम हुआ
किसान आंदोलन से जुड़े सवाल पर कहा कि यह कुछ इलाकों की समस्या है। केंद्र सरकार ने किसानों से कई बार बात की है। हमने किसानों के लिए काफी काम किया है। यहां प्रोक्योरमेंट काफी हो रहा है, इससे किसानों को फायदा हो रहा है। अगर किसान आंदोलन को कोई चुनाव और राजनीति से जोड़ता है, तो यह उन लोगों का काम है, हमें कुछ नहीं कहना।

खबरें और भी हैं...