हत्या के लिए बिल्डर का इंतजार कर रहे शूटर्स गिरफ्तार:पटना में दोस्त ने ही दी डेढ़ लाख की सुपारी, 50 लाख का विवाद

पटना4 महीने पहले

दुर्गा पूजा के दौरान पटना में एक बड़ी आपराधिक वारदात को अंजाम देने की तैयारी थी। राजधानी के बिल्डर की हत्या होने वाली थी। सब कुछ सेट था। 4 दिनों की रेकी के बाद 5वें दिन अपराधी पूरी तैयारी के साथ पहुंचे थे।

लोडेड पिस्टल और देशी कट्‌टा को रेडी मोड में करके बैठे थे। इन्हें बस रात के 9 बजने का इंतजार था। क्योंकि, उसी वक्त वो बिल्डर अपने साइट से घर के लिए निकलने वाला था। लेकिन, अपराधियों की पूरी तैयारी पर पटना पुलिस ने पानी फेर दिया।

कंकड़बाग थाना में खुलासा करते पटना के एसएसपी।
कंकड़बाग थाना में खुलासा करते पटना के एसएसपी।

ऑटो में बैठे थे अपराधी

दरअसल, उसी वक्त महिला सब इंस्पेक्टर अपनी टीम के साथ पेट्रोलिंग करते हुए उस जगह पर पहुंच गई। यहां अपराधी एक ऑटो में बैठकर बिल्डर के आने का इंतजार कर रहे थे। अब शक के आधार पर पुलिस ने इनकी तलाशी ली तो इनके पास से दो हथियार और 13 गोली बरामद हो गई। इसके बाद पुलिस का शक गहरा गया।

फिर दोनों को अपने कब्जे में ले लिया। यह मामला पटना के कंकड़बाग थाना इलाके का है। सोमवार को पटना के SSP मानवजीत सिंह ढिल्लो ने इस केस मामले का खुलासा किया। दो शूटर, लाइनर और साजिश रचने वाले को मिलाकर कुल 4 अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है। एक पिस्टल, एक देशी कट्‌टा और 13 गोली व चोरी की बाइक बरामद की गई है।

बरामद हथियार और मोबाइल।
बरामद हथियार और मोबाइल।

1.70 करोड़ में हुआ था फ्लैट का सौदा
SSP के अनुसार जिस बिल्डर की हत्या करने के लिए अपराधी पहुंचे थे, उनका नाम प्रेम प्रकाश है। कंकड़बाग में साईं मंदिर के नजदीक एक वार्ड पार्षद के घर के पास प्रेम प्रकाश नई बिल्डिंग बनवा रहे हैं। इस साइट पर इनका डेली आना-जाना है। रवि शंकर कुमार पत्रकार नगर थाना के तहत काली मंदिर रोड इलाके का रहने वाला है। यह भी बिल्डर है और प्रेम प्रकाश से इसकी दोस्ती थी। दोनों साथ मिलकर काम कभी करते थे।

MIG इलाके के एक फ्लैट का 1.70 करोड़ में इन लोगों ने सौदा किया था। प्रेम प्रकाश की तरफ से 50 लाख रुपया भी दिया गया था। पर काफी समय बितने के बाद भी फ्लैट का सौदा आगे नहीं बढ़ा। जिसके बाद रवि शंकर को लग रहा था कि उसे वो रुपए वापस प्रेम प्रकाश को लौटाने होंगे। इससे बचने के लिए उसने F सेक्टर के रहने वाले अपने दोस्त गौतम झा के साथ मिलकर प्रेम प्रकाश की हत्या की प्लानिंग ही रच डाली।

बाइक और फोर व्हीलर का मिल चुका था नंबर
गौतम झा के माध्यम से रविशंकर शूटर धर्मेंद्र और उज्जवल के कांटैक्ट में आया। इन दोनों को प्रेम प्रकाश की पूरी डिटेल दी। यहां तक की उसके बाइक और फोर व्हीलर गाड़ी का नंबर व कलर तक बताया। इसके बाद से ही अपराधी वारदात को अंजाम देने में जुट गए। शुरुआती 4 दिन रेकी की।

रविवार की रात हत्या की वारदात को अंजाम देने के लिए साइट के पास पहुंचकर अंधेरे में बिल्डर प्रेम प्रकाश के निकलने का इंतजार कर रहे थे। अपराधी हत्या की वारदात को अंजाम देते कि उसके पहले कंकड़बाग थाना की महिला सब इंस्पेक्टर निशा और उनकी टीम के हत्थे चढ़ गए।

शुरुआती पूछताछ के बाद इन सभी को जेल भेज दिया गया है। कंकड़बाग के थानेदार रवि शंकर के अनुसार अपराधी धर्मेंद्र हत्या और हत्या के प्रयास के दो आपराधिक मामलों पहले भी जेल जा चुका है।