पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटना का पहला समर:पटना के पहले चरण की पांच सीटों में तीन पर त्रिकोणीय मुकाबला, कहीं लोजपा तो कहीं बागी बिगाड़ रहे हैं खेल

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • माेकामा विधानसभा क्षेत्र में अनंत बनाम अशोक की रोचक लड़ाई

(राकेश रंजन) पटना का प्राचीन नाम पाटलिपुत्र...सम्राट अशोक की राजधानी। वह सम्राट जिसके नाम से हिंसा और अहिंसा दोनों का इतिहास भरा पड़ा है। शायद इसीलिए पटना की तासीर में ये दोनों चेहरे आपको आसानी से हर जगह मिल जाएंगे। चुनावी समर में इसका सबसे बड़ा उदाहरण मोकामा विधानसभा क्षेत्र है।

यहां से राजद ने जहां बाहुबली अनंत सिंह को उतारा है, जिनपर गंभीर आपराधिक मामलों समेत 33 केस हैं। उनके सामने हैं जदयू के राजीव लोचन नारायण सिंह, जिनपर न कोई केस और न ही कभी किसी ने सुना है कि उन्होंने मारपीट तो दूर, किसी को तेज स्वर में अपशब्द भी कहे हैं। मोकामा की चौपाल चर्चा में इस मुकाबले को संत बनाम अनंत कहा जा रहा है।

चौपाल में थोड़ी देर रुकिए तो अनेक रोचक कहानियां सुनने को मिलती हैं। एक शख्स जहां यह कहते हुए सुनाई देता है कि पहली बार ऐसे साफ-सुथरे छवि वाले को चुनने का मौका है। वहीं, सामने बैठा शख्स कहता है कि जिसे अपने काम के लिए रिश्वत देनी पड़ती हो, वह हमारा-आपका काम क्या करवाएगा? कमोबेश यही बहस मोकामा के हर चौक-चौराहे-चायवाले के यहां सुनाई देगी। मोकामा में वैसे तो 8 प्रत्याशी हैं। इनमें 3 निर्दलीय हैं। लोजपा से सुरेश सिंह निषाद यहां उतने ही प्रभावी हैं, जैसे राज्य की अधिकतर सीटों पर लोजपा।
30 साल से बाहुबली ही कर रहे मोकामा का प्रतिनिधित्व
तीन दशक से मोकामा विधानसभा का प्रतिनिधित्व बाहुबली ही करते आ रहे हैं। 1990 में पहली बार छोटे सरकार कहे जाने वाले अनंत सिंह के भाई दिलीप सिंह जनता दल से विधायक बने थे वह 1995 में भी जीते। साल 2000 में बतौर निर्दलीय बाहुबली सूरजभान सिंह यहां से विधानसभा पहुंचे। 2005 से अनंत सिंह लगातार मोकामा विधानसभा का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

कहीं सीधी तो कहीं तिकोनी लड़ाई

  • बाढ़: मुकाबला भाजपा के ज्ञानेंद्र सिंह, कांग्रेस के सत्येंद्र बहादुर के बीच है। राजपूत मतदाता ही निर्णायक हैं। यहां 18 प्रत्याशी में 10 से अधिक राजपूत ही हैं। निर्दलीय लल्लू मुखिया भी मैदान में हैं।
  • मसौढ़ी: राजद की वर्तमान विधायक रेखा देवी और जदयू की नूतन पासवान और लोजपा के परशुराम पासवान के बीच यहां मुकाबला त्रिकोणीय है। यादव व दलित-महादलित वोटर निर्णायक हैं।
  • विक्रम: भाजपा के अतुल कुमार और कांग्रेस के सिद्धार्थ सौरभ और निर्दलीय अनिल कुमार के बीच तिकोना संघर्ष है। बागी उम्मीदवार और जातिगत गणित ने भाजपा की यहां मुश्किल बढ़ा दी है।
  • पालीगंज: जयवर्द्धन यादव जदयू में हैं। माले के संदीप सौरभ हैं। लोजपा की ओर से पूर्व विधायक डाॅ. उषा विद्यार्थी भी मैदान में हैं। यहां मुकाबला त्रिकोणीय है। राजद व भाजपा के कट्‌टर समर्थक नाराज हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें