पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • To Save Seemanchal North East Bihar From Floods, 1200 Km Long New Embankment Will Be Built On The Rivers Of Mahananda Basin, In The Last Years The Destruction Has Increased Due To Mahananda

5 फेज में पूरा होगा सबसे बड़ा तटबंध नेटवर्क:सीमांचल-पूर्वोत्तर बिहार को बाढ़ से बचाने के लिए महानंदा बेसिन की नदियों पर बनेगा 1200 किमी लंबा नया तटबंध, पिछले वर्षों में महानंदा से बढ़ी है तबाही

पटना11 दिन पहलेलेखक: आलोक चन्द्र
  • कॉपी लिंक
बिहार में फिलहाल 12 नदी बेसिन में 3790 किमी तटबंध, 40 लाख हेक्टेयर भूभाग बाढ़ से सुरक्षित। - Dainik Bhaskar
बिहार में फिलहाल 12 नदी बेसिन में 3790 किमी तटबंध, 40 लाख हेक्टेयर भूभाग बाढ़ से सुरक्षित।

महानंदा के बाढ़ से परेशान राज्य सरकार अब उसे बांधने की तैयारी कर रही है। यही नहीं बाढ़ लाने वाली इस बेसिन की अन्य नदियों पर भी बांध बनेगा। महानंदा बेसिन की नदियों पर 1200 किलोमीटर लंबा तटबंध बनेगा। इससे सीमांचल के साथ-साथ पूर्वोत्तर बिहार के बड़े हिस्से को बाढ़ से मुक्ति मिलेगी।

जल संसाधन विभाग ने इसकी कार्ययोजना बनानी शुरू कर दी है। जल्द ही डीपीआर पर काम शुरू होगा। हाल के वर्षों में महानंदा और इस बेसिन की अन्य नदियों के नये ट्रेंड ने राज्य सरकार को लगातार परेशान किया है। महानंदा बेसिन की नदियों के कारण इन इलाकों में खूब तबाही हो रही है। पांच फेज में महानंदा बेसिन में तटबंधों का निर्माण होगा।

यह सूबे का सबसे बड़ा तटबंध नेटवर्क होगा। अभी सबसे बड़ा तटबंध नेटवर्क बूढ़ी गंडक का है, जो 780 किलोमीटर का है। महानंदा बेसिन के तटबंधों को दुरुस्त करने और नये तटबंधों के निर्माण की योजना पांच चरणों में पूरी होगी। महानंदा बाढ़ प्रबंधन योजना फेज-1 व फेज-2 के लिए 882 करोड़ की योजना स्वीकृत की गयी है।

फेज-1 के तहत महानंदा बेसिन के निचले हिस्से में पूर्व से निर्मित 95 किलोमीटर तटबंध को सुदृढ़ किया गया है जबकि फेज-2 के तहत महानंदा, रतवा व नागर नदियों पर लगभग 200 किलोमीटर तटबंध का निर्माण किया जाना है। इसी तरह फेज-3, फेज-4 और फेज-5 में 1000 किलोमीटर नये तटबंधों का निर्माण किया जाना है।

बागमती पर भी बनेगा 246 किमी नया तटबंध

बागमती बाढ़ प्रबंधन योजना के तहत बागमती नदी पर 246 किलोमीटर नया तटबंध बनाया जाएगा। इसके अलावा 335 किलोमीटर पूर्व बने तटबंधों को ऊंचा किया जाएगा और उन्हें मजबूत बनाया जाएगा। इसी योजना में बागमती नदी पर सीतामढ़ी जिला के अंतर्गत भारत-नेपाल सीमा से कोसी नदीं के मिलन बिंदु तक पूर्व निर्मित तटबंधों को उंचा और सुदृढ़ किया जाएगा। साथ ही इस बीच में जहां तटबंध नहीं हैं वहां नये तटबंध भी बनेंगे।

बिहार का बाढ़ प्रवण क्षेत्र (हेक्टे में)

  • उत्तर बिहार 44.46 लाख
  • दक्षिण बिहार 24.34 लाख

5000 किमी का नेटवर्क

महानंदा पर नए तटबंधों के निर्माण से सूबे में तटबंधों का नेटवर्क लगभग 5000 किलोमीट लंबा हो जाएगा। इस समय बिहार में 3790 किलोमीटर तटबंध है। सूबे के 12 नदी बेसिन में तटबंधों का निर्माण किया गया है।

खबरें और भी हैं...