• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • To Save The Lives Of 15 People In Bihar, 15 Brain Dead Bodies Are Needed, Liver Has Been Damaged, Now Transplant Will Give Life

IGIMS में लिवर ट्रांसप्लांट OPD खुली:बिहार में 15 लोगों की जान बचाने के लिए चाहिए 15 ब्रेन डेड बॉडी, लिवर हो चुका है डैमेज, अब ट्रांसप्लांट से ही मिलेगी जिंदगी

पटना4 महीने पहले
IGIMS में शनिवार से शुरू हुई लिवर ट्रांसप्लांट OPD, कोरोना से टूट रही थी जिंदगी की उम्मीद।

बिहार में 15 लोगों को जिंदगी के लिए लिवर ट्रांसप्लांट की जरूरत है। इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (IGIMS) में शनिवार से लिवर ट्रांसप्लांट OPD खुली तो इनकी जिंदगी की उम्मीद बढ़ गई है। इसके लिए ब्रेन डेड बॉडी की जरूरत है।

2020 और 2021 में अब तक 15 लोगों ने स्टेट ऑर्गन टीशू ट्रांसप्लांट (SOTTO) में रजिस्ट्रेशन कराया है, जिनके परिवार में कोई लिवर डोनेट करने वाला नहीं है। ऐसे लोगों को ब्रेन डेड से लिवर की आवश्यकता है।

SOTTO से मिली जानकारी के मुताबिक, 2020 में 10 लोगों ने और 2021 में अब तक 5 लोगों ने लिवर ट्रांसप्लांट के लिए रजिस्ट्रेशन कराया। हालांकि, 15 रजिस्ट्रेशन में कितने लोग अभी जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं और कितने हार गए हैं। इसकी जानकारी अपडेट नहीं है।

कोरोना काल में ऑर्गन ट्रांसप्लांट का काम बंद होने से वेटिंग के साथ जान का खतरा भी बढ़ गया। संस्थान के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मनीष मंडल ने बताया कि 11 सितंबर से लिवर ट्रांसप्लांट OPD शुरू हुई है, जिसमें लिवर ट्रांसप्लांट सर्जन हेपोटोगिस्ट एक साथ बैठकर मरीज को देखेंगे। फर्स्ट लिवर सर्जन डॉ. साकेत कुमार, चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मनीष मंडल और लिवर ट्रांसप्लांट सर्जन डॉ. संजय कुमार ने बताया कि अब OPD शुरू होने के बाद ब्रेन डेड का मामला आता है तो वेटिंग वालों का ट्रांसप्लांट संभव हो सकेगा।

पहले रजिस्ट्रेशन कराने वाले को पहले मौका मिलेगा। अब लोगों की वेटिंग धीरे-धीरे कम होगी, लेकिन यह इंतजार तभी कम और खत्म होगा, जब ब्रेन डेड के मामले आएंगे।

खबरें और भी हैं...