6 साल बाद भी दानापुर जंक्शन में नहीं लगी शेड:ए प्लेटफॉर्म से पटना और ए वन से पाटलिपुत्र जंक्शन जाने के लिए खुलती है ट्रेन

पटना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
छह पहले एक नंबर प्लेटफॉर्म पर विस्तार करके ए और ए वन प्लेटफॉर्म बनाया था, यात्रियों को असुविधा - Dainik Bhaskar
छह पहले एक नंबर प्लेटफॉर्म पर विस्तार करके ए और ए वन प्लेटफॉर्म बनाया था, यात्रियों को असुविधा

दानापुर स्टेशन को ए ग्रेड का दर्जा मिला हुआ है। इतना ही नहीं इसे मॉडल स्टेशन का भी दर्जा मिला है। इसके बावजूद भी यात्रियों को प्लेटफॉर्म पर बुनियादी सुविधा नहीं मिल रही है।

मेन लाइन से गुज़रने वाली अधिकांश ट्रेन में 24 बोगी है। लेकिन, प्लेटफॉर्म पर तीन बोगी के बराबर शेड लगा हुआ है। बाकी प्लेटफॉर्म पर जहां-तहां सिटिंग चेयर लगा हुआ है। कोई भी ट्रेन प्लेटफॉर्म पर रुकती है तो इंजन के बगल और सबसे पीछे वाले बोगी से चार-पांच की संख्या में बोगी सामने प्लेटफॉर्म पर शेड नहीं लगा हुआ है।

यात्री ट्रेन पर सवार होेते है लेकिन इंतजार करने के लिए स्टेशन के मेन बिल्डिंग के पास जाना पड़ता है। ट्रेन आने के बाद अंतिम बोगी की तरफ यात्रियों को दौड़ कर जाना पड़ता है।

इतना ही नहीं दानापुर स्टेशन से हर दिन करीब 50 हजार से अधिक यात्रियों का आना-जाना लगा रहता है। यात्रियों के मामले में दानापुर स्टेशन के शहर के दूसरे स्थान पर है। पहले स्थान पर पटना जंक्शन है।

पाटलिपुत्र जंक्शन के ट्रेन को पास करने के लिए दानापुर स्टेशन के एक नंबर प्लेटफॉर्म पर को विस्तार करके दो प्लेटफॉर्म बनाया गया है। ए और ए वन प्लेटफॉर्म बनाया गया है। ए प्लेटफॉर्म से पटना जंक्शन के लिए ट्रेन खुलती है। वहीं ए वन प्लेटफॉर्म से पाटलिपुत्र जंक्शन के लिए ट्रेन खुलती है। दानापुर से गंगा नदी पार जाने वाली ट्रेन ए वन प्लेटफॉर्म से खुलती है। अधिकांश सिटिंग चेयर के उपर शेड नहीं है।

प्लेटफॉर्म पर नहीं टॉयलेट :

दानापुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर पर्याप्त संख्या में टॉयलेट नहीं है। ए प्लेटफॉर्म पर स्टेशन बिल्डिंग में टॉयलेट है। लेकिन,ए वन प्लेटफॉर्म पर टॉयलेट नहीं है। वहीं प्लेटफॉर्म संख्या दो-तीन पर एक जगह टॉयलेट है। चार-पांच पर टॉयलेट नहीं है।

सुविधा की मांग :

यात्री संघ के प्रदेश महासचिव व जेडआरयूसीसी के सदस्य शोएब कुरैशी ने कहा कि दानापुर स्टेशन के ए वन प्लेटफॉर्म पर यात्रियों की सुरक्षा के लिए पुलिस चौकी, शेड, टॉयलेट सुविधा बहाल करने के लिए डीआरएम से कई बार मांग कर चुके है।

खबरें और भी हैं...