• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Under The Patna Smart City Mission, Before The Next Monsoon, The Road To The Mandiri Drain Will Become A Bridge.

बांसघाट के लिए मिलेगा नया मार्ग:पटना स्मार्ट सिटी मिशन के तहत अगले मानसून से पहले मंदिरी नाले को पाट बन जाएगा रोड

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पटना स्मार्ट सिटी मिशन के तहत आयकर गोलंबर से बांसघाट के लिए नया मार्ग मिलेगा। - Dainik Bhaskar
पटना स्मार्ट सिटी मिशन के तहत आयकर गोलंबर से बांसघाट के लिए नया मार्ग मिलेगा।

पटना स्मार्ट सिटी मिशन के तहत मंदिरी नाला परियोजना का कार्य अगले मानसून से पहले पूरा कर लिया जाएगा। परियोजना के पूर्ण होने पर पटनावासियों को आयकर गोलंबर से बांसघाट के बीच कनेक्टिविटी मिलेगी। यातायात की इस वैकल्पिक व्यवस्था से आसपास की सड़कों पर दबाव में काफी कमी आएगी। साथ ही, आसपास के क्षेत्र में रहने वाले लोगों को खुले नाले की बदबू, गंदगी और जलजमाव की समस्या से भी निजात मिलेगी।

पटना स्मार्ट सिटी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक सह नगर आयुक्त अनिमेश कुमार पराशर ने शुक्रवार रात स्थल निरीक्षण कर इस माह के अंत तक 92 मीटर तक नाला और डेक स्लैब का कार्य पूरा करने का निर्देश दिया गया। अभी दो शिफ्ट में कार्य किया जा रहा है।

परियोजना के तहत आयकर गोलंबर से काली मंदिर तक 1,289 मीटर लंबे नाले को ट्विन बैरेल आरसीसी बॉक्स ड्रेन के रूप में विकसित किया जाएगा। नाले के ऊपर 5.5-5.5 मीटर की दो लेन की सड़क बनेगी। करीब 67 करोड़ की लागत की इस परियोजना के तहत नाला जीर्णोद्धार और सड़क निर्माण के साथ नाले के बगल में अन्य आरसीसी डक्ट भी बनाया जाएगा।

जिसमें ओवरहेड बिजली के तार को भूमिगत किया जाएगा। सड़क की एक तरफ सर्विस रोड व फुटपाथ, वेंडिंग जोन, ग्रीन बफर जोन विकसित किया जाएगा। इसके अतिरिक्त सर्विस ड्रेन व सड़क पर स्ट्रीट लाइट और रोड साइनेज का भी प्रावधान होगा।

ओएफसी केबल नेटवर्क बिछाने का काम जनवरी तक हाेगा पूरा

स्मार्ट सिटी मिशन के आईसीसीसी प्रोजेक्ट के तहत राजधानी में कैमरा लगाने और ओएफसी केबल नेटवर्क बिछाने का काम चार चरणों में 14 जनवरी, 2023 तक पूरा कर लिया जाएगा। शनिवार काे प्रमंडलीय आयुक्त सह पटना स्मार्ट सिटी लिमिटेड के अध्यक्ष कुमार रवि के समक्ष एल एंड टी के प्रतिनिधि द्वारा यातायात नियंत्रण, साईन बोर्ड, पब्लिक एड्रेस सिस्टम, वाहन गति उल्लंघन सूचना, स्वचालित नंबर प्लेट पहचान तंत्र स्थापित करने की प्रगति की रिपोर्ट प्रस्तुत की गई।

बताया गया कि शहर में 30 स्थानों पर एडेप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम, 15 स्थानों पर वैरिएवल मैसेज साईन बोर्ड, 50 स्थानों पर पब्लिक एड्रेस सिस्टम एवं इमरजेंसी कॉल बॉक्स , 10 स्थानों पर स्पीड व्यालेशन डिटेक्शन, 25 स्थानों पर ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकॉग्निशन और 5 स्थानों पर इनावयरमेंटल सेंसर लोकेशन प्रणाली स्थापित किया जाना है। 220 किमी में ओएफसी केबल नेटवर्क बिछाया जाना है। 2,588 कैमरे लगने हैं।

खबरें और भी हैं...