बैठक:जनहित के मुद्दों के निष्पादन में विस समितियां बेहद प्रभावी

पटनाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्पीकर ने दूसरे दिन भी विधानसभा की नवगठित कमेटियों के सभापतियों के साथ की बैठक

विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि जनहित के मुद्दों के निष्पादन में विधानसभा की समितियां बेहद प्रभावी हैं। स्पीकर ने दूसरे दिन भी विधानसभा की नवगठित कमेटियों के सभापतियों के साथ बैठक की। गुरुवार को उन्होंने नवगठित लोक लेखा समिति, प्राक्कलन समिति व पुस्तकालय समिति की प्रथम बैठक को संबोधित किया।

कहा- विधानसभा की तीनों वित्तीय समितियों में लोक लेखा समिति काफी महत्वपूर्ण है। उन्हें यह उत्तरदायित्व दिया गया है कि वह सीएजी के प्रतिवेदनों की जांच करें। उनके द्वारा वित्त विभाग व प्रधान महालेखाकार के सहयोग से सरकार द्वारा खर्च किये गये धन का लेखा-जोखा रखा जाता है।

समय-समय पर समिति द्वारा विकास कार्य में त्रुटियों को भी उजागर किया जाता है, ताकि विकास कार्य लगातार सुचारु रूप से होता रहे। उन्होंने समिति के सभी सदस्यों से मामलों के त्वरित निष्पादन की अपील की। इस दौरान समिति के सभापति सुरेन्द्र प्रसाद यादव, अन्य सदस्य, प्रधान महालेखाकार पीके सिंह, प्रधान वित्त सचिव एस. सिद्धार्थ मौजूद थे।
नए पुस्तकालयों की स्थापना और अन्य पुस्तकालयों की समीक्षा करेगी पुस्तकालय समिति

स्पीकर ने कहा कि यह समिति पहले सिर्फ विधानसभा पुस्तकालय के संबंध में ही विचार-विमर्श करती थी। लेकिन, अब यह समिति राज्य के अन्य नये पुस्तकालयों के सृजन, राज्य में सरकार द्वारा संपोषित व निबंधित पुस्तकालयों के क्रियाकलापों की समीक्षा भी करेगी। साथ ही राज्य में जनता के लिए उपयोगी बनाने के लिए अनुशंसा करेगी।

विधानसभा पुस्तकालय में भी डिजिटलाइजेशन के माध्यम से पुस्तकों का डेटाबेस बना है। विधानसभा की कार्यवाहियों का भी डिजिटलाइजेशन हुआ है। विधानसभा सचिवालय द्वारा एक पत्रिका के प्रकाशन पर विचार किया जा रहा है। इस दौरान समिति के सभापति सुदामा प्रसाद व सदस्यगण भी मौजूद थे। इन सभी समितियों की बैठक में विधानसभा के सचिव राजकुमार सिंह भी उपस्थित थे।

प्राक्कलन समिति की बैठक को संबोधित करते हुए अध्यक्ष ने कहा कि संसदीय परंपरा में समिति प्रणाली का निर्माण विधायिका का कार्यपालिका से समन्वय स्थापित कर जनहित के कार्यों को करने के लिए किया गया है। प्राक्कलन समिति एक महत्वपूर्ण वित्तीय समिति है, जिसका दायित्व बहुत व्यापक है। उनकी बड़ी जिम्मेदारी है कि वह इसको देखे कि लोकनिधि का जनहित में व्यापक उपयोग हो। इस दौरान समिति के सभापति नंदकिशोर यादव भी मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...