• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • When Police Lathi Niece, Students Hurled Riots, Many Jawans And Protesters Injured, Case Registered Against 500, Four Arrested

राजेंद्रनगर टर्मिनल पर बवाल:पुलिस ने भांजी लाठी तो छात्रों ने की रोड़ेबाजी, कई जवान और प्रदर्शनकारी घायल, 500 पर केस दर्ज, चार गिरफ्तार

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डीएम, एसएसपी और रेल एसपी के समझाने का भी असर नहीं, पुलिस लाइन से मंगानी पड़ी फोर्स। - Dainik Bhaskar
डीएम, एसएसपी और रेल एसपी के समझाने का भी असर नहीं, पुलिस लाइन से मंगानी पड़ी फोर्स।

रेलवे की एनटीपीसी परीक्षा के रिजल्ट में धांधली का आरोप लगाते हुए आक्रोशित 10 हजार से अधिक अभ्यर्थियों ने सोमवार को राजेंद्रनगर टर्मिनल पर जमकर बवाल किया। इससे करीब 9 घंटे तक ट्रेन परिचालन बाधित रहा। काफी समझाने के बाद भी ट्रैक खाली करने को तैयार नहीं हुए तो पुलिस ने रात 8 बजे के बाद लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े। इससे प्रदर्शनकारी और उग्र हो गए। पुलिस पर पथराव करने लगे। प्रदर्शनकारियों के पथराव से कुछ पुलिसकर्मी, तो लाठीचार्ज से चार-पांच अभ्यर्थी घायल हुए। इसके बाद ट्रैक खाली करा लिया गया।

रात 10:05 बजे से रेल परिचालन सामान्य हो पाया। अप में सबसे पहले 12303 हावड़ा-नई दिल्ली पूर्वा एक्सप्रेस को 10:24 बजे गुलजारबाग से राजेंद्रनगर टर्मिनल के लिए प्रस्थान किया गया। डाउन में सबसे पहले 03280 पटना-मोकामा स्पेशल ट्रेन 10:22 बजे पटना से राजेंद्रनगर टर्मिनल के लिए चलाई गई।

अभ्यर्थियों ने दिन के एक बजे से ट्रैक पर कब्जा जमा लिया था। पहले प्लेटफॉर्म नंबर तीन के ट्रैक पर उतर कर एक मालगाड़ी को रोक दिया। यह सूचना रेलवे कंट्रोल को मिली, तब इस रूट से गुजरने वाली सभी ट्रेनों को जहां-तहां रोक दिया गया। इसी बीच करीब पांच बजे एक नंबर प्लेटफॉर्म पर राजेंद्रनगर-नई दिल्ली तेजस राजधानी एक्सप्रेस आकर लगी।

तब छात्र और उग्र हो गए। तेजस के आगे भी प्रदर्शन करने लगे। छात्रों के उग्र तेवर देख तेजस को बैक कर वापस यार्ड में लगा दिया गया। राजधानी और संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस समेत पांच ट्रेनों का परिचालन रद्द कर दिया गया और तीन ट्रेनों का रूट बदला गया।

इस मामले में 500 अज्ञात प्रदर्शनकारियों पर मामला दर्ज किया गया है। चार प्रदर्शनकारी गिरफ्तार भी किए गए हैं। घटना का वीडियो फुटेज पुलिस को मिला है। स्टेशन के सीसीटीवी कैमरे के फुटेज को भी निकाला जा रहा है। इस वीडियो फुटेज से तोड़फोड़ और पथराव कर रहे अभ्यर्थियों की पहचान कर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

ये ट्रेनें हो गईं रद्द

  • 12309 राजेंद्रनगर-नई दिल्ली तेजस राजधानी एक्सप्रेस
  • 12393 राजेंद्रनगर-नई दिल्ली संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस
  • 13288 राजेंद्रनगर टर्मिनल-दुर्ग साउथ बिहार एक्सप्रेस
  • 12352 राजेंद्रनगर टर्मिनल-हावड़ा एक्सप्रेस
  • 13201 पटना-लोकमान्य तिलक टर्मिनस एक्सप्रेस

ये ट्रेनें परिवर्तित मार्ग से चलाई गईं

  • 12367 भागलपुर-आनंद विहार टर्मिनस विक्रमशिला एक्सप्रेस : वाया किऊल, गया, पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन।
  • 13402 दानापुर-भागलपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस : वाया पटना, पाटलिपुत्र, शाहपुर पटोरी, बरौनी, मुंगेर।
  • 18626 हटिया-पूर्णिया कोर्ट एक्सप्रेस : वाया पटना, पाटलिपुत्र, शाहपुर पटोरी, बरौनी, मानसी।

आंशिक समापन/प्रारंभ कर चलाई गईं ट्रेनें

  • 20802 नई दिल्ली-इसलामपुर मगध एक्सप्रेस का आंशिक समापन पटना जंक्शन पर किया गया।
  • 18623 इस्लामपुर-हटिया एक्सप्रेस इस्लामपुर के बदले पटना से रांची के लिए खुली।

आधा घंटा रणक्षेत्र बना रहा इलाका, टर्मिनल के बाहर खड़ी गाड़ियों में भी की तोड़फोड़
पटना | रेल पुलिस द्वारा लाठीचार्ज के बाद प्रदर्शनकारी भी रोड़ेबाजी करने लगे। इस दौरान करीब आधा घंटा तक राजेंद्रनगर टर्मिनल का परिसर और आसपास का इलाका रणक्षेत्र में तब्दील हो गया। छात्रों ने टर्मिनल के बाहर खड़े कई वाहनों में तोड़फोड़ की और टिकट काउंटर भी बंद करा दिया। इसके बाद खदेड़ा-खदेड़ी के क्रम में कु़छ छात्र रेलवे लाइन पकड़कर पूरब की तरफ और कुछ पटना जंक्शन की तरफ भागे।

सड़क पर भी भागमभाग के क्रम में कुछ देर के लिए ट्रैफिक ठहर सा गया। पूरब तरफ भागे छात्रों ने राजेंद्रनगर कोचिंग कॉम्प्लेक्स में खड़ी ट्रेनों व रेल सामग्रियों में भी तोड़फोड़ कर अपने गुस्से का इजहार किया। मौके पर दानापुर मंडल के डीआरएम प्रभात कुमार, पटना डीएम डॉ. चंद्रशेखर सिंह व एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लाे भी पहुंचे और अपने स्तर से छात्रों को काफी समझाने का प्रयास किया।

लेकिन, आंदोलनकारी छात्र ट्रैक से नहीं हटे। अधिकारियों के जाने के थोड़ी देर बाद पुलिस ने पहले चेतावनी स्वरूप छात्रों से हटने की अपील की, लेकिन छात्रों पर इसका कोई असर नहीं हुआ। इसके बाद पुलिस की ओर से लाठीचार्ज के साथ आंसू गैस के गोले छोड़े जाने लगे। और छात्रों की ओर से रोड़ेबाजी की जाने लगी।

ट्रेनें रद्द होने से घंटों इंतजार के बाद घर लौट गए यात्री
पटना | राजेंद्रनगर टर्मिनल और आरा स्टेशन पर छात्रों द्वारा ट्रेनों काे रोके जाने के कारण सोमवार को रेल यात्रियों को भारी फजीहत हुई। इसका असर इतना व्यापक हुआ कि कड़ाके की ठंड में दिन के 1 बजे से देर रात तक पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन से झाझा के बीच मेन लाइन पर ट्रेनों का परिचालन बाधित रहा। देर रात तक 30 से अधिक ट्रेनें जहां-तहां रुकी रहीं। पटना जंक्शन पर दानापुर-भागलपुर इंटरसिटी, कोसी एक्सप्रेस, मेमू पैसेंजर ट्रेन समेत आधा दर्जन ट्रेनें खड़ी थीं।

फतुहा स्टेशन प्रबंधक रंजीत कुमार के मुताबिक तीन नंंबर प्लेटफार्म पर धनबाद इंटरसिटी एक्सप्रेस शाम चार बजे से खड़ी रही। प्लेटफार्म नंबर छह पर दिल्ली जाने वाली मगध एक्सप्रेस साढ़े चार बजे से खड़ी रही। वहीं फतुहा से बक्सर जाने वाली शटल सवारी गाड़ी प्लेटफार्म संख्या सात पर खड़ी रही। इस सवारी गाड़ी को बक्सर के लिए 4 बजकर 20 मिनट पर खुलना था।

इस्लाम पुर से फतुहा पहुंची मगध एक्सप्रेस को रूट बदलकर दिल्ली के लिए रवाना किया गया। मगध एक्सप्रेस को अप लाइन से बंकाघाट स्टेशन भेजा गया, वहां से वह डाउन लाइन होते हुए किऊल स्टेशन भेजा जाएगा। वहां से मगध एक्सप्रेस गया होते हुए दिल्ली के लिए रवाना हो जाएगी। पूर्व मध्य रेल के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि सबसे पहले जहां-तहां फंसी हुई लंबी दूरी की सुपर फास्ट मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों को निकाला गया।

मेन लाइन में अप और डाउन दोनों लाइन में बड़ी संख्या में ट्रेनों के जहां-तहां फंसे रहने के कारण धीरे-धीरे ट्रेनों को निकाला जा रहा है। माना जा रहा है कि कम से कम 30 से अधिक ट्रेनें जहां के तहां फंसी हुई हैं, ऐसे में उन्हें निकालकर गंतव्य तक पहुंचाना रेलवे की प्रायरिटी में है। इस प्रक्रिया में पूरी रात का वक्त लग सकता है और मंगलवार को ट्रेनों का सामान्य परिचालन पहले की तरह संभव हो सकेगा।

खबरें और भी हैं...